Young Flame Young Flame Author
Title: सालों से लंबित मांग को सरकारें नहीं कर पाई पूरी तो पुलिस ने निकाला रास्ता,सीसीटीवी कैमरे लगाने का काम शुरू
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
dabwalinews.com  शहर में क्राइम रोकने के लिए 4 साल से सीसीटीवी कैमरे लगाने की मांग पर स्थानीय निकाय विभाग फाइलें ही रिपीट कर रहा...
dabwalinews.com 

शहर में क्राइम रोकने के लिए 4 साल से सीसीटीवी कैमरे लगाने की मांग पर स्थानीय निकाय विभाग फाइलें ही रिपीट कर रहा है, वहीं पुलिस ने जनसहयोग से इस प्रोजेक्ट को पूरा करने का रास्ता निकाल लिया। पुलिस ने शहर में सीसीटीवी कैमरे गोद लेने की योजना शुरू की है। जिसके लिए कई संस्थाएं शहरवासी आगे आए हैं। योजना के तहत शहर में इंट्री के चारों हाईवे बाजार में सीसीटीवी लगाने का काम शुरू हो गया है। सिटी थाना में बने कंट्रोल रूम से इस सप्ताह से क्राइम कंट्रोल करना पुलिस के लिए सुविधाजनक होगा वहीं आमजन को भी राहत मिलेगी।
शहरवासियों की सुरक्षा के लिए प्रशासन की ओर से सीसीटीवी लगाने जाने की योजना का फंड नहीं मिलने से सिटी पुलिस ने आमजन के मार्फत इस प्रोजेक्ट को पूरा करने की योजना बनाई। जिसके तहत शहर में इंट्री के चारों रोड सहित बाजारों सभी सार्वजनिक स्थानों और स्कूलों के आसपास हाईडेफिनेशन सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इसकी 100 दिनों तक की रिकॉर्डिंग भी पुलिस थाने में रखी जाएगी। जिससे शहर में किसी प्रकार के संदिग्ध लोगों, छेड़खानी करने वालों और क्राइम करने वालों तथा किसी घटना से संबंधित सबूत जुटाने के लिए सीसीटीवी कैमरे की मदद ली जाएगी। घटना के बाद नाकेबंदी करने में सुविधा होगी वहीं हाईडेफिनेशन कैमरे होने से वाहनों चालकों पर भी जरूरत के समय पहचान के लिए नजर रखी जा सकेगी।
योजना को शहर थाना प्रभारी एसआई सुखदेव सिंह ने उच्चाधिकारियों के निर्देशन में शहरवासियों के सामने रखा। जिस पर कई संस्थाएं व्यापारी राजी हो गए। योजना के तहत वायरलैस सीसीटीवी का सिटी थाना में बड़ी एलसीडी स्टोरेज क्षमता युक्त कंट्रोल रूम स्थापित करते हुए इसे वन टू वन सीसीटीवी कैमरे इंस्टाल करते हुए जोड़ा जाए।
25हजार रुपये में लग रहा प्रत्येक कैमरा 
इसके लिए कंट्रोल रूम के बाद प्रति सीसीटीवी पर करीब 25 हजार रुपये खर्च हो रहे हैं। जिसे शहर के व्यापारी, समाजसेवी, शिक्षण संस्थाओं के लोग कर्मचारी और आमजन एक प्रकार के गोद लेते हुए उसका चार्ज वहन कर रहे हैं। इससे अब तक कंट्रोल रूम स्थापित हो चुका है और चारों हाइवे पर कैमरे लगाए जा रहे हैं। इनमें से तीन कैमरों को ऑन कर दिया गया है। जिससे शहर में प्रवेश करने वाले और निकलने वाले प्रत्येक व्यक्ति वाहन चालक पर नजर रखी जा रही है।
यहां लगाए जाएंगे कैमरे
प्रोजेक्ट के तहत शहर को क्राइम फ्री बनाने के लिए शहर के चारों प्रवेश मार्गों के अलावा मेन बाजार, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, सभी कॉलेज, स्कूलों, धार्मिक स्थानों अन्य सार्वजनिक स्थानों के ज्यादा भीड़ वाले और महत्वपूर्ण स्थानों पर सीसीटीवी लगाए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि शहर को लगने वाली तीन राज्यों की निकटतम सीमाअों को भी इससे जोड़ा जाएगा। किसी भी वारदात के घटित होने पर इन सीसीटीवी से दिन और रात की पूरी फिल्म निकालकर सटीक सुराग लिए जा सकेंगे। शहर थाना प्रभारी सुखदेव सिंह ने बताया कि कोई भी शहरवासी संस्था जनसहयोग से लग रहे सीसीटीवी का खर्च वहन करते हुए लगवा सकते हैं और इसके ऑनलाइन हमारे थाने में बने कंट्रोल रूम से जोड़ दिया जाएगा। जिससे उक्त सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिंग थाने में सुरक्षित रखी जाएगी। हमें प्रत्येक बाजार गली मोहल्लों से लोगों का सहयोग चाहिए।
चार साल से सिर्फ फाइलों में ही सीसीटीवी कैमरे लगाने की योजना 
उल्लेखनीयहै कि शहर में सीसीटीवी कैमरे लगाने की योजना वर्ष 2011 से फाइलों में चल रही है। तत्कालीन नगर पालिका ने शहर में 30 जगहों पर 55 सीसीटीवी कैमरे लगाने की योजना बनाई थी। जिसे बाद नगर परिषद बनने पर पिछले वर्ष फिर उठाया गया लेकिन कोई फंड नहीं मिला। बीते जुलाई माह के अंतिम सप्ताह में भी स्थानीय निकाय विभाग को भेजे एस्टीमेट में नप ने 55 सीसीटीवी कैमरे के लिए सवा करोड़ रुपये का बजट मांगा था।
अच्छी पहल से हर किसी को फायदा 
शहरवासी प्रेम कुमार, बनवारी लाल, सुखदेव सिंह, आत्माराम, कृष्ण लाल, अशोक कुमा, मनदीप सिंह, हंसराज, बलदेव सिंह अन्य ने कहा कि शहर में दिन दिहाड़े चाेरी और लूट जैसी घटनाएं हो चुकी है। जिससे एेसा प्रयास जरूरी है। सीसीटीवी कैमरे लगाने की योजना को सभी को सहयाेग करना चाहिए। बाजारों में दुकानदार जबकि आवासीय क्षेत्र में गलीवासियों को अपने कैमरे लगाकर पुलिस के कंट्रोल रूम से जोड़ेंगे।
^कैमरे लगाने की मुहिम को शहरवासियों की पहल पर ही जनसहयोग से शुुरू किया गया है। सभी लोग अपने अपने बाजारों गली मोहल्लों में कैमरा लगवाएं और ऑनलाइन पुलिस कंट्रोल रूम से जुड़वा दें। थाने में बने कंट्रोल रूम से निरीक्षण कर पुलिस को शहर में क्राइम कंट्रोल करने में पूरा सहयोग मिलेगा और अपराधियों को प्रवेश करते हुए गिरफ्त में लेने की योजना सफल हो सकेगी।'' सत्यपालयादव, डीएसपी, डबवाली
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें