Young Flame Young Flame Author
Title: पंजाब के सीएम का छह सिर वाला पुतला फूंका,गुरु की बेअदबी बर्दाश्त नहीं, प्रदर्शन
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
गुरु की बेअदबी बर्दाश्त नहीं, प्रदर्शन Dabwalinews.com डबवाली/कालांवाली/ ऐलनाबाद। गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में हरियाणा सिख...

गुरु की बेअदबी बर्दाश्त नहीं, प्रदर्शन

Dabwalinews.com
डबवाली/कालांवाली/ ऐलनाबाद। गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में हरियाणा सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के बैनर तले सिखों ने पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल का छह सिर वाला पुतला फूंका। बुधवार को सिख संगठन ने यह प्रदर्शन पुलिस सुरक्षा के बीच किया।
सुबह करीब 11 बजे एसजीपीसी सदस्य जसवीर सिंह भाटी, बघेल सिंह, विचित्र सिंह, बिकर सिंह, मलकीत सिंह खालसा, ज्ञानी ज्ञान सिंह के नेतृत्व में सिख समुदाय गुरुद्वारा श्रीकलगीधर सिंह सभा में इकट्ठा हुआ। इसके बाद वह काली पट्टियां बांधकर शहर के मुख्य बाजार में निकल पड़े। संगतों ने सीएम प्रकाश सिंह बादल का छह सिर वाला पुतला उठाया हुआ था।
सतनाम वाहेगुरु का जाप करती हुई सिख संगत गोल बाजार, गांधी चौक, पुरानी कचहरी रोड से होते हुए वैद्य रामदयाल चौक में पहुंची। पंजाब के सीएम को श्रीगुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी का दोषी ठहराते हुए पंजाब सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। पुतले को जूतों, चप्पलों से पीटते हुए विरोध दर्ज करवाया। पुतले को आग लगाने के बाद महिलाओं ने डंडों से पीटकर रोष का इजहार किया। पुतला फूंकने के बाद सिख प्रतिनिधियों ने तहसील कॉम्पलेक्स में तहसीलदार नौरंग दास को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में श्रीगुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की घटनाओं पर रोक लगाने व सिखों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की। इससे पहले सिख संगतों ने गुरुद्वारा में बैठक की। एक अकाली नेता के इशारे पर गांव बादल को जाते मार्ग पर धरना लगाए बैठे सिखों पर लाठीचार्ज के बाद उन्हें हिरासत में लेने की निंदा की।
मलकीत सिंह खालसा ने अकाली नेता के बहिष्कार का आह्वान किया। जिस पर सिख संगत ने हाथ उठाकर फैसला मंजूर किया। खालसा ने कहा कि पंथक सरकार का दम भरने वाली बादल सरकार ने सभी हदें पार कर दी हैं। शांति पूर्वक बैठे सिखों पर लाठीचार्ज, फिर गोली दाग देना कहां का न्याय है। कौम से गद्दारी का कलंक सदा बादल परिवार पर रहेगा। सिख संगतों ने कोटकपूरा में गोली चलाने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या, लाठीचार्ज करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ हत्या के प्रयास का तथा अन्य पुलिस कर्मियों के खिलाफ धारा 326 के तहत केस दर्ज करने की मांग की।
संगतों के विरोध में उतरते ही पुलिस ने हिरासत में लिए 21 सिखों को रिहा किया
काली पट्टियां बांध सतनाम वाहेगुरु का जाप करते हुए बाजारों में निकले सिख
संगतों ने एक अकाली नेता का किया बहिष्कार, कार्यक्रमों का होगा विरोध
तलवंडी साबों तक निकाला रोष मार्च
डीएसपी ने ली गुरुद्वारा प्रबंधकों की बैठक
डबवाली। गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी करने वालों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर जाम लगा रहे प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने उठा दिया। बुधवार सुबह तीन बजे हुई कार्रवाई में पुलिस ने कुछ लोगों हिरासत में ले लिया। हिरासत में लिए गए सिखों की बिना शर्त रिहाई की मांग करते हुए सिख संगतों ने प्रदर्शन किया। पुलिस द्वारा आरोपियों को रिहा करने के बाद मामला शांत हुआ। 
बुधवार को धरने में शामिल विचित्र सिंह हाकूवाला, सतपाल सिंह बनवाला अणु ने बताया कि रात करीब 11.30 बजे एक अकाली नेता धरना स्‍थल पर पहंुचा, अकाली नेता ने सड़क पर लगा धरना उठाने के लिए कहा। सिख संगतों के इंकार करने पर वह धमकी देकर वहां से चला गया। सुबह करीब तीन बजे पुलिस बल ने उन पर लाठियां बरसाते हुए 21 लोगों को हिरासत में ले लिया। इस घटनाक्रम के बाद सिक्ख संगतों में रोष फैल गया। डबवाली में एकजुट हुई सिख संगत सीएम का पुतला जलाने के बाद गांव ख्योवाली की ओर कूच कर गई। इसकी भनक पाकर एसपी बलराज सिंह, डीएसपी मलोट मानविंद्र बीर सिंह, थाना लंबी प्रभारी गुरप्रीत सिंह बैंस ने गांव ख्योवाली में पुलिस बल के साथ डेरा डाल लिया। हाथों में लट्ठ लेकर पुलिस करीब दो घंटे तक प्रदर्शनकारियों की प्रतीक्षा करती रही। आखिरकार पुलिस तथा प्रदर्शनकारियों में सुलह के लिए ढाणी सिंघेवाला में वार्तालाप हुआ।
डीएसपी ने हिरासत में लिए गए सभी सिखों को रिहा करने का आश्वासन देकर शांत किया। समझौता होने के बाद पुलिस ने सिखों को रिहा कर दिया। एसपी बलराज सिंह ने बताया कि लाठीचार्ज के आरोप गलत हैं। विरोध कर रहे सिखों के खिलाफ 107/151 के तहत कार्रवाई की गई थी। जिन्हें अब रिहा कर दिया गया है।
कालांवाली। श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले को लेकर बुधवार को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सदस्य संत गुरमीत सिंह तिलोकेवाला के नेतृत्व में समाज के लोगों ने गांव तिलोकेवाला से तलवंडी साबो तक ांतिपूर्वक रोष मार्च निकाला और मामले में दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। रोष मार्च में महिलाओं सहित हजारों की संख्या में श्रद्वालुओं ने भाग लिया। रोष मार्च का काफिला जब कालांवाली पहुंचा तो वहां पर कुछ समय के लिए जाम की स्थिति पैदा हो गई। रोष मार्च को लेकर प्रशासन द्वारा पुलिस बल भी तैनात किया गया तथा डीएसपी आर्यण चौधरी व व थाना प्रभारी दले राम भी रोष मार्च पर अपनी नजर रखे हुए थे। रोष मार्च के दौरान श्रद्वालु सतनाम वाहेगुरु का जाप जपते रहे व दोषियों के खिलाफ कडी कार्रवाई करने की मांग की। इस मौके पर संत बाबा दर्शन सिंह दादू, प्रीतम सिंह मलडी, गुरपाल सिंह चोरमार, कुंदन सिंह देसूखुर्द, गुरलाल सिंह रंगा, निर्मल सिंह फग्गू, जगदेव सिंह लंगहेवाला, सुखपाल सिंह तख्तमल, प्रषोतम दास तख्तमल, कुलदीप सिंह गदराना, मनोज सिंह, नरेंद्र खतरावां, जगविंद्र खतरावां, दलजीत सिंह, लीला सिंह तारूआना, बलकारण सिंह, सुखजिंद्र सिंह, हरप्रीत सिंह, गोरा सिंह, भोला सिंह, जगरूप सिंह, जंटा सिंह सहित अनेक लोग उपस्थित थे।
ऐलनाबाद। पंजाब में श्रीगुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी सिखों में रोष को देखते हुए डीएसपी कुलदीप बैनीवाल और थाना प्रभारी विकास कुमार ने विभिन्न गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटियों के सदस्यों के साथ बुधवार को बैठक कर कहा कि धर्मस्थलों की सुरक्षा के लिए आपसी भाईचारा जरूरी है। किसी भी धर्म का अनादर सद्भाव को बिगाड़ता है। उन्होंने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सदस्यों से कहा कि वे गुरुद्वारों की सुरक्षा के लिए कमेटियां गठित कर पहरेदारी सुनिश्चित करें। उन्होंने आग्रह किया कि वे सभी धर्मस्थलों में प्रात: चार बजे से देर रात्रि तक ऊंची आवाज में चलने वाले लाउड स्पीकरों की आवाज धीमी रखें क्योंकि तेज आवाज से जहां ध्वनि प्रदूषण फैलता है। इससे बच्चों, वृद्धजनों और बीमार लोगों की नींद में भी खलल पड़ती है। उन्होंने कहा कि धर्म कोई भी छोटा या बड़ा नहीं होता। हम सबको सभी धर्मों का पालन करते हुए भाईचारा कायम रखना चाहिए।
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें