Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: आवाज बुलंद करे बिना नहीं होगा काम ,नये सिरे से करना होगा संघर्ष
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
dabwalinews.com  लंबे संघर्ष और जद्दोजहद के बाद कॉलोनी रोड का निर्माण कार्य आरंभ होने के बाद रेलवे फाटक के निकट से होकर गुजरने वाली अनाज...
dabwalinews.com
 लंबे संघर्ष और जद्दोजहद के बाद कॉलोनी रोड का निर्माण कार्य आरंभ होने के बाद रेलवे फाटक के निकट से होकर गुजरने वाली अनाज मंडी रोड का निर्माण होने की भी आशा जगी थी और इसके लिए यहां के  दुकानदारों द्वारा भी आंदोलन की चेतावनी दो सप्ताह पूर्व दी गई थी और उस दौरान नगर परिषद के अधिकारियों सहित एसडीएम ने भी इस मार्ग का निर्माण कार्य जल्द आरंभ करवाने की बात कही थी।
अब पुख्ता जानकारी यह मिल रही है कि ठेकेदार ने पुराने रेट पर अनाज मंडी रोड का निर्माण करने से स्पष्ट रूप से इंकार कर दिया है। बता दें कि लगभग 1 वर्ष पूर्व ठेकेदार द्वारा इसका निर्माण कार्य आरंभ कर दिया गया था लेकिन रेलवे विभाग द्वारा अवरोध उत्पन्न करने के कारण यह कार्य आगे नहीं बढ़ पाया। इसके बाद नगर परिषद को इस मार्ग का निर्माण करवाने के लिए रेलवे विभाग से एनओसी लेने में एक वर्ष का लंबा समय लग गया। अब जब रेलवे विभाग द्वारा एनओसी जारी करने के बाद इस मार्ग के निर्माण का रास्ता परशस्त हुआ तो अब ठेकेदार ने  पुराने रेट पर कार्य करने से इंकार कर दिया है। ठेकेदार का कहना है कि लगभग दो वर्ष पूर्व इसका टंैडर हुआ था उस दौरान और आज के समय निर्माण सामग्री के भाव अत्याधिक तेज होने के कारण अब पुराने रेट पर कार्य कर पाना संभव नही है।
अब इस मार्ग के निर्माण में रेट की बाधा उत्पन्न हो गई है। इसके लिए अब नगर परिषद को नये सिरे से टैंडर नोटिस जारी करने होंगे और नये रेट के आधार पर टैंडर छोडऩे के बाद ही मंडी रोड का निर्माण हो पाएगा। कुल मिलाकर इस प्रक्रिया को करने में अब एक बार फिर से लंबा समय लग सकता है तब तक यहां के दुकानदारों के साथ-साथ  राहगीरों को भी धूल और गड्डों का दंश झेलना ही  पड़ेगा।
आवाज बुलंद करे बिना नहीं होगा काम
रोड का निर्माण कार्य करवाने के लिए यहां के दुकानदारों को आमजन से मिलकर बड़ा आंदोलन करना होगा। यदि ऐसा नहीं किया तो नगर परिषद द्वारा फिर से टैंडर प्रक्रिया होने में लंबा समय लग सकता है। इसलिए सरकार व उच्चाधिकारियों तक अपनी आवाज पहुंचाने के लिए कड़े संघर्ष की जरूरत पड़ेगी। इसलिए एक रणनीति के तहत इस कार्य को अंजाम तक ले जाने के लिए संघर्ष की राह अपनानी ही  होगी।
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें