Young Flame Young Flame Author
Title: ग्राम सचिवाें को पंचायती हेडक्वार्टर पर भी रहने के निर्देश
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
चुनाव |लोगों को कामाें के लिए नहीं होना पड़ेगा परेशान, इस माह की पेंशन भी ग्राम सचिव बांटेंगे  #dabwalinews.com खंड में पंचायतों की ...
चुनाव |लोगों को कामाें के लिए नहीं होना पड़ेगा परेशान, इस माह की पेंशन भी ग्राम सचिव बांटेंगे 
#dabwalinews.com
खंड में पंचायतों की नियमित व्यवस्थाओं को चलाने के लिए 48 पंचायतों में 15 ग्राम सचिवाें के हेडक्वार्टर बनाए गए हैं। जहां दिनभर ग्राम सचिव ग्रामीणों को मिलेंगे जबकि समय समय पर पंचायतों में जाकर सेवाएं देंगे और व्यवस्थाएं देखेंगे। ग्राम सचिव को इस सप्ताह में पंचायती विकास कार्यों की रिकॉर्ड सूची दुरुस्त करने के साथ विकास कार्याें की स्थिति जाननी है। अगले सप्ताह आने वाली पेंशन का वितरण भी ग्राम सचिवों को ही करना होगा।
गांवों में लोगों को 25 जुलाई से अपने दस्तावेजों को पूर्ण कराने के लिए भी सरपंचों की बजाय ग्राम सचिवाें से तस्दीक करानी होगी। इसके लिए 15 गांवों में ग्राम सचिवाें के हेडक्वार्टर बनाए गए हैं। बाकी गांवों के लोगों को ग्राम सचिव के गांव में आने का शेड्यूल नहीं होने पर हेडक्वार्टर पर ही जाना होगा। हालांकि विभागीय निदेशक के अनुसार ग्राम सचिवों को पंचायतों के संपर्क में रहकर काम करने के निर्देश दिए गए हैं। सभी ग्राम सचिवों के पास एक से अधिक पंचायतें होने से उन्हें ज्यादा समय पंचायती हेडक्वार्टर पर भी रहने के निर्देश जारी किए गए हैं। उल्लेखनीय है कि ग्रामीणों को सरकारी दस्तावेजों से संबंधित कागजात, सरकारी योजनाओं के लिए पात्रता कागजात, चरित्र प्रमाण अन्य सुविधाओं के लिए सरपंच के तस्दीक की जरूरत होती है। जिसके लिए अब सरपंचों की जगह ग्राम सचिवों के हस्ताक्षर कराने होंगे। इसी प्रकार पंचायतों में मौजूदा माह में आई जून की पेंशन सरपंचों द्वारा बैंक से रकम निकासी किए जाने से सचिव ही बांटेंगे। अगस्त के पहले पखवाड़े में आने वाले जुलाई की पेंशन राशि भी बीडीपीओ के आदेश पर निकासी के बाद सचिवों काे गांवों में बांटनी होगी।
समय पर कराएं चुनाव
ग्रामीणों की समस्याओं को लेकर प्रशासन के पास पूर्ण व्यवस्थाएं नहीं है। ऐसे में लोकलाज से चलने वाले लोकतंत्र ग्राम राज्य को प्रशासन कैसे निभा सकता है। सरकार को समय पर चुनाव कराए जाने चाहिए, अभी तक तो चुनाव की तारीख तय नहीं की। आत्माराम,पूर्व सरपंच, चौटाला
^प्रशासनिकअधिकारियों को प्रत्येक सप्ताह गांव में पहुंचकर लोगों की सुध लेने का कार्यक्रम तय करना चाहिए। उम्मीद करते हैं कि ग्रामीणों को प्रशासनिक राज में कोई परेशानी नहीं हो और कोई दुविधा हुई तो अपने स्तर पर संघर्ष के लिए हम तैयार रहेंगे।'' रणजीतसिंह, पूर्व सरपंच, सांवतखेड़ा
^सभी15 ग्राम सचिवाें को अपनी पंचायतों में रेगूलर निरीक्षण करते हुए तय किए गए हेडक्वार्टर पर रहकर ग्रामीणों को सुविधाएं देने के निर्देश दिए गए हैं। किसी भी ग्रामीण को अपने दस्तावेज तैयार कराने से लेकर विकास कार्यों तक किसी भी प्रकार की परेशानी आए तो वह ग्राम सचिव की सेवाएं ले सकते हैं और कोई समाधान नहीं हो तो मेरे कार्यालय में सकते हैं। मैं भी रेगूलर पंचायतों में पहुंचकर ग्रामीणों की मांग जानूंगा और उनका समाधान करूंगा।'' सतेंद्रसिवाच, बीडीपीओ, डबवाली
इन मुख्यालयों पर देखेंगे व्यवस्था 
सचिव मुख्यालय ग्राम पंचायतें
{भगवानदास सिंवर शेरगढ़ शेरगढ़ जोतांवाली
{ जगदीश सुथार राजपुरा राजपुरा, रामगढ़, रामपुरा बिश्नोईयां अहमदपुर दारेवाला
{ मुकेश मांडण रिसालियाखेड़ा रिसालियाखेड़ा, चकजालू
{ बनवारी लाल डबवाली गांव डबवाली गांव, पाना अलीकां
{ सुभाष चंद्र खुइयां मलकाना हैबुआना, सांवतखेड़ा, नीलांवाली, खुइयां मलकाना
{ वेदप्रकाश सिहाग चौटाला चौटाला, भारूखेड़ा, गिदड़खेड़ा
{ रामचंद्र मोट्यार गोरीवाला गोरीवाला, मोडी जंडवाला बिश्नोईयां
{गुरदेव सिंह तेजाखेड़ा तेजाखेड़ा, अबूबशहर, राजपुरा माजरा
{ सुलेंद्र कुमार झुट्टीखेड़ा झुट्टीखेड़ा, लंबी, मुन्नावाली लखुआना
{ कुलदीप सिंह मसीतां मसीतां, मट्टदादू
{ बलकरण सिंह मांगेआना मांगेआना, जोगेवाला
{ नारायण राम गंगा गंगा, बिज्जूवाली, गोदिकां, बनवाला
{ नवीन कुमार फूल्लो फूल्लो, पन्नीवाला रूलदू
{ विजय कुमार सकताखेड़ा सकताखेड़ा दिवानखेड़ा
{ कृष्ण कुमार कालुआना कालुआना, मौजगढ़, सुखेराखेड़ा, आसाखेड़ा, लोहगढ़, पन्नीवाला मोरिकां, रत्ताखेड़ा 
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें