Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: एक आइडिया ऐसा, 22 साल से नहीं भरना पड़ा पानी का बिल
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
#dabwalinews.com बेंगलुरु.  एक फैमिली ने पिछले 22 साल से पानी का कोई भी बिल नहीं भरा है। इसका कारण है फैमिली के मेंबर की टेक्निक और मेहनत...
#dabwalinews.com
बेंगलुरु. एक फैमिली ने पिछले 22 साल से पानी का कोई भी बिल नहीं भरा है। इसका कारण है फैमिली के मेंबर की टेक्निक और मेहनत। इस फैमिली के मेंबर ए.आर शिवकुमार ने एक ऐसी टेक्निक से अपना घर बनवाया है जिससे इस फैमिली को नहाने और पीने के लिए पर्याप्त पानी मिलता है। इस तकनीक से शिवकुमार के परिवार को रोज 400 लीटर से ज्यादा पानी यूज करने मिल रहा है, यही कारण है कि उन्होंने कोई भी पानी सप्लाई का कनेक्शन नहीं लिया है। 

ईको फ्रेंडली तरीके से पानी की बचत...
- ए.आर शिवकुमार कर्नाटक स्टेट काउंसिल फॉर साइंस एंड टेक्नोलॉजी के वरिष्ठ वैज्ञानिक हैं।
- 28 साल की उनकी पत्नी सुमा, बेटे अनूप और बहू वामिका भी पानी बचाने में उनकी मदद करते हैं।
- ईजी रेन वॉटर सप्लाय सिस्टम और ईको फ्रेंडली तरीके से पानी की बचत कर रहे हैं।
- इन्होंने 1995 में अपनी मर्जी से घर 'सौरभा' को डिजाइन कराया था।
ये है पानी स्टोर करने की टेक्निक...

- शिवकुमार के घर की ढलान वाली छत पर एक वॉटर फिल्टर लगा हुआ है। जिससे बारिश का पानी फिल्टर होता है और छत से जमीन में बने एक टेंक में चला जाता है।
- इस पानी को फिल्टर की मदद साफ किया जाता है। जिसके बाद धूल और अन्य पदार्थ पानी से अलग हो जाते हैं और साफ पानी स्टोर कर लिया जाता है।
- शिवकुमार के अनुसार उनकी 4 लोगों की फैमिली को एक दिन में लगभग 400 लीटर पानी की ही जरूरत होती है।
- उनके घर में कुल 45000 लीटर पानी स्टोरेज की व्यवस्था है जिसमें स्टोर किए गए पानी को उनकी फैमिली यूज करती है।
हर साल 2.3 लाख लीटर पानी स्टोर करते हैं

-
साल में 1 से 1.5 लाख लीटर पानी लगता है इसलिए पानी स्टोरेज के लिए कई टेंक बनवाए हुए हैं।
- किचन, सिंक और वॉशिंग मशीन से लेकर टॉयलेट फ्लश में भी इस पानी का यूज करते हैं।
- वे हर साल 2.3 लाख लीटर पानी स्टोर करते हैं, जो उनकी 4 लोगों की फैमिली के लिए काफी होता है।
- इस सिस्टम के कारण पानी की कमी नहीं होती क्यों कि वे पहले से ही अपने लिए पानी स्टोर करके रखते हैं।
घर में फिल्टर होकर आती है हवा और रोशनी...
- शिवकुमार के घर की खिड़कियां और वेंटिलेटर से सीधे हवा घर में नहीं आती।
- घर के चारों करफ ग्रीन पर्दा लगाया हुआ है और घर के बाहर पौधे, पेड़ लगे हुए हैं जिनसे फिल्टर होने के बाद ही फ्रेश हवा घर में आती है।
- घर की छत पर सोलर लाईटिंग सिस्टम लगा हुआ है, जिससे की दिन में घर के अंदर लाईट जलाने की जरूरत नहीं होती।
- लाईट और घर की कूलिंग का खर्चा बचने से ये फैमिली का काफी कम खर्चा होता है।

प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें

 
Top