Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: सत्तारूढ़ दल के नेता उलझें हैं आरोप-प्रयारोप में, जनता चुपचाप सहन करने को मजबूर
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
 रास्ता भूल गया विकास #dabwalinews.com प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने पूरे लाव लश्कर के साथ गुजरात की गलियों जमकर लगाएं एक दूसरे पर...
 रास्ता भूल गया विकास
#dabwalinews.com
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने पूरे लाव लश्कर के साथ गुजरात की गलियों जमकर लगाएं एक दूसरे पर आरोप लेकिन आमजन की सुविधाओं की ओर तो कम से कम ध्यान दें। किंतु बड़ी विडम्बना है कि देश के सभी क्रिया-कलापों को नजरादांज कर बस एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोपी रूपी तीरों का इस्तेमाल कर रहे हैं और आमजन सरकारी सुविधाओं सहित मूलभूत ढांचें से दूर होता जा रहा है।
की खाक छान रहे हैं ताकि गुजरात में भाजपा की डूबती नैया को बचा सकें। इस चुनाव प्रचार में जहां सभी राजनीतिक दल जातिवाद का जहर घोलते हुए एक दूसरे के लिए ऐसी घटिया मानसिकता वाली शैली का प्रयोग कर रहे हंै जिसके कारण आम जनता यह सोचने को मजबूर हो गई हैं कि हमारे देश के कर्णधार किस दिशा की ओर देश को ले जा रहे हैं।
वहीं दूसरी ओर हरियाणा के मुख्यमंत्री और उनकी मित्रमंडली गीता जयंति महोत्सव के नाम पर जनता के खून पसीने की कमाई लुटा रही है और गीता पर बड़े-बड़े व्याख्यान देने में लगे हैं। इस महोसत्व में बड़े से बड़े अधिकारियों से लेकर छोटे से छोट कर्मचारी को इसी काम में झोंक दिया है तो वहीं स्कूल कॉलेज के विद्यार्थियों की पढ़ाई का हर्जाना कर उन्हें भी इसी काम में लगा रखा है।
आमजन सोचने को मजबूर हो चला है कि आखिर हमारी सरकार हमारे लिए कर क्या रही है? कभी स्वच्छता के नाम पर झाड़ू लगवा रही है तो कभी विभिन्न योजनाओं के नाम पर आमजन को कतार में खड़ा होने के मजबूर कर रही है। गीता जयंति महोत्सव पर करोड़ों रूपये खर्च कर आखिर आमजन को इससे क्या मिला? गीता का तो प्रत्येक व्यक्ति यूं भी दिल से सम्मान करता है और कोई भी इससे अंजान नहीं है फिर किसे जगाने का प्रयास किया जा रहा है। स्वच्छता के प्रति भी आमजन पूरी तरह से जागरूक है फिर स्वच्छता के नाम पर करोड़ों रूपये प्रचार-प्रसार पर क्यों बहाया जा रहा है? किसी भी योजनाओ का पिछले तीन साल में एक भी व्यक्ति को कोई लाभ नहीं मिला फिर दस्तावेजों पर आमजन का पैसा खर्च करवा क्यों कतार में लगाया जा रहा है? इन सब बातों को सरकार व उनके हाफिजोंं के पास कोई जवाब नहीं है। इसलिए पूरे प्रदेश में हर जिला से विकास कहीं गुम होकर रह गया है जो मिल ही नहीं रहा।

स्वास्थ्य सेवाएं राम भरोसे
शहर के नागरिक अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाएं राम भरोसे चल रही है। हालत यह है कि चिकित्सकों की नियुक्ति हो जाने के के बाद भी चिकित्सक नही है। एक्स-रे मशीन बिना कर्मचारी के धूल फांक रही है। मात्र दो-तीन चिकित्सकों के भरोसे अस्पताल चल रहा है। प्रयाप्त मात्रा में चिकित्सक न होने के कारण आपातकाल स्थिति से निपटने के लिए बचे-खुचे चिकित्सक असहाय से नजर आते हैं। सडक़ दुघर्टना अथवा लड़ाई झगड़े में घायल हुए गंभीर मरीजों को तुरंत सिरसा अथवा बठिंडा के लिए रवाना कर दिया जाता है अनेक बार तो समय पर चिकित्सा सेवा न मिल पाने के कारण मरीज दम भी तोड़ देते हैं।
न जाने कितनी बार यह सवाल कि आखिर चिकित्सक नियुक्ति के बाद अपनी डयूटी पर क्यों नहीं लौट रहे। समाचार पत्रों में प्रमुखता से प्रकाशित भी किया जाता है लेकिन इसका असर न तो स्वास्थ्य विभाग पर होता है और न ही सरकार पर ऐसे में डबवाली के नागरिक अस्पताल की स्वास्थ्य सेवाएं राम भरोसे चल  रही हैं। अस्पताल के हालात कब सुधरेंगे इसका भी किसी के पास कोई ठोस जवाब नहीं।
बॉक्स
सडक़े टूटी-फूटी,सफाई व्यवस्था चौपट

शहर का कोई ऐसा मार्ग, कोई ऐसी गली, कोई ऐसा बाजार शेष  नहीं है जहां से वाहन व राहगीर बिना झटका खाये निकल जाए। शहर की गलियां पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं तो वहीं पिछले एक वर्ष से अपनी बेबसी पर आंसू बहा रही कॉलोनी रोड का निर्माण कार्य केवल नेताओं की बयान बाजी तक ही सिमटा है। जब भी इस विषय पर बात करो तो सत्तारूढ़ दल व विपक्ष के नेताओं का एक ही जवाब होता है कि कॉलोनी रोड के लिए टंैडर हो गया है इसका निर्माण कार्य चंद दिनों में हो जाएगा। इसके बाद फिर महिनों निकल जाते हैं फिर बयान आता है अब जल्द होगा निर्माण। यह जल्द-जल्द वाली रट सुनते-सुनते इस मार्ग के लोगों का नेताओं की बातों से विश्वास पूरी तरह उठ चुका है।
वहीं दूसरी ओर नगर परिषद में सफाई कर्मचारी प्रायप्तमात्रा में न  हो पाने के कारण शहर में सफाई व्यवस्था पूरी तरह चौपट हो चुकी है। नगर परिषद के पास न कर्मचारी है न सफाई में प्रयोग किए जाने वाले पूरे उपकरण ऐसे में शहर की सफाई व्यवस्था दुरूस्त हो भी तो कैसे?

प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें