BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

शनिवार, जनवरी 10, 2015

पत्थरों से मार मारकर वृद्ध की हत्या, चौराहे पर मिला शव


पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सिर पर चोट लगने से हत्या का खुलासा

डबवाली (सिरसा)। पत्थरों से मार मारकर एक वृद्ध की हत्या करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। शुक्रवार सुबह शहर थाना पुलिस ने खून से लथपथ शव को डबवाली-अलीकां रोड पर चौराहे से बरामद किया। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
सड़क हादसे की सूचना, पहुंची पुलिस
सुबह करीब आठ बजे शहर थाना पुलिस को सूचना मिली कि रात को हुए सड़क हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई है। डबवाली-अलीकां रोड पर चौराहे के नजदीक शव पड़ा है। सूचना पाकर मौका पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में करके पहचान के लिए उसके पहने कपड़ों की तालाशी ली। जेब से मिली एक पर्ची पर तीन मोबाइल नंबर मिले। जो शराब ठेकेदारों के थे। पुलिस ने शराब ठेकेदारों को मौके पर बुलाया। जयपुर निवासी शराब ठेकेदार ओमप्रकाश ने शव की पहचान डबवाली के वार्ड 13 निवासी नरेंद्र उर्फ निंदी के रूप में करते हुए पुलिस को बताया कि जिला बठिंडा के गांव गुरथड़ी (थाना संगत) में उसका शराब ठेका है। शराब ठेके के आगे निंदी रेहड़ी लगाता था। मौका पर आए डीएसपी सत्यपाल तथा सीन ऑफ क्राइम टीम के चिकित्सक अजमेर सिंह ने जांच की।
सीन ऑफ क्राइम टीम बोली हत्या हुई
सीन ऑफ क्राइम टीम को 60 वर्षीय नरेंद्र के चेहरे और सिर पर बाईं ओर चोट के गंभीर निशान मिले। दो पत्थरों पर खून के धब्बे मिले। खून के छींटों से रंगी सड़क के साथ-साथ मृतक की बाईं टांग को पत्थरों के बीच फंसे होने पर हत्या की पुष्टि कर दी। जिसके बाद पुलिस ने घटना स्थल से दो पत्थर तथा जमीन पर बिखरा खून सबूत के तौर पर कब्जा में लिया। मौके पर आए मृतक के परिजनों से पहचान करवाने के बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए डबवाली के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया।
रात को बस अड्डा की ओर चला था
शराब ठेके के करिंदे सुरेंद्र कुमार ने बताया कि रात को आठ बजकर 20 मिनट पर नरेंद्र दुकान बंद करके उसके पास आया था। समय पूछने के बाद वह बस अड्डा की ओर चला गया। शराब ठेके से बस अड्डा की दूरी महज 200 फुट है। रात करीब 8.30 बजे पीआरटीसी की बस आती है। वह उस बस में सवार हुआ या नहीं, वह नहीं जानता।
15 दिन पहले हुई थी बेटे की मौत
नरेंद्र के बड़े बेटे विकास चावला की 25-26 दिसंबर 2014 को राजस्थान के सरदार शहर के नजदीक एक सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई थी। विकास की मृत्यु को पंद्रह दिन होने पर परिजनों ने शुद्धीकरण की रस्म के लिए शुक्रवार को घर में धार्मिक आयोजन रखा हुआ था। इसी बीच परिजनों को नरेंद्र की हत्या का समाचार मिला।
एक माह पहले हुआ था झगड़ा
डबवाली के वार्ड 13 निवासी राधेश्याम उर्फ सोनू ने पुलिस को बताया कि उसका पिता पिछले करीब ढाई वर्षों से गांव गुरथड़ी में शराब ठेका के आगे रेहड़ी लगा रहा था। करीब एक माह पूर्व पड़ोसी रेहड़ी मालिक से पैसों के लेनदेन को लेकर झगड़ा हुआ था। जिसे उसने ही निपटा दिया था। उसके बड़े भाई विकास की मौत के बाद उसके पिता बृहस्पतिवार को दूसरी बार काम पर गए थे।
हादसे में मौत की सूचना पर पहुंची थी पुलिस
सीन ऑफ क्राइम टीम ने किया हत्या का खुलासा
दो पत्थरों पर खून के धब्बे मिले
मृतक के बेटे राधेश्याम के बयान पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। वृद्ध की हत्या पत्थर मारकर की लगती है। हत्या की गुत्थी को सुलझाने के लिए साइबर सेल की मदद ली जा रही है।
-दलीप सिंह, प्रभारी, शहर थाना डबवाली
1. रात को ठीक 8.30 बजे पीआरटीसी की बस गांव गुरथड़ी पहुंचती हैं। गांव मशाना के रहने वाले इस बस के चालक तथा परिचालक का भोजन भी नरेंद्र के पास होता था। जिसके चलते बस उसे लेने के लिए गुरथड़ी अड्डा पर जरूर रुकती थी, पुलिस पता लगाएगी कि नरेंद्र बस में सवार हुआ था या नहीं?
2. पीआरटीसी से डबवाली पहुंचने पर प्रतिदिन अंडों का हिसाब करने के लिए वह गोल चौक पर स्थित एक दुकान में जाता था, क्या रात नरेंद्र वहां गया था?
3. नरेंद्र के पास एक थैला था, हर रोज घर लौटते समय थैले में शराब होता था। नरेंद्र की तालाशी के दौरान पुलिस को उसकी जेब से 780 रुपये, बीड़ी तथा माचिस मिली। लेकिन थैला या शराब नहीं मिला? संदेह है कि कहीं शराब के लिए हत्या तो नहीं की गई?
4. नरेंद्र का घर कॉलोनी रोड पर स्थित एक गली में हैं। आखिर वह प्रेमनगर क्रॉस करके अलीकां रोड पर चौराहे पर कैसे पहुंचा?
पोस्टमार्टम रिपोर्टः सिर पर गहरे घाव
डबवाली के सिविल अस्पताल के चिकित्सक डॉ. सुखवंत सिंह तथा डॉ. भारत भूषण पर आधारित दो सदस्यीय चिकित्सीय बोर्ड ने नरेंद्र के शव का पोस्टमार्टम किया। बोर्ड ने नरेंद्र की बाईं आंख, ठोढ़ी, सिर के आगे तथा पीछे चोट के निशान पाए। सिर के बाईं ओर हुए गहरे घावों से उसकी मृत्यु होने की पुष्टि हुई है।
पुलिस ढूंढेगी है इन सवालों के जवाब
डबवाली में हत्या का खुलासा होने पर तथ्यों के बारे में बातचीत करते हुए डॉ. अजमेर तथा शहर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर दलीप सिंह।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज