Young Flame Young Flame Author
Title: हर्ष नगर में बुखार का प्रकोप एक और महिला ने दम तोडा
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली - हर्ष नगर में पिछले एक माह से जारी बुखार का प्रकोप ने एक ओर महिला को अ पनी चपेट में ले कर उसके प्राण हर लिये...
डबवाली- हर्ष नगर में पिछले एक माह से जारी बुखार का प्रकोप ने एक ओर महिला को पनी चपेट में ले कर उसके प्राण हर लिये है। जिससे इस मुहल्ले में मरने वालों की संख्या 8 हो गई है। इससे पहले आधा बच्चों सहित सात जनों को बुखार अपनी चपेट लेकर उन्हें काल के मुंह में ले जा चुका है। मृतक महिला की पहचान 40 वर्षीय रजनी पत्नी राजपाल के रूप में हुई है। इस महिला के पति की आठ माह पहले ही मौत हो चुकी है।
वहीं इसी रहस्यमयी दो युवतियों सहित चार जनों को अपना शिकार बना लिया है। जिनमें दो महिलाओं की गंभीर हालत को देखकर उन्हें सिरसा के एक निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया है।
हर्ष नगर के निवासी अजय कुमार ने बताया कि उसकी बहन जिना पत्नी सतपाल को पिछले तीन दिनों से तेज बुखार आने के साथ साथ उल्टी रोग से भी पीडि़त थी। जिससे उनके शरीर में खून की कमी होने के साथ साथ प्लेटलेट्स भी कम पाये गये है। उसकी बिगड़ी हालत को देखते हुए सिरसा के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया है। वहीं इसी मुहल्ले के निवासी रवि की 35 वर्षीय पत्नी नीलम को भी बीती रात सिरसा के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। उसे भी तीन दिन से तेज बुखार के साथ उल्टी लगी हुई थी। इसके अलावा दलराज की 15 वर्षीय पुत्री कंचन और मदन लाल की 13 वर्षीय पुत्री शालू को तथा मृतक रजनी का ससुर ढोला राम पिछले तीन रोज से बुखार की चपेट में है। घर में मातम के साथ अन्य सदस्यों के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित दिखाई दिये ढोला राम का कहना है कि बाबू जी पता नहीं हमारे मुहल्ले में ये कैसा बुखार फैला है, जिसे हो जाता है उससे जान के लाले पड़ जाते है। मुहल्ले के आठ परिवारों चुल्हें सुने कर गया और पता नहीं कितनों की जान लेकर जायेगा।
आठ लोगों के काल बने रहस्यमय बुखार के बाद भी मुहल्ले की सफाई व्यवस्था में सुधार नहीं आया है। हर्ष में मौत का तांडव देखने के बाद नगरपालिका ने एक बार तो सफाई करवा दी थी लेकिन अब फिर वहीं हर्ष नगर की मुख्य गली पर तो झाड़ू लग रही है। लेकिन मुहल्ले के अंदर हालात बदतर है। जगह-जगह लगे कूढ़े के ढेर और कीचड़ में मुंह मारते सुअर बीमारियों को न्योता दे रहे है। इस मुहल्ले के लोग बुखार के लिए फिक्रमंद तो है लेकिन साफ सफाई रखने में प्रति लापरवाह है। रोजगार के लिए एकत्रित किया जाने वाला कबाड़ मक्खियों और मच्छरों का रहन बसेरा बन चुका है। जो रहस्यमय बीमारियों को बढ़ावा दे रहे है।
वहीं सिविल अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डा. महेंद्र सिंह भादू ने बताया कि रजनी की मृत्यु का कारण उसके दोनों गुर्दों के फेल होने के अलावा पेट में पानी भरना पाया गया है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग का एक कर्मचारी रोजाना हर्ष कर जा कर बीमार व्यक्तियों की रिपोर्ट ले रहा है। उन्होंने बताया कि बीमारों को विभाग की ओर बुखार तथा ऐंटीबेटिक दवाईयां भी विभाग की ओर से उपलब्ध करवाई जा रही है। मंगलवार को मुहल्ले से पांच बीमारों की स्लाइडे तैयार की है उनकी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें