Young Flame Young Flame Author
Title: एक और गली जांच के घेरे में
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली पहुंची सीएम फ्लाइंग तथा पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन की संयुक्त टीम #dabwalinews.com डबवाली। नगर परिषद डबवाली में हुए घोटालों की जा...
डबवाली पहुंची सीएम फ्लाइंग तथा पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन की संयुक्त टीम
#dabwalinews.com
डबवाली। नगर परिषद डबवाली में हुए घोटालों की जांच के लिए एक बार फिर सीएम फ्लाइंग ने डबवाली में दस्तक दी। जांच के दायरे में आई वार्ड नंबर 13 की एक गली के निर्माण पर विवाद खड़ा हो गया है। कागजों में तीन बार निर्मित हो चुकी गली की हकीकत लोगों ने बयां कर दी। इसके अतिरिक्त टीम ने अग्निकांड स्मारक क्षेत्र में स्थित एक गली में दस्तक दी।
बुधवार को सीएम फ्लाईंग हिसार की टीम गुरमीत सिंह चोटियां, मलकीत सिंह, पुलिस हाऊसिंग कार्पोरेशन के एसडीई नरेंद्र कुमार के नेतृत्व में बठिंडा रोड़ स्थित लोक निर्माण विभाग के विश्राम गृह में पहुंची। टीम ने नगर परिषद के पूर्व एमई रमेश कुमार, फूल सिंह, जेई सतपाल, महेंद्र से पूछताछ शुरू की। बाद में उपरोक्त को साथ लेकर शिकायतकर्ता भोला राम शर्मा की मौजूदगी में वार्ड नंबर 13 की वाल्मीकि मंदिर वाली गली में पहुंची। वर्ष 2010 से 2013 तक तीन बार एक ही गली के निर्माण पर प्रश्न किए। गली वासी साहब राम पुहाल ने अपने बयान दिए कि वर्ष 2010 में गली के 126 फुट टुकड़े का निर्माण किया गया था। अभी दो-ढाई माह ही बीते थे कि पेच वर्क शुरू हो गया। पूरी गली नहीं बनी। कुछ समय बाद गली का निर्माण करवाया गया। जबकि कागजों में गली का निर्माण तीन बार दिखाया गया है। सीएम फ्लाइंग ने सवाल खड़े किए हैं कि तीन वर्षों के भीतर एक ही गली का निर्माण कैसे हो गया? इतने समय में तो तीन बार वीवीआईपी गली नहीं बनती। अगर बनी है तो क्यों बनी? नगर परिषद ने किस प्रक्रिया से गली का निर्माण करवाया? सीएम फ्लाईंग ने मौका पर मौजूद एमई जयवीर डुडी से भी पूछताछ की। डुडी ने कहा कि उसने आखिरी बार 2013 में गली का निर्माण करवाया है। कागजात में ही तत्कालीन एमई फूल सिंह फंसते नजर आ रहे हैं। इसके बाद टीम ने अग्निकांड स्मारक क्षेत्र की एक गली का भी ेेनिरीक्षण किया।
देर शाम तक डबवाली में रहने के बाद टीम वापस रवाना हो गई। टीम वीरवार को उपरोक्त गलियों में से सैंपलिंग कर सकती है।

ठेकदारों की सिट्टी-पिट्टी गुम
सीएम फ्लाइंग की जानकारी मिलते ही ठेकेदार रविंद्र बिंदू, इंद्र जैन मौका पर आ गए। ठेकेदार इंद्र जैन के साथ सतारूढ दल से जुड़ा एक तथाकथित नेता भी अधिकारियों तथा कर्मचारियों की हां में हां मिलाते हुए नजर आया। शिकायतकर्ता भोला राम शर्मा के अनुसार अधिकारी ठेकेदार को मौका पर बुलाकर जांच को प्रभावित कर रहे हैं। जबकि भ्रष्टाचार से पर्दा हटते जा रहा है। खुद को फंसता देख ठेकेदार तथा अधिकारी जांच टीम पर दबाव की रणनीति अख्तियार कर रहे हैं।

फिलहाल जांच चल रही है। अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। लोगों के साथ-साथ संबंधित लोगों के ब्यान कलमबद्ध किए जा रहे हैं।
गुरमीत सिंह चोटियां,
जांच अधिकारी, सीएम फ्लाइंग, हिसार

प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें