Young Flame Young Flame Author
Title: कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव कुंडू ने अधिकारियों को लगाई फटकार
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
समस्या| किसानों ने फसलों का मुआवजा जल्द से जल्द देने की लगाई गुहार  किसानों और आढ़तियों से पूछा कोई अधिकारी तंग तो नहीं कर रहा  ...


समस्या| किसानों ने फसलों का मुआवजा जल्द से जल्द देने की लगाई गुहार 
किसानों और आढ़तियों से पूछा कोई अधिकारी तंग तो नहीं कर रहा 
 सिरसा/ डबवाली
अनाज मंडी में बुधवार को कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पहुंचे और किसानों आढ़तियों से बातचीत की। मंडी में पहुंचे अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं प्रभारी ऑफिसर बीएस कुंडू के साथ एसडीएम संगीता तेत्रवाल डीएफएससी ने निरीक्षण किया और अनाज मंडी में तुलाई और सफाई में पूरी गौर करने के निर्देश मार्केट कमेटी प्रशासन को दिया। एससीएस कुंडू ने किसानों और आढ़तियों से बातचीत करते हुए कहा कि सरकार की ओर से सभी वर्गों के लिए मंडियों में संपूर्ण व्यवस्थाओं के निर्देश हैं।
उचितप्रक्रिया और कार्रवाई का दिया आश्वासन 
अनाज मंडी में किसानों से संवाद करने पहुंचे अधिकारी के समक्ष अपनी समस्याओं में सबसे मुख्य दिक्कत मुआवजा नहीं मिलने की बताई। किसानों ने कहा कि अनाज मंडी में ज्यादा व्यवस्थाएं हो तो एक दिन की ही समस्या है लेकिन मुआवजा मिलने की एकएक दिन की देरी किसानों के लिए नुकसान दायक है। इससे सबसे पहले उन्हें मुआवजे का भुगतान दिलाया जाए। एसीएस ने कहा इस बारे में उचित प्रक्रिया कार्रवाई की जाएगी अतिरिक्त मुख्य सचिव कुंडू ने मौके पर मौजूद किसानों और आढ़तियों से भी बातचीत की और उनकी समस्याओं बारे पूछताछ की। उन्होंने किसानों से यह भी पूछा कि कोई अधिकारी या आढ़ती तंग तो नहीं कर रहा है। किसानों ने मार्केट कमेटी की ओर से अनाज मंडी रोड़ी में चौकीदार रखने और चारदीवारी बनाने की मांग की तो अतिरिक्त मुख्य सचिव ने मार्केट कमेटी के सचिव को कार्यवाही करने के निर्देश दिए। किसानों ने यह मांग भी रखी कि रोड़ी अनाज मंडी के तहत सात खरीद केंद्र हैं, रोड़ी मंडी को इन खरीद केंद्रों से अलग किया जाए। इस पर अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि इस बारे विचार विमर्श किया जाएगा। इस अवसर पर एडीसी अजय सिंह तोमर, एसडीएम परमजीत सिंह चहल, डीएम हैफेड सुरजीत सिंह बैनीवाल, डीएफएससी राजेश कुमार, एसडीईओ मार्केटिंग बोर्ड भूप सिंह बैनीवाल, एएफएसओ नरेंद्र सरदाना सचिव मार्केट कमेटी भी थे। 
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें

 
Top