BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

बुधवार, फ़रवरी 06, 2013

नहर टूटी, 300 एकड़ गेहूं की फसल जलमग्र



डबवाली--गांव देसूजोधा के पास से गुजरने वाली कोटला ब्रांच नहर रात्रि को टूट गई। जिससे आसपास के करीब 300 एकड़ जमीन जलमग्र हो गई। इससे किसानों में रोष पाया जा रहा है और उन्होंने प्रशासन से मुआवजे की मांग की है।
बीती रात्रि करीब 11 बजे नहर के साथ ढाणी वासी भोला सिंह   ने देखा कि नहर में दरार आ गई और तेजी से पानी खेतों की ओर बह रहा है। इस पर उसने ग्रामीणों और नहरी विभाग के बेलदार गुरबचन सिंह को घटना की जानकारी दी। इस पर रात्रि करीब साढ़े 12 बजे सैंकड़ों ग्रामीण मौके पर पहुंचे लेकिन पानी का बहाव इतना तेज था कि गांववासियों को पानी को रोकना भारी पड़ रहा था देखते ही देखते आसपास के खेत पूरी तरह जलमग्र हो गए। आसपास के खेतों में खड़ी गेहूं की फसल जलमग्र हो गई। किसान देर रात नहर में पड़ी दरार को भरने का  प्रयास करते रहे लेकिन दरार लगातार बढ़ती गई और सुबह तक विभागीय कर्मचारियों व अधिकारियों के मौके पर नहीं पहुंचने से करीब 30 फीट चौड़ी दरार हो गई। जिससे नहर के दोनों ओर का पानी तेजी से खेतों में भर गया। इससे करीब आधा दर्जन ढाणियों और दो दर्जन सिंचाई वाली मोटरों में भी पानी भर गया तभी सूचना मिलने पर डेरा सच्चा सौदा की ग्रीन एस फोर्स के सेवादार मौका पर पहुंच गए और उन्होंने गांववासियों के साथ मिलकर दरार को भरने का कार्य आरंभ किया और एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद नहर में पड़ी दरार को भर दिया। जिससे किसानों ने राहत महसूस की। सुबह करीब 9 बजे नायब तहसीलदार राम चंद्र मौके पर पहुंचे और कुछ देर बाद बीडीपीओ सतेंद्र सिवाच व एसडीएम सुभाष श्योराण मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया।
एसडीएम ने पिलाई डांट
एसडीएम सुभाष श्योराण के मौके पर पहुंचने उपरांत नहर बंधाई का कार्य कर रहे डेरा श्रद्धालुओं की शाह सतनाम ग्रीन एस फोर्स व गांववासिायों की पीठ थपथपाई। इस दौरान करीब साढ़े 9 बजे नहरी विभाग के एसडीओ अर्जुन दास व जेई सतपाल मेहता मौके पर आए। जिन्हें एसडीएम सुभाष श्योराण ने देरी के आने का जवाब तलब किया और कहा कि रात्रि को नहर टूटने की सूचना मिलने पर भी अधिकारियों का इतनी देरी से आना घोर लापरवाही है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि विभाग अधिकारी इस तरह लापरवाही करते हैं जिस कारण ही किसानों की सैंकड़ों एकड़ फसल नष्ट हो गई है। एसडीएम ने नहरी विभाग के अधिकारियों के देरी से पहुंचने पर कड़ा संज्ञान लिया।
300 एकड़ फसलें जलमग्र
गांव के किसान भोला सिंह, कर्मजीत सिंह, राज सिंह, कुलवंत सिंह, सुखमंदर सिंह आदि ने बताया कि नहर टूटने से करीब 300 एकड़ गेहूं की फसल जलमग्र हो गई है। खेतों में एक से डेढ़ फीट तक पानी भर जाने से फसल नष्ट होने की आशंका है। किसानों ने आरोप लगाया कि नहर हर साल कई बार टूटती है लेकिन इसके तटबंध कभी मजबूत नहीं किए गए। इस बारे में नहरी विभाग के अधिकारियों को कई बार चेताया भी जाता है लेकिन उक्त अधिकारी कोई सुनवाई नहीं करते। किसानों ने इस बारे में एसडीएम को भी शिकायत दर्ज कराई। मौके पर मौजूद किसान अंग्रेज सिंह पुत्र भोला सिंह ने बताया कि उनकी 12 एकड़ गेहूं की फसल नष्ट हो गई है जबकि किसान आजाद सिंह की 3 एकड़, आत्मा सिंह की 7 एकड़, जंगीर पुत्र दरबार सिंह की 4 एकड़, मंगल सिंह की 10 एकड़, मुख्तियार सिंह की 9 एकड़, सुखदेव सिंह की 3 एकड़, जगतार सिंह की 8 एकड़, राजू सिंह की 2 एकड़ व अन्य दर्जन किसानों की करीब 200 एकड़ फसल जलमग्र हो गई है। किसानों ने प्रशासन से फसल नुकसान का मुआवजा दिए जाने की मांग की। साथ ही कहा कि नहर के तटबंधों को मजबूत किया जाए।
पंजाब से छोड़ा जाता है पानी
इस बारे में सिंचाई विभाग के एक्सईएन वीके जग्गा ने कहा कि नहर में पंजाब से फ्लडी पानी छोड़ा जाता है। जिसके बारे में प्रदेश के नहरी विभाग को कोई जानकारी नहीं दी जाती। उन्होंने कहा कि इस बारे में पंजाब के विभागीय अधिकारियों को आपत्ति दर्ज कराई जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज