BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

सोमवार, जुलाई 20, 2015

लिंग जांच की रिपोर्ट देते डॉक्टर सहित दो धरे

गिरफ्तार आरोपियों में एक आरएमएस, कुछ दिन पहले ही छूटा था बेल पर
#dabwalinews.com
शहर थाना पुलिस तथा स्वास्थ्य विभाग ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए पंजाब के मोगा में छापामारी करके एक आरएमपी तथा बीएमएस को लिंग जांच करते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। लिंग की जांच पंजाब स्वास्थ्य विभाग की ओर से रजिस्टर्ड मशीन से की जा रही थी। शहर थाना पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार करके पीएनडीटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। पंजाब के स्वास्थ्य विभाग ने मशीन को सील करते हुए आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
गत 31 दिसंबर 2014 को सीआईए डबवाली तथा सीआईडी ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए गांव मांगेआना में छापामारी करके मोबाइल अल्ट्रासाउंड का भंड़ाफोड़ किया था। आरोप में घुकांवाली निवासी आरएमपी जगदीश गोदारा तथा उसके साथियों को गिरफ्तार किया था। कुछ दिन पूर्व जमानत पर छूटने के बाद पुन: वह लिंग जांच के गोरखधंधे में उतर आया। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग को पिछले कुछ दिनों से सूचना मिल रही थी। स्वास्थ्य विभाग तथा पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए शहर थाना डबवाली की एक महिला कांस्टेबल को फर्जी ग्राहक के तौर पर भेजा। लिंग जांच का सौदा सत्रह हजार रुपये में तय हो गया। गोदारा महिला कांस्टेबल को पंजाब की ओर ले गया। उप सिविल सर्जन वीरेश भूषण, शहर थाना प्रभारी सुखदेव सिंह तथा औढ़ां थाना प्रभारी धर्मवीर सिंह पर आधारित टीम ने पीछा शुरू किया। गोदारा मोगा में प्रवेश कर गया। लुधियाना बवासीर अस्पताल में महिला कांस्टेबल का चैकअप हुआ। जांच की रिपोर्ट देते समय इशारा मिलते ही टीम ने अस्पताल संचालक बीएमएस सुमित मित्तल तथा आरएमपी जगदीश गोदारा को रंगे हाथों काबू कर लिया। पंजाब स्वास्थ्य विभाग ने रजिस्टर्ड मशीन को सील कर दिया। शहर थाना पुलिस ने डॉ. मित्तल तथा गोदारा को गिरफ्तार करके पीएनडीटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है।
पहले भी मोगा का था डॉक्टर
31 दिसंबर 2014 को गांव मांगेआना में ट्रेप हुआ मोबाइल अल्ट्रासाउंड चलाने वाले गिरोह का मुख्य सरगना जगदीश गोदारा ही था। पंजाब के मोगा का ही रहने वाला डॉ. जितेंद्र पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीन से जांच करके रिपोर्ट देता था। इस बार भी मोगा में हरियाणा स्वास्थ्य विभाग ने दबिश दी है। इससे पंजाब स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे हैं। डबवाली से करीब 125 किलोमीटर दूर बैठकर मोगा में सरेआम लिंग जांच का कार्य चल रहा है। जबकि पंजाब स्वास्थ्य विभाग हाथ पर हाथ धरे बैठा है। जिसका प्रभाव हरियाणा के सीमावर्ती इलाके के लिंगानुपात पर पड़ता है।
सीएम के आने से पहले कार्रवाई
सोमवार को सीएम मनोहर लाल खट्टर के सिरसा में आने से पहले स्वास्थ्य विभाग ने उपरोक्त कार्रवाई को अंजाम दिया है। डॉ. वीरेश भूषण के अनुसार जगदीश गोदारा पहले भी अरेस्ट हो चुका है। विभाग उसे जमानत के बाद ट्रेप कर रहा था। महिला कांस्टेबल गर्भवती है। महिला के साथ रिश्तेदार बनाकर एक पुलिसकर्मी को भेजा गया था। जैसे ही पुलिसकर्मी ने सूचना दी, टीम ने तुरंत कार्रवाई की। उपरोक्त सेंटर पंजाब स्वास्थ्य विभाग द्वारा रजिस्टर्ड है। अस्पताल संचालक सुमित मित्तल ने रेडियोलोजिस्ट को रखा हुआ था। आज वह खुद लिंग जांच कर रहा था।
सीएम के आने से ठीक एक दिन पहले स्वास्थ्य विभाग और हरियाणा पुलिस ने की कार्रवाई
नोटों का नंबर नोट करके सत्रह हजार रुपये महिला कांस्टेबल को दिए गए थे। जैसे ही बीएमएस ने अपनी रिपोर्ट दी, वह रंगे हाथों पकड़ा गया। उसके कब्जे से उपरोक्त नंबर के नोट बरामद हुए हैं। मशीन सील कर दी गई है। मशीन संबंधी कार्रवाई पंजाब स्वास्थ्य विभाग देखेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज