Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: चौटाला में हुए डबल मर्डर को सुलझाने में दांव पर दांव खेल रही शहर पुलिस ,पंजाब के गैंगस्टर से भी कुछ नहीं उगलवा पाई पुलिस
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
मामला |इंदौर में पकड़े गए पंजाब के नाभा जेल ब्रेकर को पटियाला लाई पंजाब पुलिस, 5 दिन के रिमांड पर लिया #dabwalinews.com गांव चौ...


मामला |इंदौर में पकड़े गए पंजाब के नाभा जेल ब्रेकर को पटियाला लाई पंजाब पुलिस, 5 दिन के रिमांड पर लिया
#dabwalinews.com
गांव चौटाला में इनेलो नेता के किन्नू प्लांट पर हुई डबल मर्डर की वारदात सुलझाने में ओर देरी हो सकती है। पुलिस की साइबर टीम भी मामले में उलझती जा रही है। प्लांट मालिक के आरोपों के अनुसार नाभा जेल ब्रेक कर भागे विक्की गोंडर के साथी नीटा के इंदौर में पकड़े जाने पर पुलिस मध्य प्रदेश भी गई लेकिन पुलिस टीम के पहुंचने से पहले ही पटियाला पुलिस नीटा उसके साथी को एमपी से पंजाब ले आई। वहीं पंजाब की बठिंडा जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लिए गए रम्मी को भी शुक्रवार को कोर्ट में पेश कर वापस जेल भेज दिया। अब पुलिस के पास जांच को लेकर कोई सीधा रास्ता नहीं बचा है।
गांव चौटाला के बाहर हाईवे किनारे पर स्थित किन्नू प्लांट के ऑफिस में घुसकर शूटरों ने दो लोगों का मर्डर कर आसानी से फरार होने के 10 दिन बाद भी पुलिस खुलासा करने की स्थिति में नहीं है। पुलिस टीम मामले को पंजाब के नाभा जेल को ब्रेक कर भागे गैंगस्टरों के कनेक्शन को तलाशने में लग गई है। पुलिस की प्लानिंग की बानगी इससे पता चलती है कि मध्य प्रदेश के इंदौर में पकड़े गए नाभा जेल ब्रेकर पंजाब के कुख्यात गैंगस्टर नीटा उर्फ कुलप्रीत उसके साथी पंजाब के सुनील कालरा से पूछताछ के लिए जिला मुख्यालय से सीआईए की 6 सदस्यीय टीम को रवाना किया गया लेकिन इससे एक दिन पहले ही पंजाब की पटियाला पुलिस दोनों अभियुक्तों को नाभा वापस ले आए। जहां दोनों को गुरुवार से 5 दिन के पुलिस रिमांड पर भी ले लिया है। इससे अब पुलिस इंदौर की क्राइम ब्रांच से उक्त अभियुक्त से पकड़े गए 6 मोबाइल के आईएमईआई नंबर प्रयोग किए गए मोबाइल नंबरों तथा लैपटॉप के कुछ डाटा सहित जानकारी लेेकर वापस लौट रही है। टीम के सिरसा वापस पहुंचने पर जिला पुलिस टीम को अभियुक्तों को पीछे पंजाब के पटियाला में भेजने पर विचार किया जाएगा। अगर टीम रविवार को पंजाब रवाना की गई तो सोमवार को पंजाब पुलिस को रिमांड पूरा होने से जेल जाने के बाद नीटा से पूछताछ करना हरियाणा पुलिस के लिए चुनौती हो जाएगा।
पुलिस की नाकामी पर कोई संज्ञान नहीं 
उल्लेखनीय है कि वारदात के वक्त चौटाला पुलिस चौकी में कोई पुलिसकर्मी नहीं थे। चौकी प्रभारी बलबीर सिंह भी बाहर थे जबकि घटना के बाद करीब पौने घंटा तक कोई पुलिसकर्मी मौके पर नहीं पहुंचा था। चौटाला पुलिस ने मामले की शुरुआत जांच में लापरवाही बरती जबकि एसपी ने रात को मौके पर पहुंचने और बाद में भी खामियां सामने आने के बावजूद लापरवाह पुलिसकर्मियों पर कोई एक्शन नहीं लिया है। इससे पहले भी चौटाला पुलिस तस्करी रोकने छेड़छाड़ सहित अन्य कई मामलों की जांच में लापरवाह साबित हुई है। 
रम्मी को वापस भेजा पंजाब जेल 
चौटाला में हुए डबल मर्डर को संगरिया डबल मर्डर से जोड़कर देख रहीं पुलिस टीम पंजाब के बठिंडा जेल में बंद संगरिया डबल मर्डर के शूटर पंजाब के कुख्यात गैंगस्टर रम्मी उर्फ रमनदीप निवासी मसाना, पंजाब को बीती 17 जनवरी को प्रोडक्शन वारंट पर लाई थी। कोर्ट से मिले 3 दिन के पुलिस रिमांड में रम्मी से पुलिस कोई राज कनेक्शन उगलवाने में नाकाम रही। रम्मी पंजाब की नाभा जेल से भागे विक्की गोंडर का साथी भी है। इससे विक्की गोंडर के वारदात को अंजाम देेने के स्टाइल इस मामले से कनेक्शन का पुलिस कुछ पता नहीं लगा पाई। इससे शुक्रवार को रिमांड अवधी पूरी होने पर रम्मी को कड़ी सुरक्षा में कोर्ट में पेश किया और बेवजह खौफ दिखाते हुए अभियुक्त रम्मी को कोर्ट भवन में ले जाए बिना गार्द की गाड़ी से ही पेश करते हुए वापस जेल भेज दिया।
ये है मामला
बीती11 जनवरी की रात को पौने 9 बजे चौटाला गांव के बाहर संगरिया डबवाली हाईवे किनारे स्थित इनेलो नेता प्रदीप गोदारा के प्लांट के ऑफिस में कार सवार आए करीब 5 शूटरों ने दो लोगों पर ताबड़तड़ फायरिंग की। इसमें गांव के धनाढ्य जमींदार अमित उर्फ घन्ना सहारण सतबीर पूनियां की मौत हो गई जबकि उनके साथ बैठा तीसरा जमींदार रणबीर बिश्नोई टेबल की ओट में गिर जाने से बाल बाल बच गया। पुलिस ने रणबीर की शिकायत पर ही 2 लोगों पर मर्डर का मामला दर्ज किया हुआ है। जिसके खुलासे को लेकर पुलिस की 6 टीमें लगाने का दावा एसपी सत्येंद्र गुप्ता ने किया था लेकिन अब तक कोई सुराग खुलासा पुलिस नहीं कर पाई है।
जांचजारी है : पुलिस प्रवक्ता
इस बारे में मामले के पुलिस प्रवक्ता सुरजीत सहारण ने बताया कि पुलिस की सभी टीमें अब भी जांच कर रही हैं। जब तक सही सुराग नहीं मिलते पुलिस कोई खुलासा नहीं कर सकती। जिला पुलिस कप्तान ने इसकी जांच को लेकर एसआईटीम गठित की हुई है।







प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें