BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

रविवार, नवंबर 08, 2009

एक नदी सोना उगलती है


उस नदी के तट जो गुरबत में जी रहे वनवासियों के लिए सोना उगलती है। अभी नदी में पानी कम है। घुटने तक। बेतिया जिला मुख्यालय से सौ किमी दूर स्थित इस नदी में कुछ लोग मेड़ बना रहे हैं, कुछ बालू और कंक्रीट से सोना निकाल रहे हैं। सुनकर आश्चर्य हो रहा है, लेकिन बात है बिल्कुल सच। मेरे सामने खैरहनी दोन के परदेशी महतो, जीतन महतो, महेंद्र महतो, विशुन महतो और जमवंती देवी समेत कई लोग काठ के डोंगा, ठठरा, पाटा और पाटी के साथ नदी की धार से सोना निकाल रहे हैं। इसी बीच, परदेशी महतो जंगली पेड़ जिगरा की छाल के लेप से लबालब सतसाल की लकड़ी पर कुछ बालू और सोना लिए पहुंचे। साहब देखिए यह सोना है, यह है बालू। निकालने की तरकीब? पूछने पर बताते हैं-पहले नदी में मेड़ बांधते हैं, फिर डोगा लगाते हैं, तब उस पर ठठरा रखते हैं। पत्थर ठठरे के ऊपर, बालू डोगा के अंदर। फिर बालू की धुलाई। तब बालू सतसाल की काली लकड़ी पर, फिर धुलाई, तब जाकर दिनभर में निकलता है एक से दो रत्ती सोना। इतने पर बात खत्म नहीं होती। इसके आगे जानिए। सतसाल की पटरी से सोने के कण को उठाकर जंगली कोच के पत्ता पर सोहागा के साथ रखते हैं। आग में तपाते हैं, तब जाकर बिक्री लायक होता है यह सोना। दिनभर की कमाई एक से दो रत्ती सोना। यानी बिचौलिए खरीदारों से मिलने वाले दो या ढाई सौ रुपये। वनवासियों के मुताबिक गांव में ही सेठ साहूकार आकर इन्हें खरीद लेते हैं। दर पूछने पर बताते हैं, ये लोग जो देते हैं, उतने में ही बेच देते हैं। मालूम हो कि हिमालय की तलहटी से निकली यह नदी नेपाल की पहाडि़यों से होकर वाल्मीकिनगर में सोनाहां व हरनाटांड़ से लेकर रामनगर प्रखंड के दोन इलाकों में कहीं पचनद तो कहीं हरहा के नाम से जानी जाती है। नदी में मिलने वाले सोने के कण को गर्दी दोन, खैरहनी,कमरछिनवा दोन, पिपरहवा, मजुराहा व वाल्मीकिनगर के अलावा कई सीमावर्ती गांवों के लोगों के लिए कुछ माह तक रोजगार देते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज