BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

बुधवार, फ़रवरी 04, 2015

कॉलेज को नया भवन तो मिला नहीं मिलीं स्टूडेंट्स को सुविधाएं

मुसीबत| प्राचार्य के सेवानिवृत्त होने के बाद कार्यकारी प्रिंसिपल को डीडीओ पावर नहीं मिलने से हो रही परेशानी 

डबवाली
शहरवासियोंके संघर्ष के बाद डॉ. भीमराव कॉलेज काे नया भवन तो मिल गया। लेकिन कॉलेज में प्रिंसिपल नहीं होने से तमाम प्रोजेक्ट अटके पड़े हैं। वहीं छात्रों को अगले सत्र में पीजी कक्षाएं शुरू होने की उम्मीद भी धूमिल हो रही है। पिछले साल से कॉलेज की साइट को भी अपडेट नहीं किया गया है। जिससे छात्रों को सही जानकारी नहीं मिल रही है। वहीं कई माह से स्टाफ को सैलरी भी नहीं मिल रही है।
शहरवासियों के श्रीबालाजी एजुकेशन सोसायटी के बैनर तले लंबे समय चले संघर्ष के बाद वर्ष 2007 में पुराने अस्पताल भवन में स्थापित काॅलेज को नया भवन मिल गया लेकिन प्रिंसिपल का पद फिर खाली पड़ा है। मौजूदा समय में नए कॉलेज के सारे प्रोजेक्ट भी प्रिंसिपल के बिना अटके पड़े हैँ।
येकाम अटके
विद्यार्थियोंने बताया कि कॉलेज में पहुंचने के लिए रोड बनाने का वादा एक दो माह में पूरा करने की बात हुई थी लेकिन प्रिंसिपल नहीं होने से पिछले 4 महीने में विद्यार्थियों की इस समस्या पर गंभीरता नहीं बरती जा रही है। इसके अलावा खेल मैदान की तमाम व्यवस्थाएं पूरी नहीं हुई है। साथ ही लैब अपग्रेड करने का काम भी बीच में पड़ा है। स्टूडेंट के लिए कॉलेज परिसर में बनने वाले पार्क, पार्किंग और शैड का काम भी शुरू नहीं हो पाया है। कॉलेज प्रिंसिपल नियुक्त हों तो सभी कार्यों को तेजी मिलेगी और विद्यार्थियों को पूरी सुविधाएं मिलेंगी।
चारमहीने से नहीं मिला वेतन
प्रिंसिपलको रिटायर हुए कई महीने हो गए हैं। उन्हें अपनी अंतिम सैलरी और पेंशन का इंतजार है। वहीं स्टाफ को भी चार माह से सैलरी नहीं मिली है। कॉलेज से 29 नवंबर को रिटायर हुए तत्कालीन प्रिंसिपल डॉ. पवन गर्ग को अभी अपनी अंतिम सैलरी और पहली पेंशन के भुगतान का इंतजार है। इसी प्रकार दूसरे डेढ़ दर्जन प्रोफेसर और एसोसिएट प्रोफेसर तथा दर्जनभर नॉन टीचिंग स्टाफ काे लगातार चौथे माह सैलरी का इंतजार है। इसी प्रकार कॉलेज में आधा दर्जन एक्सटेंशन लेक्चरर को भी मेहनताना नहीं मिल रहा।

^प्रिंसिपल
नियुक्त नहीं होने कॉलेज में किसी को डीडीओ पॉवर अभी नहीं मिली है। जिसके कारण कुछ काम अटके हुए हैं। सैलरी नहीं मिलने से किसी पियून या कुछ स्टाफ सदस्यों को दिक्कत है और कोई समस्या नहीं है। इसके बारे में मुझे ज्यादा जानकारी नहीं है।'' राकेशवधवा, कार्यकारी प्रिंसिपल
डबवाली। 

पीजी कक्षाएं शुरू होने का भी इंतजार
काॅलेज का नया भवन बन जाने के बाद क्षेत्र के विद्यार्थियों को पोस्ट ग्रेजुएट की सभी संकाय में कक्षाएं शुरू होने का भी इंतजार है। विद्यार्थी विनोद, राजेंद्र, संदीप सुथार, राजेश, कृष्ण चंद्र अनिल ने बताया कि कॉलेज में पीजी कक्षाएं शुरू की जानी चाहिए। इसके लिए पूरे कमरे संसाधन भी उपलब्ध हैं। अभी बीए फाइनल में करीब 250 से विद्यार्थी हैं जिन्हें पीजी के लिए दूसरे शहरों में जाना हाेगा।
वेतन अौर पेंशन का इंतजार
रिटायर्डप्रिंसिपल डॉ. पवन गर्ग का कहना है कि मेरी रिटायरमेंट के नवंबर माह की सैलरी और बाकी बिलों का भुगतान अटका हुआ है। तीन माह बाद भी प्रिंसिपल नियुक्त होने डीडीओ पावर नहीं मिलने से पहली पेंशन का भी इंतजार है। प्रिंसिपल नहीं होने से कॉलेज के सभी दूसरे प्रोजेक्ट अटककर रह गए हैं। पूरे स्टाफ को सैलरी भी नहीं मिली है।
साइट भी नहीं की अपडेट

राजकीयकॉलेज को वर्ष 2014 में गांव डबवाली के पास अत्याधुनिक संसाधनयुक्त नया भवन नाम डॉ. भीमराव अंबेडकर मिल चुका है लेकिन कॉलेज की साइट को जुलाई 2014 में नाम के बाद अपडेट नहीं किया गया है। जिससे इसमें पिछले वर्ष की जानकारियां तथा पुराने भवन को ही फीचर में दिखाया जा रहा है जबकि कॉलेज को करीब 16 करोड़ रुपये के अतिआधुनिक भवन में शिफट किया जा चुका है। इससे ऑनलाइन रहने वाले विद्यार्थियों अभिभावकों को कॉलेज की सही जानारी भी नहीं मिल रही है। मजेदार बात है कि 29 नवंबर 2014 को रिटायर हो चुके डॉ. पवन गर्ग ही साइट पर प्रिंसिपल दर्शाए गए हैं।







कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज