BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

सोमवार, नवंबर 17, 2014

सब्जी लाने जा रहे व्यवसायी से उलझे थे दुकानदार, कह रहे समाजसेवियों को रौबीला

मैं तो सब्जी लेने जा रहा था: भूषण दलालगोल बाजार में दुकानदारों से हुई झड़प का मामला

गुरविंदर पन्नू डबवाली  
गोलबाजार में प्रशासन और समाजसेवियों के खिलाफ नारेबाजी करने और समाजसेवियों पर एसडीएम वाला रौब झाड़ने की बात जिस विवाद के आधार पर कही जा रही है उसकी असलियत कुछ ओर है। जिसके साथ दुकानदारों की झड़प हुई थी वह समाजसेवी है और ही एसडीएम के साथ था बल्कि सब्जी लेने मंडी जा रहा था। एसडीएम के साथ हुई बैठक के उपरांत दुकानदार विजय वधवा अन्य दुकानदारों द्वारा समाजसेवियों के रौब झाड़ने और गाली गलौच की बात कही गई थी।
जिससे भास्कर ने बैठक में हिस्सा लेेने वाले झड़प के हिस्सेदार बर्तन विक्रेता धर्मबीर शूज़ विक्रेता अजय कुमार से बात की।
अजय ने बताया कि वधवा की दुकान पर भीड़ से सवाल-जवाब के बाद एसडीएम सतीश कुमार सभी दुकानों पर हाथ जोड़कर अपील करते हुए सब्जी मंडी की ओर चले गए। वे दुकानों के बाहर खड़े थे कि एसडीएम के साथ के समाजसेवियों में शामिल भूषण दलाल ने दुकानदारों पर कमेंट किया था।
जिसका विरोध करने पर बात गाली गलौच तक जा पहुंची। इससे विवाद बढ़ा और बाद में धर्मबीर बर्तन वाले तथा बाजार के दर्जनभर दुकानदार पहुंच गए। दुकानदारों की भूषण दलाल से तीखी झड़प हुई। जिससे सभी दुकानदारों को ठेस पहुंची एसडीएम के साथ चलकर ऐसे लोग दुकानदारों को तंग कर रहे हैं।
भास्कर ने व्यवसायी भूषण दलाल से बात की तो उन्होंने खुलासा किया वह एसडीएम और समाजसेवियों के साथ नहीं थे बल्कि बेटे के साथ सब्जी लेने जा रहे थे। गोल चौक में भीड़ होने से बेटे को वापस भेज दिया और एसडीएम से दुकानदारों के सवाल-जवाब और नारेबाजी का मसला देखा। जैसे ही एसडीएम आगे बढ़े तो भीड़ छंटने से वह भी सब्जी मंडी की ओर निकले। इसी दौरान उन्होंने स्वाभाविक तौर पर बोला कि ऐसी बहस का क्या फायदा सामान पीछे नहीं करेगा तो कार्रवाई होगी। जिसे सुनकर पास खड़े अजय कुमार भड़क गए और उनसे विवाद शांत ही हुआ था कि धर्मबीर ने ही मामला गरमा गया। जिससे आपस में तीखी नोकझोंक हुई और दुकानदारों ने सच्चाई जाने बिना ही उसे घेर लिया। बाद में एक किसान भाजपाई मनोज शर्मा ने उसकी जान बचाई।





कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज