BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

शनिवार, मार्च 21, 2015

अनदेखी से कारखाने बंद होने के कगार पर : गर्ग



डबवाली। हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रदेशाध्यक्ष बजरंग दास गर्ग ने कहा कि प्रदेश के शेष जिलों की अनदेखी कर केवल गुड़गांव एवं बहादुरगढ़ को औद्योगिक क्षेत्र बनाना उचित नहीं है। डबवाली, झज्जर व हिसार में भी उद्योग स्थापित किए जा सकते हैं। मौजूदा उद्योग नीति के कारण पूरे प्रदेश में कपास, ग्वार तथा जीरी के कारखाने कर्जदार होकर बंद होने की कगार पर पहुंच गए हैं। ऐसे में मौजूदा उद्योग नीति में संशोधन होना चाहिए। यहां शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में गर्ग ने कहा कि मौजूदा उद्योग नीति से व्यापारियों का दम घुट रहा है। उत्तरांचल में उद्योगपति को इंकम टैक्स में छूट मिल रही है वहीं हरियाणा का उद्योगपति टैक्सों के बोझ के नीचे कर्जदार हो गया है। प्रदेश सरकार अप्रैल माह में नई उद्योग नीति लाने जा रही है। नई नीति से व्यापारियों को काफी आशाएं हैं। उनकी मांग है कि सरकार सरकार सिंगल विंडो सिस्टम लागू करे। उसी के तहत एनओसी, लाइसेंस जारी किए जाएं। उद्योगपतियों को उद्योग स्थापित करने के लिए किसान तर्ज पर जमीन मुहैया करवाई जाए। इंस्पेक्टरी राज खत्म होना चाहिए। उन्होंने स्पष्ट लफ्जों में कहा कि अगर किसान देश का अन्नदाता कहलाता है, तो व्यापारी देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है।
खनन शुरू करवाए सरकारः
प्रदेश में बंद पड़े खनन का मामला उठाते हुए व्यापारी नेता ने कहा कि खनन का काम बंद होने से सरकार को करोड़ों रुपये राजस्व का नुकसान हो रहा है। इसका फायदा पंजाब और यूपी उठा रहे हैं। बजरी, क्रेश व रेत के भाव आसमान छूने से आम व्यक्ति को घर बनाना मुश्किल हो गया है। आम आदमी महंगाई की चक्की में पिस रहा है। सरकार को तुरंत प्रभाव से मंजूरशुदा पहाड़ों पर काम शुरू करवाना चाहिए। पेयजल देने के नाम पर व्यापारियों से प्रति माह 1000 रुपये लेना गलत है। व्यापारियों से घरेलू उपयोग के समान ही पानी का बिल लेना चाहिए।
आढ़ती नहीं देगा कटौती का पैसा
व्यापारी नेता ने कहा कि प्रदेश में एक अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू हो जाएगी। पांच खरीद एजेंसी हैफेड, एग्रो, वेयर हाऊस, कनफेड तथा फूड सप्लाई गेहूं की खरीद करेंगी। हर बार एजेंसी तथा उठान ठेकेदार की लापरवाही से लिफ्टिंग में देरी होने के कारण गेहूं सूख जाता है। कटौती की मार व्यापारी को झेलनी पड़ती है। इस बार व्यापारी किसी तरह की कटौती नहीं देगा। एजेंसी तथा संबंधित ठेकेदार को अपनी जेब से ही नुकसान की भरपाई करनी होगी। इस अवसर पर जिला प्रधान हीरा लाल शर्मा, इंद्र जैन, प्रवीण सिंगला, कच्चा आढ़ती एसोसिएशन डबवाली के अध्यक्ष प्रकाश चंद बांसल, प्रेम प्रकाश गोयल, तरसेम जिंदल मौजूद थे।

हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रदेशाध्यक्ष ने सरकार पर लगाए आरोप

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज