Young Flame Young Flame Author
Title: मृतक के परिवार, क्षतिग्रस्त दुकान मालिकों को मुआवजा देगा प्रशासन
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली। सरकार और प्रशासनिक लापरवाही के चलते बस अड्डे की दीवार के नीचे दबकर मरने वाले लोक निर्माण विभाग (भवन एवं पथ) के पूर्व अधिकारी ...


डबवाली। सरकार और प्रशासनिक लापरवाही के चलते बस अड्डे की दीवार के नीचे दबकर मरने वाले लोक निर्माण विभाग (भवन एवं पथ) के पूर्व अधिकारी के परिवार को प्रशासन आर्थिक सहायता देगा। वृद्ध की मौत के बाद जागे प्रशासन ने पीपल के वृक्ष से प्रभावित दुकानों के मालिकों को भी मुआवजा देने का ऐलान किया है। पटवारी और कानूनगो ने रिपोर्ट बनानी शुरू कर दी है।
एक साल से कह रहे थे दुकानदार, अब आई याद
बस अड्डे की दीवार बुरी तरह कंडम है। काफी समय से कंडम दीवार के साथ खड़ा पुराना वृक्ष गिरने की हालत में था। दुकानदार पेड़ को हटाकर दीवार बनाए जाने की मांग कर रहे थे। प्रशासन ने सुनवाई नहीं की, इस बीच सोमवार शाम को आए अंधड़ से गिरी दीवार के नीचे आकर 74 वर्षीय बुजुर्ग गुरजंट सिंह निवासी डबवाली की मौत हो गई। वे लोक निर्माण विभाग (भवन एवं पथ) के पूर्व अधिकारी थे। दुकानदारों की संवेदनाओं को भुनाने के लिए मंगलवार सुबह हरियाणा रोडवेज सिरसा के जीएम और डबवाली के कार्यकारी एसडीएम सुरेश कस्वां, बिल्डिंग इंस्पेक्टर रामचंद्र मौके पर पहुंचे। एसडीएम ने घटनास्थल का जायजा किया। दुकानदारों ने उन्हें बस अड्डा की कंडम दीवार दिखाई। गिरने की हालत में खड़ी पेयजल टंकी की ओर भी ध्यान आकर्षित किया। अड्डा इंचार्ज हरमीत सिंह पक्का ने भी स्पष्ट किया कि किसी बड़े हादसे से पहले ही इसे तोड़ा जाना उचित होगा। एसडीएम ने मौके पर ही कार्रवाई करते हुए दीवार और टंकी को हटाने के आदेश दिए। पिछले एक वर्ष से लटक रहा कार्य आदेश के साथ ही शुरू हो गया। इसके साथ ही एसडीएम ने पटवारी और कानूनगो को मौका पर बुलाकर नुकसान के आंकलन की रिपोर्ट देने के भी आदेश दिए हैं। चूंकि दीवार के नीचे आने से कई वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए थे। यहीं नहीं वृक्ष गिरने से दुकानों में दरारें आ गई हैं। अपनी लापरवाही को छुपाने के लिए प्रशासन नुकसान की भरपाई करने को राजी हो गया है।
एक साल से चल रहे थे एस्टीमेट
पिछले एक साल से बस अड्डा की दीवार को नई बनाने के लिए फाइल इधर से उधर हो रही थी। सोमवार की घटना के बाद हरकत में आए प्रशासन को देखकर लगता है कि शायद वह इसी तरह के जानी नुकसान का इंतजार कर रहा था। एक वर्ष तक उपरोक्त एस्टीमेट को मंजूर ही नहीं किया। तत्कालीन एसडीएम सतीश कुमार ने कदम उठाना चाहा तो उन्हें रोक दिया गया।
बस अड्डे की दीवार के नीचे दबने से पीडब्ल्यूडी के पूर्व अधिकारी की जान जाने का मामला
-पटवारी और कानूनगो ने शुरू किया सर्वे, जानी नुकसान के बाद कार्रवाई शुरू
नुकसान का आंकलन करवाया जा रहा है। पटवारी और कानूनगो मृतक के परिवार की माली हालत का भी जायजा लेंगे। पीपल गिरने से दुकानें भी क्षतिग्रस्त हुईं हैं। मृतक के परिजनों, दुकानदारों और वाहन मालिकों को नुकसान का मुआवजा दिलाया जाएगा। रिपोर्ट आने पर उसे आगामी कार्रवाई के लिए उपायुक्त के पास भेजा जाएगा।
सुरेश कस्वां, एसडीएम डबवाली
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें