BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

मंगलवार, दिसंबर 08, 2009

कामगार यूनियन संबंधित सीटू द्वारा महंगाई को लेकर आहूत देशव्यापी हड़ताल का डबवाली में व्यापक असर


डबवाली (सुखपाल)-भवन निर्माण कामगार यूनियन संबंधित सीटू द्वारा महंगाई व अपनी अन्य मांगों को लेकर आहूत देशव्यापी हड़ताल का डबवाली में व्यापक असर देखने को मिला। भवन निर्माण कामगार यूनियन के सदस्यों ने हड़ताल के कारण अपने कामकाज को बंद रखा जिससे भवन निर्माण कार्य ठप्प हो कर रह गया। भवन निर्माण कामगार यूनियन ने मांगों लेकर शहर में रोष प्रदर्शन किया और प्रधानमंत्री के नाम पर संबोधित एक ज्ञापन उपमंडल अधिकारी सुभाषा गाबा को सौंपा। प्रदर्शन का नेतृत्व जसवंत सिंह रंधावा सलाहकार जिला कमेटी हरियाणा सर्व कर्मचारी संघ ने किया। इस मौके पर किसान सभा के प्रधान प्रहलाद सिंह भारूखेड़ा, भवन निर्माण कामगार यूनियन के ब्लाक प्रधान नत्थू राम, माला राम भारू खेड़ा, सुखदेव सिंह, बलजिंद्र सिंह डबवाली, मनदीप सिंह, बलदेव सिंह, निरंजन सिंह, जसवंत सिंह सहित भारी संख्या में कामगार मजदूर उपस्थित थे। इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए नत्थू राम प्रधान भवन निर्माण कामगार यूनियन ने बताया कि मंगलवार को नगर के रेवले फाटक के पास स्थित लेबर चौंक पर सभी कामगारों ने एकत्रित हो कर वहां से रोष प्रदर्शन आरंभ किया जो कि कालोनी रोड़ से होता हुए उपमंडलाधीश के कार्यालय परिसर में पहुंचा। शहर में प्रदर्शन के बाद मजदूरों ने उपमंडल अधिकारी सुभाष गाबा के मार्फत देश प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपा जिसमें सरकार से कामगार मजदूरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ-भवन एवं अन्य सहनिर्माण कर्मकार कल्याण कानून 1996 सभी प्रदेशों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू करने, राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना को पूरे देश मजदूरों पर लागू करने, आवासीय क्षेत्रों में विदेशी निवेश योजना को 100 प्रतिशत तक वापिस लेने, केंद्र व राज्य सरकारों ढांचागत परियोजनाओं के लिए वार्षिक बजट में से धन मुहैया करवाने, भवन निर्माण सामग्री हुई बढ़ोतरी को वापिस लेने, लाखों प्रवासी मजदूरों को सुरक्षा देने की, विदेशों में बंद मजदूरों को रिहा करवाने व आवासीय अधिकार को मौलिक अधिकार में शामिल किये जाने की मांगे की गई।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज