BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

शनिवार, फ़रवरी 07, 2015

सामान्य अस्पताल में स्वाइन फ्लू के लिए नहीं बनाया गया विशेष वार्ड, दवा भी नहीं

स्वाइन फ्लू से शहर की एक महिला की हो चुकी है मौत, रेफर कर रहे मरीज 

विनोद कुमार | डबवाली
शहरवासीमहिला की स्वाइन फ्लू से माैत हो जाने के बावजूद अस्पताल प्रशासन की तरफ से कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए है। अगर स्वाइन फ्लू से अाशंकित कोई मरीज अस्पताल में आता है तो प्रशासन बस उसे सिरसा ही रेफर करेगा। कारण यह है कि तो अस्पताल में स्वाइन फ्लू से बचाव के लिए कोई वार्ड है अौर ही मरीज को दी जाने वाली टेमीफ्लू दवा। वहीं अस्पताल में रोजाना बुखार, खांसी, जुकाम के रोगियों की ओपीडी में बढ़ोतरी हाे रही है। वहीं आमजन भी इस बीमारी के बारे में ज्यादा अवगत नहीं है।
उपमंडल में शहर गांव चौटाला के सामान्य अस्पताल में स्वाइन फ्लू से बचाव के लिए कोई वार्ड नहीं बनाया गया है। ही आशंकित मरीजों की जांच के लिए कोई व्यवस्था है तथा तुरंत दी जाने वाली टेमीफ्लू दवाएं भी यहां उपलब्ध नहीं है। ऐसे में आमजन को जिला अस्पतालों से दवा और जांच कराने में रुपये खर्चने को मजबूर होना पड़ रहा है।
एेसे हैं स्वाइन फ्लू के लक्षण 
एसएमओने बताया कि स्वाइन फ्लू एच1एन1 इनफ्लूएंजा वायरस के कारण फैलता है। यह वायरस संक्रमित व्यक्ति से ही आगे बढ़ता है। इसलिए व्यक्ति स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें और ठंड लगने, खांसी, जुकाम, बुखार होने पर उचित उपचार अवश्य लें। यदि एक सप्ताह से ज्यादा खासी, जुकाम, बुखार होने के साथ गला खराब होने और सांस लेते में दिक्कत हो तो चिकित्सक से परामर्श लेकर सरकारी स्तर पर होने वाली निशुल्क जांच कराई जा सकती है। स्वाइन फ्लू आशंकित को मांसपेशियों में दर्द होने लगता है और उल्टियां होने के साथ आंखों पर भी प्रभाव पड़ता है। यह वायरस अधिकतर लंबे समय से बुखार पीड़ित, 5 साल तक के बच्चों, गर्भवती महिलाओं बुजुर्गों में ज्यादा होता है। वायरस 7 से 13 डिग्री तापमान के दौरान मरीज में ज्यादा तेजी से बढ़ता है यानि शाम से अलसुबह तक पीड़ित की हालत बिगड़ जाती है।
दवा जिले के ड्रग स्टोर पर है
एसएमओएमके भादू के बताया कि स्वाइन फ्लू से एक महिला की मौत होने की पुष्टि हुई है जिसका इलाज पंजाब में चल रहा था और उसमें वायरस भी पंजाब की रिश्तेदारी में समारोह के दौरान रोगी के संपर्क में आने से आया था। जिसकी पुष्टि होने पर स्वास्थ्य विभाग ने वार्ड 7 में मृतका के परिवार सहित संपर्क में रहने वाले 9 सदस्यों को टेमीफ्लू दवा दे दी है। साथ ही आसपास के लोगों की जांच कर लोगों को निशुल्क दवाएं वितरित की। अस्पताल प्रशासन को अलर्ट किया गया है कि खांसी जुकाम बुखार के गंभीर मरीजों को लक्षण पाए जाने पर तुरंत सिरसा सामान्य अस्पताल रेफर करना है। जहां आइसोलेशन वार्ड में मरीज को पूरी जांच इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आशंकित मरीजों के लिए सिरसा से ही टेमीफ्लू की दवा जिला के ड्रग स्टोर पर उपलब्ध है। जिसे तुरंत मंगवाया जाता है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में अभी किसी जगह वायरस नहीं है।
बढ़ रहीं ओपीडी 
मौसमके बदलाव आने से अस्पताल में ओपीडी की संख्या दो सप्ताह से बढ़ चुकी है। अस्पताल में पिछले महीने 250 के आसपास ओपीडी होती थी। अब इसमें 20 प्रतिशत की बढ़ौतरी हो गई है। अस्पताल में 2 फरवरी को 335, 4 फरवरी को 303, 5 को 300 से अधिक मरीजों ने जांच कराई है। जिसमें अधिकतर रोगी ठंड लगने यानि बुखार, खांसी, जुकाम से पीड़ित हैं लेकिन किसी में वायरस की आशंका नहीं मिली है।
 

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज