BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

सोमवार, नवंबर 30, 2009

युवाओ को चुनोती देता है ये वरिष्ठ नागरिक जोड़ा



सिरसा (प्रदीप सचदेवा )"जीवन का अन्तिम पड़ाव इसकी साँझ नहीं होता बल्कि ये तो एक नये दिन कि शुरुआत होती है", यह वो सन्देश है जो एक वरिष्ट स्विस नागरिक जोड़ा अपनी साइकिल यात्रा के माध्यम से देता हुआ पूरे विश्व की यात्रा पर है.63 वर्षीय हम्मान और 53 वर्षीय उर्नी विश्व के 9 देशो का साइकिल पर 8000 किलोमीटर यात्रा कर गत दिवस सिरसा पहुँचे.उन्होंने अपने इस प्रवास के दौरान स्थानीय होटल सिटी वियु में रूककर सिरसा को बहुत गहराई से देखा.यहीं पर इस जोड़े ने मल्टीलिंकर्स डोट कॉम के निदेशक प्रदीप सचदेवा के साथ अपनी इस यात्रा के अनुभवो को साँझा किया . उन्होंने बताया कि अपने जीवन के सभी जिम्मेवारिओं को पूरा करने के बाद उन्होंने तन और मन से जवान रहने के मकसद से ये यात्रा का फैसला लिया था,अब इस यात्रा को करते हुए वे अनुभव करते हैं कि उनका फैसला ठीक था.हम्मान बताते हैं कि उनके 35 -33 वर्षीय दो पुत्र हैं जो कि दोनों शादी शुदा हैं और आनंदपूर्वक अपना जीवन जी रहे हैं.अपने कारोबार से फारिग होने के बाद जब उन्होंने अपने बेटों के सामने इस यात्रा करने कि इच्छा प्रगट कि तो उन्होंने न केवल इसमें ख़ुशी जताए बल्कि उन्हें इसके लिए हर तरह का सहयोग देकर उत्साहित भी किया.भारत के बारे में उर्नी को जो सबसे अच्छा लगा वो था यहाँ के लोगो का अपनापन और उनके प्रति रोमंच.
वे कहती हैं कि भारत के लोगों के लिए वे लोग किसी दूसरे ग्रह के प्राणियों से कम नहीं है,यहाँ तक कि लोग उन्हें छु कर तसल्ली करते हैं कि वे भी इंसान ही हैं.धर्म-सम्प्रदाय के बारे में पूछने पर ये जोड़ा कहता है कि सभी सबसे पहले इंसान ही हैं,धर्म -सम्प्रदाय इसके बाद आते हैं.भारत में वाघा बोर्डर से प्रवेश करने के बाद जब उन्होंने स्वर्ण मंदिर के अमृतसर में दर्शन किये तो उनका अनुबव बहुत अनूठा था.भारत में उनका प्रवास छे महीने का है जिसमे वे हरियाणा के बाद राजस्थान और तमिलनाडु देखेंगे.जिसके बाद वे लगभग आधा दर्जन और देशो का दौरा करेंगे.अगले पड़ाव के लिए जाने से पहले लोगों के नाम दिए सन्देश में इस दम्पति ने कहा कि हमें हमेशा अग्रणी पंक्ति में ही रहना चहिये और जीवन को प्रगतिशील सोच से आगे बढ़ाना चाहिए,वास्तविक ख़ुशी इसी से मिलती है.जो भी हो उर्नी और हम्मान की साइकिल द्वारा पूरे विश्व की यात्रा युवाओं को भी चुनोती देती दिखाई देती है और बोहुतो को जीवन को नये अंदाज में जीने की प्रेरणा देती है. होटल के संचालक रमेश मेहता और इस संवाददाता से शुभकामनाएं स्वीकार कर ये उर्जावान जोड़ा आगे बढ़ गया.

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज