BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

सोमवार, मार्च 23, 2015

करंट लगने से एक युवक की मौत


 
पक्का शहीदां गांव की घटना, जिंदा होने की उम्मीद में करीब दस घंटे से तक मिट्टी में दबाए रखा 
बिजली का मिस्त्री था 
 कालांवाली
 गांव पक्का शहीदां में रविवार को खेत में काम करते समय करंट लगने से एक युवक की मौके पर ही मौत हो गई। पुरानी परंपराओं के चलते जिंदा होने की उम्मीद में करीब दस घंटे तक धरती में दबाए रखा। करंट लगने से गांव में तीन-चार मौते होने के कारण ग्रामीणों का बिजली विभाग के अधिकारियों के प्रति काफी रोष है। करीब 18 वर्षीय मृतक की पहचान प्रकट सिंह निवासी पक्का शहीदां के रूप में हुई है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक प्रकट सिंह जो कि अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र था। सुबह करीब तीन बजे अपने साथी के साथ खेत में पानी लगाने के लिए गया था। पानी लगाने के बाद वह खेत में लगी पड़ोसी के साथ साझी मोटर को बंद करने लगा, मगर मोटर के कमरे पर ताला लगा हुआ था। फिर उसने मोटर के साथ लगे ट्रांसफार्मर के जीरो स्वीच काटने लगा तो करंट गया।
जिसकी मौके पर ही मौत हो गई। उसके साथी ने तुरंत इस बात की सूचना उसके परिजनों ग्रामीणों को दी। ग्रामीणों उसके परिजनों ने तुरंत मौके पर पहुंचकर उसे गांव के ही किसी निजी डॉक्टर को दिखाया। डॉक्टर ने प्रकट सिंह की मृत घोषित कर दिया। लेकिन इसके बाद ग्रामीणों के सहयोग से उसके परिजनों ने पुरानी परंपराओं पर चलते हुए जिंदा होने की उम्मीद में धरती में दबा दिया और मालिश करते रहे। लेकिन करीब दस घंटे से ज्यादा समय धरती में दबाने के बाद भी प्रकट के शरीर में कोई हलचल नहीं हुई तो उसके परिवार के सदस्यों ग्रामीणों में शोक की लहर दौड़ गई। बिजली निगम के एसडीओ एसके नैन ने बताया कि जीओ स्विच में करंट आने की जांच करेंगे। निजी चिकित्सक पवन बांसल ने बताया कि जब बिजली का झटका लगता है तो व्यक्ति को दिल काम करना बंद कर देता है, जिससे मौत हो जाती है।
प्रकट सिंह बिजली का मिस्त्री था
 ग्रामीणों के अनुसार पहली बार ही खेत में काम करने के लिए गया था। मिस्त्री होने के चलते उसने अपने साथी से स्विच में करंट आने के बारे में पूछा भी था। गांव के गुरनाम सिंह ने बताया कि बिजली विभाग की अनदेखी के चलते ही हादसा हुआ है। इससे पहले भी गांव तीन लोग बिजली के करंट लगने से मर चुके हैं। वे कई बार विभाग के अधिकारियों को बिजली की तारें ऊंची करने स्विच बदलने के लिए कह चुके है। लेकिन विभाग ने कार्रवाई नहीं की। उन्होंने बताया कि डीसी को भी गांव दादू धर्मपुरा में खुले दरबार में भी उक्त समस्या के बारे में अवगत करवाया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज