Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: लोकतन्त्र में जीत गया लाठी तंत्र
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
मुम्बई ।वालीवुड दुनिया में धमाका मचाने वाले किंग खान शाहरुख शिवसेना प्रमुख बालठाकरे के आगे नतमस्तक हो गये। जबकि खुद शाहरुख कहते है कि उन्हें...
मुम्बई ।वालीवुड दुनिया में धमाका मचाने वाले किंग खान शाहरुख शिवसेना प्रमुख बालठाकरे के आगे नतमस्तक हो गये। जबकि खुद शाहरुख कहते है कि उन्हें नहीं मालूम कि उन्होंने अपने को हिन्दुस्तानी कह कर क्या गुनाह कर दिया। शाहरुख ने कहा कि जब दो लोगो के बीच विचारों को लेकर मतभेद हो तो कुछ गुंजाईश जरुर छोउऩी चाहिये ताकि अपनी बात साबित करने का मौका मिल सके। शाहरुख के बयान से साफ है कि बॉलीवुड का बादशाह हार गया और कागज के शेर जीत गए। महाराष्ट्र के सियासी गुंडों के सामने अभिव्यक्ति की आजादी हार गई। शाहरुख ने अपने बच्चों से माफी मांगी है और फिल्म से जुड़े तमाम लोगों से माफी मांगी है। साफ है कि बाल ठाकरे, उद्धव ठाकरे और राज ठाकरे की गुंडागर्दी यूं ही चलती रहेगी और महाराष्ट्र सरकार हालात का जायजा ही लेती रहेगी।
महाराष्ट्र में अभिव्यक्ति की आजादी का गला घोंटने की कोशिश की जा रही है। शाहरुख इस बात की हकीकत जान चुके हैं, इसीलिए एक फ्रीडम फाइटर के बेटे को अपने संस्कारों की दुहाई देनी पड़ रही है। शाहरुख ने कहा कि मैंने कहा क्योंकि मैं इस पर भरोसा करता हूं। मैं कोई विवाद पैदा नहीं करना चाहता। मैं नेता नहीं हूं, बस एक एक्टर हूं। क्या एक एक्टर को अपनी बात रखने का हक नहीं ?
शाहरुख ने पूछा कि क्या हमारे संस्कार गलत हैं? क्या जिंदगी भर जो कुछ हमने सीखा वो सब बेकार है ? आजादी की लड़ाई में शामिल होने वाले मेरे पिताजी ने जो संस्कार मुझे दिए हैं, क्या वो गलत हैं ? क्या जो सीख मैं अपने बच्चों को देता हूं, वो गलत है ?
शाहरुख ने पूछा कि क्यों एक आजाद देश में डर लगता है? इस पूरे वाकये ने डर का माहौल पैदा कर दिया है? फिल्म का विरोध क्यों? क्यों थियेटर मालिकों को पोस्टर उतारने की धमकी दी जा रही है? मेरे सहयोगी इसकी वजह से परेशान हो रहे हैं। मैं दुखी हूं क्योंकि करन-काजोल सभी परेशान हैं। मैं समझ नहीं पाता कि इन सबके बीच फिल्म कहां से आ गई।
शाहरुख ने कहा कि इसके साथ काफी लोग जुड़े हुए हैं। इसलिए मैं हर किसी को साथ देने के लिए नहीं कहता। कई लोगों के इससे जिंदगी और बिजनेस जुड़े हैं।
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें