Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: सिम्पा जैन के गैरजिम्मेदाराना रवैये के चलते शहर में अनियमित कॉलोनियों में प्लॉटों की रजिस्ट्रीयां शुरू होने के आसार मन्द-- गुरजीत सिंह
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली-पालिकाध्यक्षा सिम्पा जैन के गैरजिम्मेदाराना रवैये के चलते शहर में अनियमित कॉलोनियों में प्लॉटों की रजिस्ट्रीयां शुरू होने के आसार मन्...
डबवाली-पालिकाध्यक्षा सिम्पा जैन के गैरजिम्मेदाराना रवैये के चलते शहर में अनियमित कॉलोनियों में प्लॉटों की रजिस्ट्रीयां शुरू होने के आसार मन्द पड़ गए हैं। यह आरोप पूर्व पालिका उपाध्यक्ष गुरजीत सिंह पार्षद एवं टेक चन्द छाबड़ा पार्षद ने एक प्रैस विज्ञप्ति में लगाते हुए कहा है कि इन हालातों में आम आदमी के लिए मकान बनाना स्वप्न बन कर रह गया है। इनेलो नेताओं ने कहा कि प्रदेश स्तर पर रजिस्ट्रीय लम्बे समय से बन्द पड़ी है। जनदवाब के चलते प्रदेश सरकार ने अपनी नीति में बदलाव करते हुए नगरपालिकाओं व नगर परिषदों से तय किए गए मानदण्डों के मुताबिक प्रस्ताव भिजवाने के निर्देश दिए। जिसके तहत सिरसा, कालांवली, राणीयां, ऐलनाबाद से 48 कॉलोनियों के प्रस्ताव चण्डीगढ़ भेज दिए गए तथा जल्द ही इन प्रस्तावों में अधिकांश के मन्जूर होने व उपरोक्त शहरों, कस्बों में रजिस्ट्रीयां खुलने के आसार बन गए हैं। लेकिन डबवाली की नगरपालिका की ओर से प्रस्ताव इस बाबत चण्डीगढ़ नहीं भेजा गया। हालांकि पार्षदों द्वारा सर्वसम्मति से एक मीटिंग में प्रस्ताव पास किया गया था कि अवैध कॉलोनियों को नियमित करने हेतु चण्डीगढ़ प्रस्ताव नियमानुसार भिजवाया जाए। लेकिन बावजूद इसके पालिकाध्यक्षा ने इस मामले में पूरी तरह से गैर जिम्मदाराना रवैये अपनाया हुआ है तथा शहरवासियों के हितों की घोर अनदेखी की है। आज शहर में मध्यम एवं गरीब वर्ग के लोगो को बाहरी क्षेत्रों में रजिस्ट्रीयां बन्द होने के चलते मकान बनाना असम्भव हो गया है तथा पालिकाध्यक्षा की कार्यप्रणाली के चलते ऐसे कोई आसार नहीं हैं कि निकट भविष्य में रजिस्ट्रीयां खुल जाऐंगी। उधर प्रदेश सरकार ने प्रोपर्टी डीलरों पर 25 हजार रूपये वार्षिक कर लगा दिया है। लेकिन रजिस्ट्रीयां बन्द होने के चलते इस वर्ग के लिए गुजर-बसर करना ही दूभर हो गया है। इनेलो नेताओं ने आरोप लगाया कि पालिकाध्यक्षा की कार्यप्रणाली से शहरवासी बुरी तरह से आजिज आ चुके हैं तथा शहरवासियों का गुस्सा किसी भी समय फूट कर पालिका प्रशासन के खिलॉफ एक आन्दोलन का रूप ले सकता है।
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें