Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: हरियाणा सरकार पंजाबी वर्ग के लोगों की अनदेखी कर उनसे भेदभाव की नीति अपना रही है--चावला
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली -  हरियाणा सरकार पंजाबी वर्ग के लोगों की अनदेखी कर उनसे भेदभाव की नीति अपना रही है। यह बात सर्वजन समाज पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष नंद कि...
डबवाली -  हरियाणा सरकार पंजाबी वर्ग के लोगों की अनदेखी कर उनसे भेदभाव की नीति अपना रही है। यह बात सर्वजन समाज पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष नंद किशोर चावला ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही। वह डबवाली में पंजाबी वर्ग के लोगों को सरकार की नितियों के खिलाफ 22 मई रविवार को गोहाना के भगवान महावीर चौक पर 22वां भूख हड़ताल व धरना में शामिल होने के लिए अपील करने पहुंचे थे। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि  सर्वजन की यही पुकार आरक्षण में हो आर्थिक आधार और नौकरियों में हो जनसंख्या (आबादी) आधार श्री चावला ने यह भी कहा कि इस समय हरियाणा सरकार अपनी भेदभाव नीति के कारण पंजाबी वर्ग की सरकारी कार्यालयों में उपस्थिति घटकर केवल आधा प्रतिशत से भी कम रह गई है जबकि हरियाणा में पंजाबी वर्ग की आबादी 35 प्रतिशत है। पंजाबी वर्ग के युवाओं में सरकार के प्रति अक्रोष है। उन्होंने यह भी कहा कि इस समय हरियाणा सरकार विशेष वर्ग को बढ़ावा दे रही है। जिस कारण कर्मचारी चयन आयोग व संघ लोक सेवा आयोग मुख्यमंत्री की जागीर बन चुके है और भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुके है।  जिस कारण पिछले 6 वर्षों से 80 हजार पदों पर जिन कर्मचारी व अधिकारियों की नियुक्तियां की है उसमें पंजाबी वर्ग के केवल 650 नियुक्तियां की है।  उन्होंने हरियाणा सरकार से श्वेत पत्र जारी करने की मांग की। श्री चावला ने यह भी कहा कि इस समय हरियाणा सरकार निम्र जातियों को भी एक शडय़ंत्र के तहत धीरे-धीरे वंचित कर रही है जैसे की पंजाबी, ब्राह्मण, बणीया, सैनी, कम्बोज, राजपूत ठाकर, वाल्मीकि व सैन समाज आदि । भ्रष्टाचार पर संबोधित करते हुए कहा कि यह मांग भी 15-07-2005 से लगातार सरकार को अवगत कराया जा रहा है कि राजनेता, आईपीएस, आईएएस आदि अधिकारियों की सम्पति की जांच करके उसे जब्त करे। अन्न हजारे के आंदोलन का भी समर्थन किया और खेद भी जताया कि श्रीमति किरण बेदी आईपीएस जिसको यूएनओ ने भी ईमानदार अधिकारी घोषित किया था इसको भी कमेटी में जरूर शामिल किया जाए।  यह सर्वजन की मांग है और पार्टी की भी मांग है। भ्रष्टाचार को सुधारने के लिए सोसायटी एक्त 1860 और चुनाव एक्त में संशोधन करे और जनलोक पाल विधेयक  लाकर शीघ्र पास किया जाए ताकि भ्रष्ट व्यक्तियों पर लगाम लग सके और यह भी अनुरोध किया  कि 22वां धरना 22 मई 2011 को गोहाना में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचने का न्यौता दिया। सभी साथियों ने जोरदार समर्थन किया। श्री चावला ने यह भी कहा कि पंजाबी वर्ग अपनी वोट की ताकत को पहचाने और समय आने पर वोट से सता बदल दें इस समस  गीता अहुजा, सुशील गाबा, सुलखनी, राजेश, टोनी वधवा आदि ने संबोधित किया। 

प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें