Young Flame Young Flame Author
Title: करोंडों का माल उठा ले गए लोग सोता रहा वन विभाग
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली ( यंग फ्लेम ) शनिवार को क्षेत्र में तूफान में अकेले डबवाली उपमंडल में सड़क किनारे लगे वन विभाग के करीब 300 से भी ...
डबवाली(यंग फ्लेम)शनिवार को क्षेत्र में तूफान में अकेले डबवाली उपमंडल में सड़क किनारे लगे वन विभाग के करीब 300 से भी अधिक पेड़ जड़ से उखड़ गए है सैकड़ों पेड़ों की टहनियां टूटकर दूर जा गिरी।
प्रकृति की आपदा के कारण उत्पन्न समस्या पर जनता ही दो चार होती रही जबकि विभाग का लाव लश्कर चादर ताने चैन की नींद ले रहा था। सुबह होते ही अधिकारियों ने इनकी सुध लेनी तक मुनासिब न समझी बल्कि सड़कों पर गिरे पेड़ों के कारण रास्ते जाम हो गये थे। वाहन चालकों व लोगों खुद ही सड़क के बीच पडे इन पेड़ों को बीच से हटाया व कुछ लोग इन्हें उठाकर अपने घर ले गए क्योंकि इन दिनों लकड़ी के दाम आसमान को छू रहे हैं इसलिए इस मौके को फायदा उठाते हुए कुछ लोगों ने खुब लकड़ी का अंबार इक्_ा कर लिया अब जब इस प्राकृतिक विपदा को बीते दो दिन हो गए तो वन विभाग के साहब बाबुओं ने क्षेत्र का दौरा कर इन बचे कुचे पेड़ों की सुध लेकर कोरे कागज को काला करने में जुट गए। उल्लेखनीय है कि कुछ वर्ष पूर्व भी आए इसी तरह के अंधेड में इसी तरह प्राकृति को काफी नुकसान सहना पड़ा था और सैंकड़ों वृक्ष टूटकर सड़कों पर आ गए थे। वर्षों पूर्व टूटे हुए वृक्ष व टहनियां आज भी गांव डबवाली में स्थित एक धार्मिक सत्संग घर के बाहर सड़क किनारे पड़े है। जिन्हें दीमक खा रही है। जब इस बाबत विभाग के फोरेस्टगार्ड अशोक कुमार से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इन वृक्षों की लिस्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को भेज दी गई है व जल्द ही इनकी बोली करवा दी जाएगी। जब उनसे यह पूछा गया कि उसमें से तो गिनती की ही लकड़ी बची है तो उन्होंने कहा कि ऐसी नहीं है वह लकडिय़ा सुरक्षित है। जबकि वह लकडिय़ा सड़क किनारे पड़ी हुई विभाग की इस सच्चाई की पोल खोल रही है। अब इसी तरह जब शनिवार को आए अंधड बाद भी रविवार सुबह वन विभाग हरकत में नहीं आया और सैंकड़ों पेड़ों को लोग अपने घर उठाकर ले गए लेकिन सोचने वाली बात यह है कि अगर इसी तरह से वन विभाग द्वारा लापरवाही चलती रही तो वह दिन दूर नहीं जब हमें सड़क किनारे लगे पेड गायब मिलेंगे। इस बाबत जब विभाग के रेंज ऑफिसर चरणजीत सिंह से बात कि गई तो उन्होंने कहा कि इस अंधड से करीब 300 पेडों को नुकसान हुआ है व उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि अंधड से जो वृक्ष टूटे थे व लोगों द्वारा जो उठा लिए गए है उन्हें विभाग द्वारा एकत्रित किया जा रहा है और अगर किसी व्यक्ति ने इन पेडों को लौटाने में मनाही की तो उस पर विभाग द्वारा कार्रवाई की जाएगी।
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें