Young Flame Young Flame Author
Title: होप - एक उम्मीद एनजीओ ने बांटे कपड़े ,कपडे पाकर चेहरों पर खिली मुस्कान
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली, dabwalinews.com होप एक उम्मीद एनजीओ द्वारा रविवार को 180 जरूरतमंद व्यक्तियों को संस्था द्वारा इलाके के लोगों से एकत्रित किये गये न...
डबवाली, dabwalinews.com
होप एक उम्मीद एनजीओ द्वारा रविवार को 180 जरूरतमंद व्यक्तियों को संस्था द्वारा इलाके के लोगों से एकत्रित किये गये नये और पुराने कपड़े वितरित किये। मालवा बाईपास, नर सिंह कालोनी, अनाज मंडी के पास झुग्गी झोपडिय़ों में एनजीओ •े सदस्य जब कपड़े लेकर पहुंचे जो जैसे तैसे अपना जीवन व्यतीत कर रहे ये लोग कपड़े पा कर खुशी से फुले नहीं समा रहे थे। संस्था के प्रवक्ता संजीव भरद्वाज और गुलशन सेठी ने बताया कि सदस्य इंद्रजीत सिंह एडवोकेट, अमन भरद्वाज, मास्टर इंद्रजीत सिंह, पंकज गर्ग, पंकज कुमार, राकेश बिश्नोई, रिशी सरदाना, रवि मोंगा, मनदीप जोड़ा, लवली मेहता, सुभाष गोदारा, सुच्चा सिंह भुल्लर, डा.सुखपाल सिंह, सुरजीत सिंह, राजेश कुमार, जगविंद बराड़ व राजू मक्कडज़ीटी रोड़ पर स्थित विश्वकर्मा मंदिर गुरुद्धारा साहिब में स्थित एनजीओं के कार्यालय में एकत्रित हुए और उन्होंने लोगों द्वारा सहयोग स्वरूप दिये गये कपड़ों को एकत्रित कर उन्हें व्यवस्थित रूप दिया। इसके उपरांत एनजीओं के सदस्य नरसिंह कालोनी में स्थित गरीब बस्ती में गये और वहां पर जरूरतमंद व्यक्तियों को कपड़े वितरित किये। इसके उपरांत एनजीओं के सदस्य मालवा बाई पास पर पहुंचे और उन्होंने वहां पर झुग्गी झोंपडियों में रह रहे लोगों को उनकी जरूरत के हिसाब से कपड़ेे दिये। संस्था के प्रवक्ता ने बताया उनका यह कपड़ा बैंक का प्रकल्प आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने समाज के लोगों से अपील की है कि वे मजबूर और गरीब लोगों की सहायता के लिए आगे आये और पेटियों और अलमारियों में बंद पड़े पुराने कपड़े किसी गरीब के तन ढांपने के लिए दान में दे।

कपडे पाकर चेहरों पर खिली मुस्कान

मालवा बाई पास के नजदीक झुग्गी झोपड़ी में जीवन व्यतीत कर रहे मानसिक रूप से कमजोर शंकर और राम निवास तथा विकलांग जाखिर को जब होप एक उम्मीद एनजीओं के सदस्यों ने नये जैसे कपड़े दिये तो उनका खुशी का पारावार न रहा। उन्होंने तुरंत चित्थड़े बन चुके अपने पुराने कपड़ों को उतार कर एनजीओं द्वारा दिये गये कपड़े पहन लिये। संस्था के सदस्य डा. सुखपाल सिंह ने बताया कि उनके चेहरों पर खिली मुस्कान ने संस्था के सदस्यों को और ऊर्जा से इस कार्य को आगे बढ़ाने की प्ररेणा दी है।

प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें

 
Top
<