BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

सोमवार, नवंबर 22, 2010

योग जरिये सत्ता भोग करने की राजनीतिक यात्रा का सच

हरिशंकर साही
स्वामी रामदेव जिन्हे बाबा रामदेव भी कहा जाता है। जिन्होने योग की शिक्षा को जन-जन तक पहँुचाने का कभी प्रण किया था। उनके प्रण के पीछे ध्येय था कि वह भारत के लोगो को रोग मुक्त कराना चाहते है। उनके बारे में कहा जाता है कि वह एक ब्रह्मचारी संत है। ब्रह्मचारी संत आमतौर पर उन लोगो के लिए प्रयुक्त किया जाता है, जो मोह माया से दूर है। परन्तु एक मोह माया से दूर सन्यासी अगर राजनीति की बात करने लगे तब उस पर शंका होने लगती है। रामदेव जो मूलतः हरियाणा के एक साधारण परिवार से संबंधित हैं। अपने योग सिखाने के कारण भारत में एक बडे योग गुरू के रूप पूजे जाते थे। परन्तु अब उनका कुछ दूसरा रूप दिखाई देता है।कभी बाबा अपने शिविरो में अपने विभिन्न आसन सिखाते थे। उनके शिविरो में व्यक्ति योगिक जागिंग, र्शीषासन, सर्वांगासन जैसे कई आसन व भस्त्रिका, कपालभाति, अनुलोम-विलोम जैसे कई प्रणायाम सीखते थे। उन्होने ग्रन्थो में लिखि प्रणायाम की क्रिया को सरल करके आम जनता के सम्मुख प्रस्तुत किया। बाबा के इन प्रयोगो से आम जनता में प्राणायाम के प्रति एक जबरदस्त आकर्षण बढा। इसमें भी कोई शंका नही है कि इन योगाभ्यासो से आम जनता को लाभ भी हुआ। धीरे-धीरे बाबा के योग की धूम देश विदेश की सीमा को लांघ गई। अमेरिका के मशहुर अखबार न्यूयार्क टाइम्स ने भी बाबा रामदेव को विशेष विशेषण देते हुएए लिखा था ‘‘एक भारतीय जिसने योग की रियासत को बनाया‘‘। अपनी बढती प्रसिद्धि के बाद बाबा रामदेव ने अपने विशेष सहयोगी बालकृष्ण के साथ मिलकर हरिद्वार में एक अत्यन्त विशाल और आधुनिक सुविधा पूर्ण पतंजलि योग पीठ की स्थापना की।
इस पूरे चक्र के दौरान उन पर तमाम आरोप भी लगे। कभी रामदेव के खास सहयोगी और पुराने योग समारोहो में सबसे प्रमुख रूप से दिखने वाले कर्मवीर का साथ छोड जाना। कर्मवीर एक बी0 ए0 एम0 एस0 डाक्टर थे और पतंजलि आर्युवेद फार्मेसी के पूर्व प्रमुख भी। उन्होने रामदेव का साथ छोडते हुए उन पर तब कई आरोप भी लगाये थे। परन्तु उस समय बाबा केवल लोगो को स्वास्थ देने की बात करते थे और उनके योग की दीवानी जनता ने इस पर ध्यान भी नही दिया। जिसके फलस्वरूप कर्मवीर नेपथ्य में चले गये। फिर बाद में कम्यूनिस्ट पार्टी की वृंदा करात ने तो उन पर बकायदा उनके आर्युवेदिक उत्पादो में जानवरो की हड्डियों की मिलावट का आरोप जड़ा। जिससे वह 2006 में जाँच रिर्पोट में वह साफ बच तो गये। परन्तु कम्यूनिस्ट आाज भी अपने आरोपो से पीछे नही हटे है। वहीं बाबा के अन्य आलोचको ने विदेश में दान में मिले द्वीप पर सवाल उठाये। उन पर सबसे नया आरोप दान में मिले हेलीकाप्टर को लेकर लगा। जिसमें आलोचको ने बाबा के सुविधाभोगी होने के बारे में चर्चा उठनी शुरू हो गई है।
बाबा रामदेव के उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदो में चलाये उनके योग शिविरो एवं स्वाभिमान यात्रा को काफी नजदीक से अनुभव करने के बाद उन्हे ऐसा संत मानने में शंका उत्पन्न हो जाती है। जो मोह-माया से दूर हो। बाबा रामदेव ने अपनी उत्तर प्रदेश की यात्रा बिजनौर जनपद से शुरू की थी। बाद में शाहजहाँपुर, रामपुर, पीलीभित, लखीमपुर-खीरी, बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, गोण्डा होते हुए यह यात्रा चलती रही। इस पूरी यात्रा के दौरान उन्होने जनपदो के मुख्यालयो पर प्रातः 5 बजे से 7ः30 तक योग शिविर किये। बाद में इन्ही जनपदो के दूर-दराज के क्षेत्रो में जनसंबोधन हाते हैं जो राजनीति का महत्वपूर्ण अंग माने जाते हैं। बाबा अपने शिविरो से पहले जनपद में रात्रि विश्राम करते हैं। जो ज्यादातर उस जिले के किसी बडे धनाढ्य या प्रभावशाली व्यक्ति के यहाँ होता है।
रामदेव के प्रातः काल में लगने वाले योग शिविरो में जनता योग सीखने के उद्देश्य से जमा होती है। परन्तु रामदेव योग सिखाने का नाम तो लेते है, लेकिन उनका तरीका सीखाने से ज्यादा दीखाने का होता है। बहराइच के उनके योग शिविर में शामिल हाने आये राकेश सिंह कहते है कि ‘‘बाबा इतने ज्यादा गति से योग करते है कि सीखना तो दूर देखना भी मुश्किल हो जाता है’’। बाबा अपने योग शिविरो में योग सिखाते-सिखाते राजनीतिक परिस्थितियों पर भाषण देने लगते है। बहराइच के ही योग शिविर में बाबा योग सिखाते हुए गोवा में हो रहे पुर्तगालियों के कार्यक्रम के बारे में भाषण देना शुरू कर दिया। वहीं इन शिविरो या उसके बाद के जनसभा में वह अपने योगपीठ के आर्युवेद दवाइयों की चर्चा करने से नही चूकते हैं। इन योग शिविरो में आये लोगो को वह योग के साथ-साथ दवाइयां भी खरीदने की भी सलाह देते हैं। जो हरिद्वार से उनके संस्थान से आते है, और शिविर के दौरान मौजूद रहते हैं।
उनके योग शिविरो में मुख्य दानकर्ताओ का नाम भी बाबा के मंच पर लिखा होता है जिससे दानकर्ता भी भरपुर प्रचार पा सके। योग सीखने के दौरान आये लोगो को योग का ज्ञान कितना मिलता है यह तो कहा जा सकता। परन्तु राजनैतिक बयान जरूर सुनने को मिलता है। कहीं बाबा भ्रष्टाचार का मुख्य मुद्दा बनाते हैं तो कहीं अपने प्रयासो को बताते हैं। उनका कहना है कि केन्द्र सरकार के मंत्री ए0 राजा को उनके प्रयासो के चलते ही त्यागपत्र देना पडा। कहीं कहीं उनकी कथनी और करनी में अन्तर भी दिखता है जब वह बाते तो गरीबो के उत्थान की करते है। परन्तु उनके सारे सम्मेलन किसी बडे धनाढ्य के घर ही होते हैं।
योग शिविरो के बाद वह जिले के छोटे ब्लाको में भी जाते हैं और राजनेताओ की तरह जनसंपर्क भाषण देते है। इन जनसंपर्को के दौरान वह पूरी तरह मुखर होकर सरकारे को कोसते है और चेतापनी देते है कि मात्र दो वर्षेा का समय वह दे रहे है। अन्यथा उन्हे राजनीति में कूदना पडेगा, जिससे वह राजनीतिक व्यवस्था को बदल देंगंे। रामदेव अपने भाषणो के दौरान सनसनी फैलाने में भी कोई कसर बाकी नही छोडते हैं। श्रावस्ती के जमुनहा ब्लाक के अपने दौरे के दौरान उन्होने यह कहकर सबको चौंका दिया कि उनसे 2 करोड रूप्ये की रिश्वत मांगी गयी थी। उनका इशारा उस समय की सरकार से था जब उनका पतंजलि योगपीठ बन रहा था। इसी प्रकार उन्हाने अन्य जनसभाओ में 300 लाख करोड के काले धन की भी चर्चा की। उन्होने एक जनसभा में बडे नोट छापने को लेकर अंग्रेजो की लुटेरी संस्कृति का भी आरोप सरकार पर लगाया और साथ ही सरकार से बडे नोटो का बंद करने की अपील की। बाबा रामदेव के अनुसार बडे नोट ही भ्रष्टाचार के जनक है बडे नोट खत्म भ्रष्टाचार खत्म। अगर इनकी सलाह पर अमल हो जायेगा तो बाजार में कितना नकद रूपया लेकर चला जा सकेगा इस पर उनके विचार शून्य रहे।
बाबा रामदेव के बारे में अब यह कहा जा सकता है कि वह देश को बदलने के नाम पर अपनी राजनैतिक महत्वकांक्षा पूरी करना चाह रहे हैं। अपनी जनसभाओ में वह आजकल उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती की काफी तारीफ करते हैं। वहीं साथ ही साथ उनको राहुल गांधी का मायावती सरकार पर सवाल उठाना अच्छा नही लगता। राहुल पर आरोप लगाते हुए नाम लिए बिना कहते है कि उन्हे अपने पार्टी के शासन वाले राज्यों में जाकर शासन व्यवस्था देखनी चाहिए। अन्य बाबाओ या नेताओ के राजनीति में सफल ना हो पाने के सवाल पर वह अपने को सर्वश्रेष्ठ और चरित्रवान कहते है। वह जनता के करीब भी रहना चाहते है, पर साथ ही विशिष्ट श्रेणी की सुरक्षा भी चाहते है। देश भ्रमण के अपने कार्यक्रमो में योग को उन्होने मात्र एक भीड जुटाऊ की तरह बना रखा है। कभी योग के नाम पर देश के मसीहा बने रामदेव आज उस सम्मान को राजनीतिक महत्वकांक्षा के लिए भुनाने निकले हैं। अब यह फैसला तो देश की जनता ही करेगी कि बाबा कितने योगी है और कितने राजनीतिक खेवनहार।





बहुत दुःख है रामदेव के ना आने का पर मेरा आर्शीवाद है, उनके साथः स्वामी दयाल गिरी
205 साल के कहे जाने वाले पहाडी बाबा, स्वामी


दयाल गिरी।कुछ दिनो पहले एक टी0वी0 चैनल पर अचानक एक 205 साल के बाबा का उदय हुआ था। उत्तर प्रदेश के छोटे से जिले श्रावस्ती के दुर्गम इलाके जमुनहा के राप्ती बैराज के पास बने एक जगतपत्ति मंदिर के पुजारी दयाल गिरी जी को ऐसा कहकर प्रचारित किया गया था। चैनेल पर उसके मालिक और योग गुरू बाबा रामदेव पूरी रात गला फाडकर तर्क देते रहे कि वह साधु इतने वर्ष के होंगंे। 205 वर्ष के इस साधु को कोई रिकार्ड तो प्रमाणिकता नही देते। परन्तु लगता है कि इनकी उम्र की प्रमाणिकता टी0वी0 पर देने वाले योग गुरू भी इन पर संदेह करते है। तभी तो रामदेव ने अपने श्रावस्ती जनपद के दौरे में इस मंदिर से मात्र चंद कदम दूर से निकलने के बाद भी यहां नही गये। उसके बाद इस मंदिर के कस्बे में मात्र 3 कि0मी0 दूर जनसभा करने के बाद भी एक बार भी उन्हे याद नही किया। जनसभा के बाद जब उनसे इस बारे में सवाल किये गये तो उन्होने इसका जवाब देने से ही मना कर दिया। परन्तु इतनी लंबी आयु पर वह तर्क देकर सिद्ध करने से बाज नही आये। जब इस बारे में दयाल जी से बात की गई तो उन्होने पहले तो अपनी लाचारगी छुपाई। फिर उन्होने कहा कि रामदेव बडे संन्यासी है उनका हम छोटे लोगो से क्या मुकाबला। पर वह आते तो अच्छा लगता नही आये तो क्या कर सकते है उनको मेरा आर्शीवाद है। दयाल जी बाबा रामदेव से कितने आहत है यह भी उनकी बातो से झलक गया। डनहाने रामदेव की राजनीतिक प्रयास की भ्रत्सना की और उनकी राजनीति को असफलता का आशीष भी दिया। जब रामदेव को किसी तर्क पर खुद ही विश्वास नही था तो उन्होने उसका प्रचार क्यों किया। यह बात उनके राजनेताओ के कथनी करनी के भेद पर बहुत सटीक बैठती है। अब बाबा रामदेव नेता रामदेव बनने की पूरी तैयारी में है।
हरिशंकर शाही जमीन से जुड़े सक्रिय पत्रकार हैं। वह उत्तर प्रदेश के बहराइच में रहकर फ्रीलांसिंग कर रहे हैं और विभिन्न विषयों पर लिखते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज