BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

शनिवार, सितंबर 27, 2014

इनेलो प्रत्याशी नैना सिंह चौटाला ने नामांकन पत्र दाखिल किया,चुनावी जंग में देवरानी बनी है ढाल

डबवाली 

निवर्तमान विधायक डा. अजय सिंह चौटाला की धर्मपत्नी नैना सिंह चौटाला ने आज डबवाली विधानसभा क्षेत्र से बतौर इनेलो प्रत्याशी नैना सिंह चौटाला ने आज अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। वह शनिवार सुबह करीब 11 बजे डबवाली के लघु सचिवालय परिसर में रिटर्निंग आफिसर के कार्यालय पहुंची और उन्होंने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। इस अवसर पर अभय सिंह चौटाला और इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला भी उनके साथ थे। हरियाण की राजनीति के इतिहास में यह पहला मौका है जब पूर्व उपप्रधानमंत्री स्व. चौधरी देवीलाल परिवार की कोई महिला राजनीति के मैदान में उतरी हों।

इनेलो प्रत्याशी नैना सिंह चौटाला ने कहा कि कांग्रेस ने राजनैतिक षड्यंत्र के तहत उनके पति डा. अजय सिंह चौटाला को जेल भेज दिया। कानूनी बाधाओं के चलते उनके पति डा. अजय चौटाला इस विधानसभा क्षेत्र से चुनाव नहीं लड़ं सकते। उन्होंने कहा कि ऐसे दुख व संकट की घड़ी में उनका कर्तव्य है कि वह अपनी पार्टी और परिवार पर आए संकट के समय में उनका हर तरह से साथ दे। उन्होंने कहा कि डा. अजय चौटाला की जीवन संगिनी होने के नाते उनकीअनुपस्थिति में उनके सपनों को पूरा करने में उनकी मदद करे।


नामांकन के बाद उन्होंने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए नैना चौटाला ने कहा कि पार्टी ने उन्हें डबवाली हलके की जनता की सेवा करने की जिम्मेवारी सौंपी है तो वह सहर्ष व पूरी निष्ठा से इस जिम्मेवारी को न केवल निभाएंगी बल्कि डबवाली हलके की जनता को एक परिवार मान कर उनकी सेवा करेंगी।

नामांकन भरने के बाद लिया सास स्नेहलता से आशीर्वाद
डबवाली(सुखपाल)
नामांकन भरने के बाद इनेलो प्रत्याशी नैना सिंह चौटाला सबसे पहले अपनी सास स्नेहलता के पास गई और उनके पैर छूकर आशीर्वाद लिया। इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला की धर्मपत्नी स्नेहलता ने अपनी बहु को विजयी होने का आशीर्वाद दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने बेशक मेरे बेटे अजय को जालसाजी बुन कर जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया हो , परन्तु मेरी बहु नैना मेरे बेटे से किसी भी तरह से कम नहीं है और वह डबवाली के लोगों की मेरे परिवार की तरह सेवा करेगी। इतना ही नहीं नामांकन भरते ही नैना सिंह की ननद सुचित्रा व अजंलि ने गले लगाकर उन्हें बधाई दी।

चुनावी जंग में देवरानी बनी है ढाल-
डबवाली(सुखपाल)
डबवाली के चुनावी रण में देवीलाल परिवार पहली महिला उतरी नैना सिंह चौटाला का कदम से कदम मिला कर उनके देवरानी कांता चल रही है। अभय सिंह कीचौटाला की धर्मपत्नी कांता ने इस चुनावी संग्राम में अपनी जेठानी नैना सिंह की ढाल बनी हैं। उन्होंने बतौर कवरिंग उम्मीदवार अपना नामांकन पत्र आज रिटनिंग आफिसर के समक्ष भरा। नैना सिंह चौटाला व कांता चौटाला दोनों एक साथ ही नामांकन पत्र भरने पहुंची वहीं नामांकन पत्र के समय बुलाई गई जनसभा में कांता, ओमप्रकाश चौटाला की बड़ी सुपुत्री सुचित्रा व अंजलि व उनकी बेटियां के अलावा इनेलो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व चार बार सांसद रहे अवतार सिंह बड़ाना की धर्मपत्नी ममता बड़ाना भी जनसभा में पहुंची।

कार्यालय का उदघाटन

नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद पुरानी अनाजमंडी में इनेलो के वरिष्ठ नेता अभय सिंह चौटाला ने चुनावी कार्यालय का उद्घाटन किया। इस अवसर पर अभय सिंह चौटाला ने पूजा अर्चना की और भगवान ने आशीर्वाद लिया। इस अवसर डा. गिरधारी लाल गर्ग, दुनीदास, लवली मेहता आदि उपस्थित थे।

नैना चौटाला का बायो-डाटा
डबवाली(सुखपाल)
डबवाली विधानसभा क्षेत्र से निर्वतमान विधायक डा. अजय सिंह चौटाला की धर्मपत्नी नैना सिंह चौटाला को मैदान में उतारा है। यह पहला मौका है जब चौटाला परिवार से कोई महिला राजनीति में उतरी हैं। इससे पहले सक्रिय राजनीति में नैना सिंह उस समय आई जब उनके ज्येष्ठ पुत्र दुष्यंत चौटाला ने अप्रैल 2014 में हिसार संसदीय क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ा। डा. अजय सिंह चौटाला के जेल में होने के कारण नैना सिंह ने अपने सुपुत्र के लिए चुनाव प्रचार की कमान संभाली थी। नैना सिंह के पति डा. अजय सिंह चौटाला तीन सदनों के सदस्य रहे हैं। डा. अजय सिंह चौटाला दो बार राजस्थान में दातारामगढ़ तथा नोहर से विधानसभा में पहुंचे। इसके बाद वे भिवानी से लोकसभा में पहुंचे। डा. चौटाला राज्यसभा के भी सदस्य रहे हैं तथा पिछला चुनाव 2009 में उन्होंने डबवाली विधानसभा से जीता था।
नैना सिंह चौटाला का जन्म हिसार जिले के आदमपुर हलके के गांव दड़ौली में हुआ। उनके पिता का नाम श्री भीम सिंह गोदारा तथा माता का नाम कांता देवी है। उन्होंने पहली से सातवीं तक की शिक्षा हिसार के नूर निवास हाई स्कूल में प्राप्त की थी तथा इसके बाद उन्होंने एफसी स्कूल हिसार में दाखिला ले लिया। दसवीं के बाद भी नैना सिंह ने एफसी कालेज में दाखिला ले लिया और यहीं से उन्होंने स्नातक की शिक्षा प्राप्त की । वह एफसी स्कूल से लेकर कालेज तक 14 वर्ष तक हॉस्टल की हेड गर्ल रही। ।उन्होंने राजनीति शास्त्र एमए प्रथम वर्ष तक शिक्षा प्राप्त की है। वह कालेज में वह एनसीसी की कैडेट रही और कालेज की ओर से प्री आरडी कैंप ( गणतंत्र दिवस समारोह परेड)में भाग लिया। वह एक अच्छी निशानेबाज रही हैं और शूटिंग में उन्होंने इंटर यूनिवर्सिर्टी में शूटिंग टीम का प्रतिनिधित्व किया।
नैना सिंह चौटाला की 24 फरवरी 1987 को डा. अजय सिंह चौटाला से शादी हुई। उनके दो सुपुत्र हैं। ज्येष्ठ पुत्र दुष्यंत चौटाला जो, कि हिसार से देश के सबसे युवा सांसद हैं। दूसरा सुपुत्र दिग्विजय सिंह चौटाला इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज