Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: सभी राजनीतिक दल किसानों के हितों की लड़ाई लड़ें:आदित्य चौटाला
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली -  गांव अबूब शहर में राजस्थान कैनाल नहर की पटरी बैठे किसानों का धरना शनिवार को चौथे दिन में प्रवेश कर गया। जैसे-जैसे धरने के दिन...

डबवाली - 
गांव अबूब शहर में राजस्थान कैनाल नहर की पटरी बैठे किसानों का धरना शनिवार को चौथे दिन में प्रवेश कर गया। जैसे-जैसे धरने के दिन बढ़ते जा रहे है वैसे-वैसे किसानों की संख्या में भी इजाफा होता जा रहा है। इंदिरा गांधी कैनाल नहर का पुर्ननिर्माण राजस्थान सरकार द्वारा करवाया जा रहा है और इस पर हरियाणा सरकार की चुप्पी हरियाणा के किसानों के लिए जहां परेशानी का सबब बनती जा रही है तो वहीं सरकार भी इस पर रोक लगाने में असहाय सी नजर आने लगी है। वहीं दूसरी और धरने में बढ़ रही महिलाओं व पूरूषों की संख्या के कारण प्रशासनिक अधिकारियों की भी सांसे फूलने लगी है। किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए धरना स्थल के आस-पास भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। किसानों का समर्थन करने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डा.केवी सिंह, कुलदीप गदराना, कुलदीप भांभू के अतिरिक्त जिला परिषद के सदस्य आदित्य देवीलाल चौटाला, प्रह्लाद सिंह भारूखेड़ा, विकल पचार, भजन सिंह आदि लगातार किसानों के हितों की लड़ाई में अपना वर्चस्व कायम रखें हुए हैं। डा. केवी सिंह ने कहा कि हरियाणा सरकार को हस्तक्षेप कर इस मामले का निपटरा करवाकर यहां के किसानों को राहत देनी चाहिए लेकिन सरकार ऐसा नहीं कर रही। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार इन पीडि़त किसानों के साथ हमेशा खड़ी है और रहेगी। उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर इन किसानों के हितों से खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा। आदित्य चौटाला ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को इन किसानों की समस्या से अवगत करवा दिया गया है और हरियाणा सरकार राजस्थान सरकार से मिलकर कोई बीच का रास्ता निकालने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि जब तक किसानों को बात नहीं मान ली जाती तब तक वह किसानों के साथ कंधें से कंधा मिलाकर उनके हितों की लड़ाई को लड़ते रहेंगे और किसानों को किसी भी कीमत पर आर्थिक व मानसिक हानि नही होने देंगे। आदित्य चौटाला ने कहा कि किसानों के हितों की लड़ाईलडऩे के लिए सभी राजनीतिक दलों को मिलकर लडऩी चाहिए ताकि धरती पुत्र को उनका हक दिलवाया जा सके।

प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें