BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

सोमवार, जनवरी 14, 2013

' हेरा फेरी चोर बाजारी कुज ने ऐथे होर .....

 पंजाबी सत्कार सभा दा मेला लोहड़ी दा

 सिरसा- पंजाबी सत्कार सभा द्वारा स्थानीय जाट धर्मशाला में  आयोजित मेला लोहड़ी दा में जहाँ पंजाबी गीत संगीत और लोकनृत्यों  का जादू सर चढ़ कर बोल वहीं इस त्योहार की संस्कृति के दर्शन भी बखूबी हुए। सभा द्वारा करवाए गये इस कार्यक्रम का आगाज़ मान कौर और मनप्रीत कौर द्वारा गये बंदगी गीत से हुआ जिसके बाद इन्होंने पुराने पंजाबी गीत 'थोड़े -थोड़े दु:ख जे तू वंड देवें ...........  गा कर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। इस कार्यक्रम में प्रदीप रहेजा ने गीत 'मालिक इस संसार विच तू खेड बनायीं की , इक पल विच जनम तो पाली हो जाये पराई धी गा कर उपस्थित जनसमूह को भावुक कर दिया। उन्हीं द्वारा गाये गीत 'हेरा फेरी चोर बाजारी कुज ने ऐथे होर ने भी अव्यवस्था पर व्यंग्मयी अंदाज़ से चोट की। कार्यक्रम का केंद्र बिंदु बाबा कांशी नाथ अलमस्त रहे जब उन्होंने पुराने लोक वाद्य बीन पर अपनी जादुई फूंक से स्वर लहरियां बिखेरीं तो सभागार कई देर तक तालियों से गूंजता रहा। उन्होंने अपने दूसरे लोक वाद्य वंजली की स्वर लहरियों से भी उपस्तिथजनों को काफी समय तक मन्त्र मुग्ध किये रखा। सभा द्वारा उनके इन लोकवाद्यों को अंतराष्ट्रीय ख्याति प्रदान करने के लिए 'पंजाबी रत्न सम्मान से नवाजा गया। उनके बाद विख्यात संगीतकार हरविंदर सिंह और उनकी संगीत मण्डली ने पंजाबी गीतों के पुराने और नये रंगों के दर्शन उपस्थितजनों  को करवाए। उन द्वारा गया गया 'ऐनु मेली ना करना मेरे पंजाब दी मिटटी है और बुल्ला की जाना में कौनÓ ने भी बहुत वाहवाही बटोरी। कार्यक्रम के दूसरे दौर में पंजाबी लोक नृत्यों गिद्धा और भंगड़ा की धूम रही। गिद्धे में जहाँ  राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय ने अपनी कला का लोहा मनवाया वहीं धमाल भंगड़ा ग्रुप ने इस आयोजन को यादगार बना दिया। कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि पहुंचे विख्यात रेडिओलोजिस्ट  चिकित्सक गौरव मेहता ने कार्यक्रम को बेजोड़ बताया और पंजाबी सत्कार सभा द्वारा पंजाबियत के लिए दिए जा रहे योगदान की प्रशंसा की। उन्होंने सभा के पदाधिकारियों को इस कार्य के लिए आर्थिक सहयोग देने की घोषणा भी की। इससे पूर्व सभा के संस्थापक अध्यक्ष प्रदीप सचदेवा ने आये हुए अतिथियों का स्वागत करने के साथ -साथ सभा द्वारा पंजाबियत के हित में किये गये गये कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने पिछले साल दिवंगत हुए सिरसा के सिरमौर पंजाबी कवि हरभजन सिंह रेनू और अमानवीयता का शिकार हुई दामिनी को भी सभा की और से श्रद्धासुमन अर्पित किये। सभा के सांस्कृतिक विंग के जिला प्रधान ने लोहड़ी के त्यौहार की पृष्टभूमि का वर्णन किया। उन्होंने  दुल्ला भट्टी की गाथा की संक्षिप्त जानकरी देते हुए उसे ऐसा लोकनायक बताया जिसने अपने काल में लड़कियों की अस्मत की रक्षा के लिए बड़ी लड़ाई लड़ी थी। कार्यक्रम अध्यक्ष पार्षद गुरनाम सिंह, विशिष्ट अतिथि आटो मार्कीट प्रधान अनिल बांगा और समाज सेवी गुरभेज सिंह हुंदल ने कार्यक्रम में कला का प्रदर्शन करने वाले कलाकारों को सम्मान चिन्ह प्रदान किये।कायक्रम का संचालन अपराजिता ने किया जबकि सभा के शहरी प्रधान नरेंद्र कटारिया ने सभी के प्रति आभार प्रकट किया। परम्परागत ढंग से लोहड़ी जलाने के साथ ही मेला लोहड़ी दा सम्पन्न हो गया। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज