BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

मंगलवार, मार्च 17, 2015

लूटी गई कार का पता, पीछा करने वाली पीसीआर का



4 मार्च को हुई थी कार लूट की घटना, सीसीटीवी फुटेज में हुई पुष्टि, शिकायत पर एसपी ने की थी तीन टीमें गठित, 10 दिन से थाने के चक्कर काट रहा पीड़ित
डबवाली
शहरमें बीती 4 मार्च काे हाईवे किनारे से रात को लूटी गई नई वरना कार मामले में पुलिस कोई सुराग नहीं जुटा पाई है। मजेदार बात है कि लूट के दौरान सुनवाई नहीं करने वाली पुलिस पीसीआर का भी पुलिस अभी तक पता नहीं लगा पाई है। जिसकी शिकायत करते हुए पीड़ित ने एसपी को बताया था कि कार लूट की घटना के वक्त वहां सिरसा पुलिस की पीसीआर मौजूद थी। जिसमें लुटेरों द्वारा ले जाई जा रही गाड़ी का पीछा करने की मांग की तो उसकी सुनवाई नहीं की और उसे पहले थाने में शिकायत करने का जवाब दिया गया था। मामले में एसपी ने कार्रवाई का आश्वासन देते हुए तीन टीमों को लगाया था लेकिन आज 10 दिन बाद भी कोई सुराग पुलिस को नहीं मिला है। इससे पुलिस जांच की प्रक्रिया सटीकता पर सवाल उठ रहे हैं।
मामले की शिकायत मिलने पर रात को ही पुलिस ने गाड़ी का हाईवे पर पीछा किया लेकिन कोई सुराग नहीं चला था। इसके बाद अगले दिन एसपी को मिलकर पूरे शहर की संस्थाओं के प्रतिनिधियों के सामने पीडितों ने शिकायत की। जिस पर एसपी अश्विनी शेणवी ने डीएसपी सत्यपाल यादव सहित टीम को मामले की तत्परता से जांच के आदेश दिए थे और बाद में शहर थाना प्रभारी के नेतृत्व की एक टीम के साथ सीआईए पुलिस टीम तथा मोबाइल नेटवर्क लोकेशन के आधार पर जांच के लिए साइबर सैल टीम भी जांच में जुट गई थी। तीनों टीमों ने पिछले 10 दिनों की जांच में कोई विशेष सुराग नहीं लग पाया है।
थाना प्रभारी दलीप सिंह ने बताया कि पुलिस ने मोबाइल नेटवर्क के डंप्स लिए है। जिनकी गहनता से जांच की जा रही है और उससे मिलने वाले लोगों से पूछताछ की जा रही है। जिनसे अभी तक मामले के बारे में कोई सुराग नहीं मिला है। कार मालिका राजेश लूणा ने बताया कि वह रोजाना कार की जांच के लिए थाने का चक्कर लगाता है लेकिन अभी कुछ नहीं मिला है कहकर पुलिस कर्मी उसे टाल देते हैं।
उल्लेखनीय है कि घटना के अगले दिन राजेश लूणा ने शहरवासियों के साथ एसपी से मुलाकात कर बताया था कि उसने 28 फरवरी को 10 लाख रुपये की नई वरना कार खरीदी थी। जिसकी लाइट सैट कराने के लिए 4 मार्च को गोल चौक पर मेकेनिक के पास पहुंचा। इस दौरान गाड़ी स्टार्ट थी और लाइटें ऑन थी। लाइटें दुरुस्त होने पर वह मिस्त्री को भुगतान कर रहा था कि कार में कोई युवक बैठा और बैक गियर में कार को ले गया।
मोबाइल डंप्स का ले रहे सहारा
मामलेकी जांच के लिए थाने की टीम के साथ साइबर टीम सीआईए टीम भी जुटी हुई है। इसमें कोई विशेष सुराग की तलाश की जा रही है। पीसीआर के बारे में पीड़ित कभी जिप्सी बताते हैं तो कभी सूमो बताते हैं। अब मोबाइल डंप्स से ही इसका सुराग लगा रहे हैं।
इंस्पेक्टरदलीप सिंह, शहरथाना प्रभारी।
खुलासा अभी नहीं:एसपी
कार लूट मामले में हमारी टीमें लगी हुई हैं और कई अहम सुराग पुलिस मिले हैं। जिसके आधार पर हम जल्द ही मामले का खुलासा करेंगे। गोल चौक पर वारदात के समय बताई जा रही पीसीआर के बारे में हमने डीएसपी से इंक्वायरी भी करवाई है। पीसीआर किसकी थी इसका खुलासा हम नहीं कर पाएंगे।''
अश्विनीशैणवी, एसपी, सिरसा
11 घंटे के बीच हुई थी दो गाड़ियों की लूट
उल्लेखनीयहै कि एसपी अश्विनी शेणवी के पहुंचने से उनके स्वागत को तैयारी कर रही पुलिस को लुटेरों ने चुनौती देते हुए दो गाड़ियों की लूट की घटना को अंजाम दिया। इनमें 4 मार्च की रात को गोल चौक के पास वर्कशॉप से नई वरना कार जबकि 5 मार्च को निकटवर्ती पंजाब एरिया में सुबह 8 बजे मालवा बाइपास पर स्विफ्ट कार गन प्वाइंट पर लूटी गई थी।





कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज