Young Flame Young Flame Author
Title: बोली होने से दिन भर परेशान रहे किसान, नमी के चलते धान खरीद बाधित रही
Author: Young Flame
Rating 5 of 5 Des:
जिनर्स की हड़ताल के कारण नहीं हुई नरमा की खरीद #dabwalinews.com अनाज मंडी में मंगलवार को किसान फिर परेशान रहे। मंडी में धान की ...

जिनर्स की हड़ताल के कारण नहीं हुई नरमा की खरीद


#dabwalinews.com
अनाज मंडी में मंगलवार को किसान फिर परेशान रहे। मंडी में धान की खरीद में मॉयश्चर के चलते बाधित रही जबकि कॉटन जिनर्स की हड़ताल के चलते नरमा की बोली ही नहीं की गई। इससे नरमा की सरकारी खरीद भी बंद रही और किसान व्यापारी बेबस रहे।
अनाज मंडी में मार्केट कमेटी के तहत नरमा की बोली दिनभर शुरू नहीं करवाई गई जबकि धान खरीद में भी कई ढेरियां परचेज नहीं होने से किसानों को इंतजार करना पड़ रहा है। परेशान किसान जगदीश, प्रेम कुमार, रोशन लाल, परमजीत सिंह अन्य ने बताया कि मंडी में फसल लेकर पहुंचते है तो किराया खर्च करना पड़ता है। इसके बाद मंडी में खरीद का इंतजार करना पड़ रहा है। किसानों ने कहा कि मंडी में कभी मजदूरों की दिहाड़ी को लेकर हड़ताल रहती है जबकि कभी नमी और क्वालिटी को लेकर किसानों को तंग किया जाता है। अब कॉटन जिनर्स की हड़ताल से नरमा की खरीद नहीं हो रही जबकि मार्केट कमेटी और सरकारी एजेंसी सीसीआई को व्यवस्था नहीं कर रही है। बल्कि सभी सरकारी अधिकारी कर्मचारी बड़े व्यापारियों के दबाव में आकर किसानों को ज्यादा परेशान करने में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि सीजन शुरू होने से पहले ही प्रशासन को मजदूरों, आढ़तियों, खरीद एजेंसियों के रेट कमीशन पहले से ही निश्चित किए जाने चाहिए ताकि सीजन के दौरान कार्य सुचारू रूप से चले और किसानों को परेशानी से निजात मिल सके।
खल और बिनौला को टैक्स मुक्त रखने की मांग 
किसानों ने कहा कि सरकार को किसानों के लिए खल बिनौला को टैक्स मुक्त रखना चाहिए। सरकार के इस फैसले से पशुपालकों को काफी राहत है जबकि मार्केट में खल बिनौला की मांग भी अच्छी बनी रहती है। किसानों ने कहा कि उनमें ज्यादातर खेतीबाड़ी के साथ पशुपालन करते हैं। इसके अलावा कॉटन जिनर्स की मांग पर नरमा की मार्केट फीस पिछले सालों की तरह कम की जानी चाहिए ताकि व्यापारियों के दावे के अनुसार नरमा की आवक रेट बढ़ सकें।
आदेशोंके बाद आगामी कार्रवाई
^इसबारे में मार्केट कमेटी के सचिव मेजर सिंह ने कहा कि प्रदेशव्यापी हड़ताल में जिनर्स नरमा की परचेज नहीं कर रहे हैं। इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को है। इससे प्रशासनिक आदेशों के बाद ही आगामी कदम उठाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि उम्मीद है आगामी दिनों में जल्द ही खरीद शुरू हो जाएगी।
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें

 
Top