BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

शुक्रवार, फ़रवरी 06, 2015

पेंशन आवेदन करने पहुंचे बुजुर्ग बोले यह सम्मान नहीं-अपमान योजना है


 
बीडीपीओ ऑफिस मंे पेंशन आवेदन का मासिक खुला दरबार 
 डबवाली
बीडीपीओकार्यालय में गुरुवार को पेंशन योजना का लाभपात्रों के लिए मासिक खुला दरबार लगा। जिसमें पहुंचे वृद्वजनों को दोहरी परेशानी का सामना करना पड़ा। शहर में पहुंचे लोगों को बठिंडा रोड पर कार्यालय परिसर का मेन गेट पर ताला लगा होने से चिंता हो गई। बाद में दूसरे लोगों से पूछकर सिरसा रोड पर दूसरे गेट से अंदर पहुंचना पड़ा। साथ ही एपीआर में नाम सही कराने के आवेदक भी पहुंचे और ज्यादा भीड़ के कारण सभी को देरी परेशानी का सामना करना पड़ा जिससे वृद्ध खफा नजर आए।
वृद्ध रणवीर बिज्जूवाली, शंकर गोरीवाला, सोहन लाल देसूजोधा, जगदीश सिंह, बिहारी लाल ने बताया कि 60 साल की उम्र होने पर सरकार ने हमारे लिए सम्मान पेंशन योजना शुरू की लेकिन व्यवस्थाएं नहीं होने से ये अपमान योजना का लाभ लेने जैसी स्थिति बनी हुई है। वृद्धों ने बताया कि वे सुबह गांव से अपने सरपंचों परिवार के लोगों के साथ कार्यालय में पहुंचे हैं जिसमें पहले भीड़ होने से आवेदन पहुंचाने में ही दिक्कत हुई और अब नंबर आने का इंतजार कर रहे हैं। कुछ देर तो लोग कतारों में रहे फिर परेशान होने से बाहर आकर बैठ गए और देर तक नंबर नहीं आने पर अंदर जाकर देखा तो भीड़ में कई लोगों के एक साथ लाए गए फार्म आवेदन लेने वाले कर्मचारी सीधे निपटा रहे हैं। जो सुबह से इंतजार कर रहे हैं उनकी कोई सुनवाई नहीं है। उन्होंने कहा कि गांव में शिविर लगाकर पेंशन बनाई जाए।
माह के पहले गुरुवार को लगता है शिविर 
बीडीपीओराजेश शर्मा ने बताया कि खंड के सभी ग्रामीणों को एक स्थान पर योजना का आसानी से लाभ देने के लिए पेंशन आवेदन शिविर प्रत्येक माह पहले गुरुवार को कार्यालय में लगाया जाता है। इसमें पात्र को अपने रेजिडेंस प्रूफ के साथ वोटर कार्ड लगाना होता है। साथ में 60 वर्ष उम्र पूरी होने के प्रमाण के लिए जन्म प्रमाण पत्र या सबसे बड़ी संतान का जन्म प्रमाण पत्र अथवा स्कूल रिकॉर्ड में जन्मतिथि का प्रमाण संलग्न करना होगा। जिनके आधार कार्ड बने हैं वे इसकी प्रति साथ लगा सकते हैं और सभी के आवेदन समाज कल्याण विभाग की ओर से आए कर्मचारी प्राप्त कर लेते हैं। इसके बाद उन्हें जांच कर उम्र आवेदन पूरे होने पर पेंशन शुरू कर दी जाती है।
हाथ कटने पर नहीं मानते अशक्त
गांवचौटाला निवासी जगदीश सिंह पुत्र आईदान ने बताया कि तीन साल पहले खेत में काम करते वक्त थ्रेसर से एक हाथ कट गया। इससे उसने मेडिकल तैयार कराया तो उसे 50 प्रतिशत अशक्त ही माना गया है लेकिन बाएं हाथ के नहीं होने से वह कोई काम भी नहीं कर सकता। इससे तीन साल से कर्ज में डूब रहा है और अब पेंशन भी शुरू नहीं हो रही है। उसकी उम्र को 60 वर्ष पूरा मान रहे हैं और ही अशक्त मानकर पेंशन दे रहे हैं। गांव के सरपंच आत्माराम छिंपा ने बताया कि विभागी कर्मचारी 70 प्रतिशत अशक्त व्यक्ति को पेंशन का आवेदक मानते हैं और हाथ कटे होने पर कईयों को 70 प्रतिशत का प्रमाण पत्र दिया जाता है लेकिन जगदीश को 50 प्रतिशत का प्रमाण दे रखा है। जिसकी दोबारा जांच कराई जाएगी।
पेंशन फार्म लेकर हस्ताक्षर करवाते समाज कल्याण विभाग के कर्मचारी। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज