BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

गुरुवार, नवंबर 26, 2009

भारत जीत से छेह कदम दूर

कानपुर. फॉलोऑन खेलने आई श्रीलंका ने चार विकेट खोकर 57 रन बना। एक बार फिर महेला जयवर्धने रन आउट होकर पैवेलियन वापस लौट गए। उन्हें युवराज ने आउट किया। हरभजन सिंह की सटीक गेंदबाज़ी के चलते संगकारा को 11 रन पर आउट किया।

भारत को पहली सफलता श्रीसंथ ने दिलाई। उन्होंने दिलशान को आउट किया। श्रीसंथ के बाद श्रीलंका पर दूसरा प्रहार सहवाग ने परनाविताना को चलता किया।

कानपुर टेस्ट के तीसरे दिन के अंतिम सत्र में श्रीलंका की पारी 229 रन पर सिमट गई समेटने के बाद भारत को 413 रनों की बढ़त मिली है।ये भारत की श्रीलंका से हुए अब तक के मुकाबलों में सबसे बड़ी बढ़त है।

श्रीसंथ की सटीक गेंदबाज़ी की बदौलत भारत ने श्रीलंका को पर मजबूर कर दिया है। भारत को यह मौका पंद्रह साल के बाद मिला है। इससे पहले 1994 में लखनऊ में हुए मुकाबले में श्रीलंका को फॉलोऑन खिलाया था। 1987 में कटक में हुए टेस्ट में श्रीलंका को पारी के अंतर से हराया था।

करियर का दूसरा विकेट लेते हुए ओझा ने मुरलीधरन को आउट किया। श्रीलंका अंतिम विकेट हरभजन ने लिया।

लंच के बाद शुरु हुए मैच में श्रीसंथ ने अपनी गेंदबाज़ी से क़हर बरपाते हुए पाँच विकेट झटके। हेराथ उनका पाँचवा शिकार बने।

अपने करियर का पहला मैच खेल रहे प्रज्ञान ओझा ने अर्धशतक की ओर बढ़ रहे महेला जयवर्धने को आउट कर पहला अंतरराष्ट्रीय विकेट लिया।

श्रीसंथ ने अपना कहर जारी रखते हुए प्रसन्ना जयवर्धने को भी आउट किया। शीर्ष के विकेट सस्ते में खोने के कारण श्रीलंका पर फॉलोऑन का खतरा मंडरा रहा है।

लंच पर जाने से पहले श्रीसंत ने भारत को सही शुरुआत देते हुए परनाविताना के बाद संगकारा और समरवीरा को भी पैवेलियन की राह दिखाई। श्रीसंत के बाद हरभजन ने भी दबाव बनाते हुए मैथ्यूज़ को बोल्ड किया।


26/11 के शहीदों के लिए दो मिनिट का मौन-- 26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले में मारे गए लोगों को भारतीय टीम ने गुरुवार का खेल शुरु होने से पूर्व दो मिनिट का मौन रखकर श्रद्धांजली दी।

इससे पहले कानपुर टेस्ट का दूसरा दिन भी भारत के नाम रहा। दिन का खेल खत्म होने तक श्रीलंका ने एक विकेट के नुकसान पर 66 रन बनाए।

भारत को शानदार शुरुआत देते हुए ज़हीर ख़ान ने पहली सफलता दिलाई। उन्होंने पहले टेस्ट के शतकवीर दिलशान को शून्य पर पैवेलियन वापस भेज दिया। श्रीलंका की ओर से सबसे सफल गेंदबाज़ हेराथ रहे। उन्होंने पाँच विकेट झटके।

दूसरा दिन

दिन की बेहतरीन शुरुआत करते हुए भारत की दीवार कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ ने पहले टेस्ट का फार्म बरकरार रखते हुए अपने 28वाँ शतक पूरा किया। पर वो बदकिस्मति से 144 रन पर रन आउट हो गए।

भारत की ओर से गंभीर ने 167, राहुल द्रविड़ ने 144 और सहवाग ने 131 रनों की शतकीय पारी खेली। इसके अलावा युवराज ने 67 रन बनाए। युवराज के करियर का यह आठवां अर्धशतक है।

भारत पर दोहरा प्रहार करते हुए हेराथ ने लगातार धोनी(4) और लक्ष्मण(63) के विकेट झटक लिए। बल्लेबाज़ों की एशगाह ग्रीन पार्क में वीवीएस लक्ष्मण ने भी अपना 41वाँ अर्धशतक बनाकर हेराथ का शिकार बने।

पहला सत्र

भारत ने पहले दिन के स्कोर, 417 पर दो, से शुरुआत करते हुए बहुत जल्द 500 का आंकड़ा छू लिया। राहुल द्रविड़ ने भी अपना 28वाँ शतक पूरा किया। इसी बीच भारत ने सचिन तेंदुलकर का विकेट खोया। सचिन ने 40 रन बनाए। इसके बाद द्रविड़ भी 144 पर रनआउट हो गए।

स्कोर: भारत 535/4, लक्ष्मण 31, युवराज 19

दूसरा सत्र

लंच के बाद के खेल में लक्ष्मण और युवराज ने अर्धशतक पूरे किये। इस सत्र में भारत ने लक्ष्मण, धोनी और हरभजन सिंह के विकेट खोए। तीनों विकेट हेराथ ने लिए।

स्कोर: भारत 639/7, युवराज 66

अंतिम सत्र

चाय के बाद शुरु हुए मैच में भारत अपनी पारी को अधिक नहीं बढ़ा पाया। आखिरी तीन विकेट जल्दी-जल्दी गिर गए और पारी 642 पर सिमट गई। इसके बाद खेलने आई श्रीलंका को ज़हीर ख़ान ने शुरुआती झटका देते हुए दिलशान को धाराशाई किया।

स्कोर: भारत 642/10, श्रीलंका 66/1, परनाविताना 30, संगकारा 30

पहला दिन

गौतम गंभीर ने उम्दा प्रदर्शन जारी रखते हुए अपना शतक पूरा किया। गंभीर का यह करियर का आठवाँ व इस श्रृंखला का दूसरा शतक है। दूसरे टेस्ट मैच का पहला दिन भारत के नाम रहा। भारत को अच्छी शुरुआत देते हुए सहवाग ने 131 तथा गंभीर ने 167 रनों की पारी खेली।

राहुल द्रविड़ ने भी करियर का 58वाँ अर्धशतक बनाया। भारत का पहला विकेट 233 के स्कोर पर सहवाग के रूप में गिरा। उन्हें मुरलीधरन ने दिलशान के हाथों कराया। इसके बाद दिन के हीरो रहे गौतम गंभीर 167 रन के स्कोर पर मुथैया मुरलीधरन के हाथों आउट हुए।

श्रीलंका की ओर से मुथैया मुरलीधरन सबसे सफल गेंदबाज़ रहे। उन्होने गंभीर और सहवाग के विकेट झटके। भारत के विशाल स्कोर में बड़ा हाथ श्रीलंका का लचर क्षेत्ररक्षण भी रहा। श्रीलंका को सबसे भारी वीरू का कैच शून्य पर छोड़ना पड़ा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज