BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

सोमवार, अगस्त 02, 2010

'एक शाम रफी के नाम'

डबवाली- सुर सम्राट स्व. मौहम्मद रफी की पुण्यतिथि पर बीते दिवस 1 अगस्त रविवार को बाल मन्दिर स्कूल रोड़ पर स्थित रीगल पैलेस वालों व शहर की सामाजिक संस्था रफी फैंस कल्ब द्वारा एक शानदार आगाज 'एक शाम रफी के नाम कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ में नगरपालिका की पूर्व अध्यक्ष सिम्पा जैन एवं उनके पति राजेन्द्र जैन ने माँ सरस्वती के चित्र के समक्ष ज्योति प्रज्ज्वलित करके किया व समाजसेवी गुरजन्ट ङ्क्षसह बराड़ ने स्व. रफी के चित्र पर माल्यार्पण किया। इस अवसर पर पैट्रो डीलर चौ. सन्दीप सिहाग, वरच्युस कल्ब के संस्थापक केशव शर्मा, शिक्षाविद् आत्मा राम अरोड़ा, नगर पार्षद मधु बागड़ी, राकेश बाल्मीकि, पूर्व पार्षद डॉ. सन्तोष अरोड़ा, अधिवक्ता भूपेन्द्र सूर्या, श्रीमती खुशनसीब कौर सूर्या, प्रवीण सिंगला उपस्थित थे। एक शाम स्व. रफी के नाम कार्यक्रम का आगाज बठिण्डा से आई अदाकारा हेमलता ने अपनी सुरीली आवाज़ में सरस्वती वन्दना गाकर किया तथा बठिण्डा के प्रसिद्ध गायक दर्शन निर्मल ने 'मैं जट्ट जमला पगला दीवाना एवं 'सुख के सब साथीÓ गाकर दर्शकों की वाह-वाही बटोरी। तदोपरान्त जालन्धर से आई प्रसिद्ध अदाकारा पैन्नी ग्रेवाल ने अपने सुरीले कण्ठ से 'ओ मेरे सोना रे सोना गीत गाकर दर्शकों का मन मौह लिया। जब मंच पर श्री गंगानगर से आई सुरसंगम की मलिका रश्मि अरोड़ा ने 'तुम मुझे यूं भुला न पाओगे गीत की शुरूआत की तो पण्डाल में बैठे रफी के सभी दीवाने नाचने व झूमने लगे तथा उसके बाद रश्मि अरोड़ा ने 'तेरे संग प्यार मैं नहीं तोडऩा व 'आदमी मुसाफिर है आता है जाता है तथा डबवाली के प्रसिद्ध गायक व कल्ब के संस्थापक सुरेश बांसल के साथ 'ओ हसीना जुल्फों वाली जाने जहां... गीत गाया तो वहां पर उपस्थित दर्शकों ने उसे इस कार्यक्रम के लिए तोहफा बताया व रीगल पैलेस के संस्थापक राजेन्द्र बिट्टू ने सुश्री रश्मि अरोड़ा को मलिका-ए-तरन्नुम के अवार्ड से नवाजा तथा उन्होंने यह भी घोषणा की कि हर वर्ष रफी के नाम एक शाम का आयोजन करने वाली संस्था को पैलेस की ओर से भरपूर योगदान दिया जाऐगा तथा आए हुए सभी कलाकारों को उन्होंने अपने निजी कोष से सम्मानित किया। रफी फैंस कल्ब के संस्थापक सुरेश बांसल ने डबवाली की प्रसिद्ध गायिका रजनी मोंगा का आभार जताया कि उन्होंने इस कार्यक्रम में गंगानगर से रश्मि अरोड़ा और जालन्धर से पैन्नी ग्रेवाल को पेश कर चार चाँद लगाए तथा सुश्री रजनी मोंगा ने अपने सुरीले कण्ठ से 'तुम जो मिल गए हो तथा 'वो जब याद आए बहुत याद आए गीत गाकर दर्शकों की तालियां बटौरी तथा इस कार्यक्रम में बठिण्डा के मशहूर कलाकार देवेन्द्र सिकन्दर द्वारा गाए गए गीत 'जिसके लिए सबको छोड़ा व दिल का सूना साज तराना ढूंढेगा गीत गाकर इस कार्यक्रम में आए दर्शकों पर अमिट छाप छोड़ी। इस कार्यक्रम में डबवाली के कई कलाकारों ने जैसे जगदीश प्यास, रमेश शर्मा, अवतार ङ्क्षसह, बलजिन्द्र ने भी रफी के गाए गीत गाकर दर्शकों में अपनी छटा बिखेरी। वहीं स्थानीय बुजुर्ग कलाकार दीवान चन्द खन्ना द्वारा गाए गीत 'ओ दुनिया के रखवाले... तथा 'रहा गॢदशों में हर दम मेरे इश्क का सितारा ने श्रोताओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। मंच का संचालन नीलू आर्ट्स ग्रुप के संचालक विनोद नीलू तथा कल्ब के संस्थापक सुरेश बांसल ने बाखूबी निभाया तथा आए हुए सभी कलाकारों को नगरपालिका पूर्व अध्यक्ष सिम्पा जैन व उनके पति राजेन्द्र जैन, किलियांवाली चौकी के इंचार्ज गुरमेज ङ्क्षसह ने पुरस्कार वितरित किए तथा रफी फैंस कल्ब की ओर से सुरेश बांसल, अवतार ङ्क्षसह, विनोद नीलू ने नगरपालिका पूर्व अध्यक्ष सिम्पा जैन को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम के अन्त में बठिण्डा के प्रसिद्ध गायक दर्शन निर्मल ने 'ये जिन्दगी के मेले दुनिया में कम न होंगे अफसोस हम न होंगे गीत गाकर कार्यक्रम का समापन किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज