Young Flame Young Flame Author
Title: साजिश के सबूत सामने आए, राज्यसभा का चुनाव जरूर रद्द होगा: तंवर
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
#dabwalinews.com राज्य सभा चुनाव में पेन बदल कर लोकतंत्र की हत्या की गई। इसके सबूत भी सबके सामने चुके हैं। अब चुनाव आयोग की भी विश्वसनीय...

#dabwalinews.com
राज्य सभा चुनाव में पेन बदल कर लोकतंत्र की हत्या की गई। इसके सबूत भी सबके सामने चुके हैं। अब चुनाव आयोग की भी विश्वसनीयता का सवाल है। उन्हें यकीन है कि यह चुनाव रद्द होगा और उक्त राज्यसभा चुनाव दोबारा करवाया जाएगा। यह बात कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने वीरवार दोपहर चौटाला रोड़ स्थित कांग्रेस नेता जग्गा सिंह बराड़ के आवास पर आयोजित प्रैसवार्ता में कही। 
उन्होंने कहा कि राज्यसभा चुनावों में कुछ लोगों ने मिलकर साजिश रची। सरकार के लोगों ने अधिकारियों को भी साथ मिलाकर छल कपट से चुनाव जीत लिया। इन लोगों का एक मात्र उद्देश्य है कि सत्ता हाथ में रहनी चाहिए, जनसेवा से उनका कोई सरोकार नहीं है। तंवर ने कहा कि चुनावों से पहले अच्छे दिनों का वायदा किया और चुनावों के बाद सब कुछ वायदे घोषणाओं को भूल कर लोगों को भाजपा बुरे दिन दिखा रही है। कर्मचारी, किसान, मजदूर, जेबीटी टीचर आदि हर वर्ग सड़कों पर है। किसानों का मुआवजा नहींं मिला, मनरेगा मजदूरों को मजदूरी नहींं मिल रही, कर्मचारी खुश नही हैं। पहले सुनते थे कि भाजपा धर्म जात-पात के नाम पर लोगों को तोडऩे का काम करती है और अब लोगों ने उसका असली चेहरा भी देख लिया हैं। भाजपा सरकार अब हर बात 2019 के बाद की करती है। तब क्या होगा किसने देखा है। लोग अभी से भाजपा को सत्ता से बाहर करने की बातें करने लगे हैं। तंवर ने बिजली कर्मचारियों की हड़ताल से कर्मचारियों पर एस्मा लगाने के फैसले को सरकार की घबराहट बताया। उन्होंने कहा कि कर्मचारी वर्ग अपने भविष्य हक की लड़ाई रहा है और सरकार उनकी आवाज को दबाना चाहती है। इस अवसर पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता जग्गा सिंह बराड़, कुलदीप गदराना, इंद्र जैन, केशव शर्मा, संजय मिढ़ा, छोटू सहारण, पार्षद रमेश बागड़ी, जगदीप, राकेश वाल्मीकि मौजूद थे। 
कांग्रेस पार्षद ही बनेगा नगरपरिषद प्रधान 
प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने कहा कि डबवाली के कांग्रेसियों में कोई गुटबाजी नही है। नगरपरिषद चुनावों में कांग्रेस के सबसे अधिक पार्षद चुनाव जीत कर सामने आए हैं और बहुमत हासिल किया है। अब सब पार्षद ही मिल बैठकर आपस में प्रधान का नाम तय करेंगे। कांग्रेस पार्षद ही डबवाली नगरपरिषद का प्रधान बनेगा। उन्होंने स्थानीय कांग्रेस नेताओं को यह भी नसीहत दी कि वे शहर में ठप पड़े विकास कार्यों को लेकर भाजपा सरकार के खिलाफ मिलकर आवाज उठाए और संघर्ष में लोगों का साथ दें।


प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें

 
Top