Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: यह है भारत में किन्नरों की सबसे बड़ी बस्ती Life-of-transgender-kinner
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
 #dabwalinews.com तमिलनाडु के विल्लुपुरम स्थित कुवागम गांव को किन्नरों की सबसे बड़ी बस्ती के रूप में जाना जाता है। इस गांव में किन्नरों...

 #dabwalinews.com
तमिलनाडु के विल्लुपुरम स्थित कुवागम गांव को किन्नरों की सबसे बड़ी बस्ती के रूप में जाना जाता है। इस गांव में किन्नरों के देवता अरावन का सबसे बड़ा मंदिर कुठंडावर है। यहां के किन्नरों की लाइफ के बारे में हमेशा से क्यूरोसिटी रही है। कई फोटोग्राफर्स ने इस गांव में जाकर किन्नरों की डेली लाइफ को अपने कैमरे में कैद करने की कोशिश की है। 
सुबह से शाम तक ऐसा होता है रूटीन ...
 इस बस्ती में रहने वाले किन्नर सुबह 6 बजे उठ जाते हैं। 10 बजे तक नाश्ता करने के बाद ये बाहर निकल जाते हैं। यहां रहने वाले ज्यादातर किन्नरों की कमाई ट्रेनों में गाने के जरिए होती है। इसके अलावा चेन्नई के दुकानदारों से वसूली कर ये दिनभर में ढाई सौ से बारह सौ रुपए तक कमा लेते हैं। शाम को साढ़े पांच तक ये वापस ट्रेन पकड़कर अपनी बस्ती लौट आते हैं। रात को 10 बजे तक खाना खाकर साढ़े 11 तक पूरी बस्ती के किन्नर सो जाते हैं।
किन्नरों से जुड़े फैक्ट्स...

- किन्नरों की साल में एक दिन शादी होती है। यह शादी भी भगवान अरावन से होती है। भगवान अरावन की मूर्ति को शहर में घुमाया जाता है। अगले ही दिन किन्नर शृंगार उतारकर विधवा की तरह शोक मनाते हैं और सफेद कपड़े पहन लेते हैं।
- किन्नर की शव यात्रा रात के वक्त निकाली जाती है। किसी गैर-किन्नर को अंतिम संस्कार देखने की इजाजत नहीं होती। माना जाता है कि अगर अंतिम संस्कार को कोई गैर-किन्नर देख लेेगा तो मरने वाला किन्नर अगले जन्म में भी किन्नर ही पैदा होगा।
- किन्नर बहुचरा माता की पूजा कर उनसे माफी मांगते हैं और दुआ मांगते हैं कि अगले जन्म में उन्हें किन्नर की तरह जन्म ना लेना पड़े।
- किन्नरों की ज्यादातर परम्पराएं हिन्दू धर्म के मुताबिक निभाई जाती हैं, लेकिन अधिकांश गुरु मुस्लिम होते हैं।
- इतिहास में कुछ किन्नरों के जंग लड़ने का भी जिक्र है। इनमें से एक थे मलिक कफूर। उन्होंने दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी के लिए दक्कन में जंग जीती थी।

प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें