BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

मंगलवार, जुलाई 26, 2011

टेंडर के डेढ़ वर्ष बीतने के बाद भी नहीं हुआ सड़क का निर्माण

डबवाली (यंग फ्लेम)सौ दिन में चले अढ़ाई कोस इस कहावत के मायने समझने हो तो डबवाली उपमंडल के गांव अबूबशहर से गांव मसीतां तक जाने वाले मार्ग पर चले आईये। मसीतां से डबवाली चौटाला रोड़ पर गांव अबूबशहर के पास 11.4 किलोमीटर तक बनने वाली इस सड़क पर टेंडर होने के डेढ़ वर्ष बीत जाने के बाद भी इसका निर्माण कार्य विभाग तथा ठेकेदार के बीच अधर झूल में है। लोकनिर्माण विभाग सड़क के निर्माण न होने के ठेकेदार को जिम्मेवार बता कर उस पर जुर्माना लगाने की तैयारी कर रहा है जबकि ठेकेदार इसके पीछे विभाग के अधिकारियों को जिम्मेवार बता रहा है।
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत 318.20 लाख रुपये की लागत से बनने वाली इस सड़क के लिए विभाग द्वारा 27 जनवरी 2010 को हांसी की अनिल कुमार एण्ड कंपनी फर्म को ठेका दिया था विभाग द्वारा तय समय सीमा के अनुसार इस सड़क का निर्माण कार्य 10 जनवरी 2011 को पूरा होना था।
इसके अलावा भी विभाग ने करीब आठ लाख रुपये की लागत से इस सड़क के रख रखाव और मुरम्मत ठेका भी पांच साल के लिए इसी फर्म को दिया था। सड़क का निर्माण न होने पाने के कारण जो भी हो लेकिन इससे गुजरने वाले राहगीर हो दर्द झेल रहे है उसकी दवा कही नहीं है।
मसीतां मार्ग पर र्इंट भ_ा चलाने वाले ओम प्रकाश गोयल बताते हुए इस मार्ग पर रोजी रोटी का साधन होने के कारण उन्हें रोज कई दो से तीन बार मजबूरीवश आना जाना पड़ता है। बार बार गड्ढों में से गुजरने के कारण उनकी कार को कंडम हो ही चुकी है और वो कमर दर्द का रोगी अलग से बन चुके है। जनता की सुविधा के लिए इस सड़क के निर्माण वास्ते सरकार के कोष में पड़ा करोड़ों रुपये किताबों के बोझ को बढ़ा रहे है।
जुर्माने की कार्यवाही जारी- अभियंता
लोक निर्माण विभाग भवन व सड़के के कार्यकारी अभियंता एम.एस. सागवान ने बताया कि सड़क निर्माण की कार्य अवधि पूरी होने के बाद भी सड़क का निर्माण कार्य न होने के कारण उनका टेंडर रद्द करने के साथ साथ लागत मूल्य पर 10 प्रतिशत जुर्माना लगाने की कार्यवाही के लिए विभाग के आला अधिकारियों को लिखा गया है।
अधिकारी जिम्मेवार-ठेकेदार
सड़क के ठेकेदार अनिल कुमार का कहना है कि विभाग द्वारा सड़क के निर्माण के लिए न तो निशानदेही की गई और वन्य प्राणी अभिरक्षण क्षेत्र आने के कारण न ही सड़क के निर्माण की अनुमति विभाग के पास है। उन्होंने बताया कि सड़क पर बोर्ड लगाने के साथ-साथ सड़क पर पुलिया बनाने और जीपीस का स्टोक भी करने के बावजूद उसका भुगतान विभाग ने उन्हें नहीं दिया।
उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा दिये गये नक्शे में जो भूमि सड़क के निर्माण के लिए दिखाई गई है वह किसानों के खेतों के साथ लगती है। इससे पूर्व भी सड़क का एक तरफ ही निर्माण हुआ हुआ है। नक्शे के अनुसार सड़क का निर्माण संभव नहीं है। इस बारे में विभाग कई बार लिखित रूप से दिया जा चुका है।
त्रास्त है जनता-डा. सीता राम
जिला परिषद के अध्यक्ष डा. सीता राम ने कहा कि सरकार जनहित के कार्यों को अनदेखा कर रही है। मसीतां से अबूबशहर तक की महज 11 किलोमीटर सड़क का टेंडऱ होने के बावजूद निर्माण न होना सरकार और अधिकारियों की कार्यप्रणाली का नमूना है। पूरे प्रदेश में जनता त्राही-त्राही कर रही है बेलगाम अफरशाही के कारण जनता परेशान है किसी भी स्तर पर उनकी सुनवाई नहीं हो रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज