BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

गुरुवार, मार्च 12, 2015

प्रतिबंधित नशीली दवाओं सहित मेडिकल संचालक गिरफ्तार


डबवाली। जिला पुलिस कप्तान द्वारा नशे के खिलाफ चलाए गए अभियान के तहत बीती शाम जिला एंटी नार्कोटिव सैल पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर गांव देसूजाधा में गश्त दौरान मेडीकल शॉप संचालक को भारी मात्रा में मेडीकल नशे सहित काबू करने में सफलता हासिल की है। नार्कोटिव सैल के प्रभारी राजेश कुमार एएसआई ने बताया कि उन्हें कई दिनों से सूचना मिल रही थी कि गांव देसूजोधा व आसपास के एरिया में मैडिकल नशे की सप्लाई हो रही है तो उन्होंने मंगलवार को गांव देसूजोधा के आसपास पुलिस गश्त तेज कर दी। बीती शाम जब वह गांव देसूजोधा के पास गश्त पर थे तो इसी दौरान एक सिख युवक एक गली से अपने हाथ में एक क्ट्टा लेकर आ रहा था जब उन्हाने उक्त युवक को रोका तो उसने भागने का प्रयास किया लेकिन पुलिस टीम ने उसे दबोच लिया। कट्टे की तालाशी दौरान उसमें 22 हजार 5 सोमन प्रभावी प्रतिबंधित नशे में प्रयोग होने वाली विभिन्न प्रकार की गोलियां 14 डैजि़पाम इंजैक्शन के आलावा 50 रैसकॅफ की शीशीयां बरामद हुई। उन्होंने बताया कि काबू किए गए युवक ने की पहचान गुलशन कुमार पुत्र वेद प्रकाश उर्फ (पाला) के तौर पर हुई है। पूछताछ में उसने बताया कि वह गांव में गुरू गोबिंद मेडिकल स्टोर चलाता है। नार्कोटिव सैल के प्रभारी राजेश कुमार ने बताया कि उन्होंने इसकी सूचना अपने उच्च अधिाकिरीयों के अलावा ड्रग इंसपैक्टर को दी। सूचना पाकर ड्रग इंसपैक्टर दिनेश राणा मौका पर पहुंचे और उन्हाने मैडिकल संचालक से बरामद की गई गोलिया इंजैक्शन व रैसकॉफ की शीशियों की जांच करते हुए कहा कि यह नशे में प्रयोग होने वाली गोलियां है।
ड्रग इंसपैक्टर द्वारा उसके मैडिकल शॉप की तालाशी दौरान किसी प्रकार की कोई नशीली दवाईयां बरामद नही हुई। एएसआई राजेश कुमार ने बताया कि उन्होंने मैडिकल संचालक गुलशन कुमार पुत्र वेद प्रकाश के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज लिया है। उन्होंने बताया कि बुधवार को मैडिकल संचालक गुलशन कुमार को डबवाली की अदालत में पेश किया जाएगा और उसका पुलिस रिमांड लिया जाएगा। पुलिस रिमांड दौरान मैडिकल सुचालक से नशे के कारोबार में जुड़े लोगो के बारे पूछताछ कर उन्हे काबू करने का प्रयास किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज