Young Flame Young Flame Author
Title: अंधड़ का कहर, दीवार के नीचे दबने से पीडब्ल्यूडी के पूर्व अधिकारी की मौत
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
आपदा| बसस्टैंड की दीवार में था 4 दशक पुराना पीपल का पेड़, दीवार सहित गिरने से बिजली लाइन टूटी, वाहन भी क्षतिग्रस्त ,मौसम को देखते हुए बुजुर...
आपदा| बसस्टैंड की दीवार में था 4 दशक पुराना पीपल का पेड़, दीवार सहित गिरने से बिजली लाइन टूटी, वाहन भी क्षतिग्रस्त ,मौसम को देखते हुए बुजुर्ग को जाने से बेटे ने रोका भी था
डबवाली

बसस्टैंड की दीवार तले दबे सेवानिवृत कर्मचारी गुरजंट सिंह बराड़ को मौत ने घर से बुला लिया था। शाम को वे पोते के लिए चार्ट स्कैच लेने बाजार आए थे अौर जैसे ही उन्होंने नरेश बुक डीपो के सामने बस स्टैंड की दीवार के साथ अपनी साइकिल रोकी तो दीवार का मलबा उन पर गिर गया। इससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई। उनके बेटे ने बताया कि मौसम को देखते हुए उन्हें घर से निकलने के लिए रोका भी था लेकिन वे बोले कि अभी लौटकर आता हूं लेकिन अनहोनी ने ऐसा होने नहीं दिया। वहीं घटना के बाद रोड को बंद कर बिजली लाइन दुरुस्त करने का काम शुरू कर दिया गया। मृतक के शव का पोस्टमार्टम आज किया जाएगा।
मृतक के बेटे परमिंद्र सिंह ने बताया कि वे जवाहर नगर में रहते हैं और सोमवार को स्कूल से लौटने पर पाेते 7वीं में पढ़ रहे महकदीप ने चार्ट बनाने के लिए स्टेशनरी की मांग की थी। इससे शाम को गुरजंट सिंह बराड़ अपनी साइकिल पर बाजार के लिए निकले थे। इस दौरान मौसम बिगड़ता देख बेटे परमिंद्र सिंह सहित परिवार के लोगों ने उन्हें बाजार जाने से रोका लेकिन वे बोले की सीधे नरेश की दुकान से चार्ट लेकर लौट आएंगे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार गुरजंट सिंह बराड़ ने बस स्टैंड रोड पर स्थित नरेश बुक डिपो के सामने दीवार की ओर अपनी साइकिल रोकी ही थी कि अचानक आंधी से पीपल का पेड़ दीवार के साथ गिर गया। जिससे उनकी मलबे में दबने से मौत हो गई।
करीब 9 फीट ऊंची दीवार के मलबे में उनका पूरा शरीर दब गया। बाद में दुकानों पर पेड़ बिजली लाइन सहित पोल गिर जाने से एक बारगी भगदड़ मच गई। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस टीम एंबुलेंस मौके पर पहुंची। इसी दौरान मृतक के जेब से मिली पर्ची से उनकी पहचान लोक निर्माण विभाग के सेवानिवृत्त सुपरवाइजर 72 वर्षीय गुरजंट सिंह तौर पर हुई है। दुकानदारों ने बताया कि उनके कानों में सुनने वाली मशीन लगी थी लेकिन अचानक घटना होने से बचाव को कोई मौका नहीं मिला। मृतक के भाई राजेंद्र सिंह अन्य ने बताया कि गुरजंट सिंह सरकारी सेवा से 1998 में सेवानिवृत्त हुए थे और इसके बाद इकलौते बेटे परमिंद्र सिंह के साथ मिलकर मधुमक्खी पालन का व्यवसाय स्थापित कराया था। परिजनों ने बताया कि अक्सर वे अब घर पर ही रहते थे और भीड़ भाड़ वाली जगह से साइकिल से उतरकर सुरक्षित होकर गुजरते थे। घटना के वक्त भी वे साइकिल बराबर से चला रहे थे।
4 दशक पुरानी दीवार, अभी और गिरने वाला है पेड़
शहर में चौटाला रोड हाईवे किनारे बने नए बस स्टैंड का उद्घाटन वर्ष 1987 में ताऊ देवीलाल ने किया था। इसके बाद दीवार के साथ प्याऊ होने से नमी के चलते दीवार के बीच पीपल का पेड़ उग गया था। जो पिछले 4 दशक में काफी बड़ा हो जाने से 20 फीट तक दीवार में फैल गया था। करीब एक दशक से पेड़ के दीवार सहित गिरने की आशंका बनी हुई थी लेकिन शहरवासियों प्रशासनिक उदासीनता के चलते इसे समय पर नहीं हटाया गया। इसी प्रकार रोड पर बस स्टैंड की इसी दीवार केे पास बने प्याऊ के कमरे और आगे बने शौचालयों के पास दीवार के गिरने का डर बना हुआ है।
बिजली के खंबे भी टूटे
बसस्टैंड की दीवार में लगे पीपल के 4 दशक पुराने पेड़ की उंचाई काफी होने से उसके नीचे गुजर रही बिजली लाइन भी साथ ही गिर गई और दो बिजली के पोल टूट गए। इससे पेड़ गिरने से दुकानों के भी नुकसान होने का डर बना हुआ है। गनीमत रहा कि इसी दौरान बिजली ट्रिप हो जाने से करंट नहीं फैला और लोग बाल बाल बच गए। बाद में पुलिस टीम मौके पर पहुंची और लोगों ने मलबे को हटाकर एंबुलेंस में शव को अस्पताल में पहुंचाया। घटना की सूचना मिलने पर तहसीलदार नौरंगदास घटनास्थल पर पहुंचे और बिजली निगम की टीम को व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए।
 बिजली के पोल उखड़ने से आपूर्ति हुई ठप,यातायात बाधित

सोमवार शाम काे आए अंधड से सड़कों पर कई जगह पेड़ गिर गए हैं। जिससे ट्रेफिक व्यस्था दुरुस्त करने में वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ा। शहर में चौटाला रोड हाईवे पर पैट्रोल पंप के पास पेड़ गिर गया जबकि सामान्य अस्पताल में शव ग्रह के पास भी पेड़ गिर गया। इसी प्रकार गोरीवाला रोड सिरसा संगरिया रोड पर भी पेड़ टूटकर गिरने से राेड पर आवागमन बाधित हो गया। इसी प्रकार कई जगह बिजली लाइनें भी ट्रिप हो गई। जिन्हें बहाल करने में बिजली निगम की टीम ने देर रात तक कार्य किया।
बस स्टैंड की रोड पर पेड़ और बिजली पोल के साथ गिरी दीवार का निरीक्षण करते तहसीलदार पुलिस अधिकारी।








प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें