BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

बुधवार, जनवरी 23, 2019

मुख्यमंत्री किसान खेत सड़क योजना के तहत खेतों की सड़कें होंगी पक्की :उपायुक्त प्रभजोत सिंह


जिला की चार विधानसभा क्षेत्रों के 100 किलोमीटर सड़कों को पक्का करने का लक्ष्य 
उपायुक्त प्रभजोत सिंह ने की मासिक प्रेसवार्ता
अधिकारियों ने अपने विभागों से संंबंधित योजनाओं की एक-एक कर दी जानकारी
सिरसा, 23 जनवरी।
मुख्यमंत्री किसान खेत सड़क योजना के तहत जिला में खेतों की 100 किलोमीटर कच्चे रास्तों को पक्का किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। योजना के तहत खेतों को जाने वाले रास्तों को पक्का किया जाएगा, जिसमें 4 क्रम के रास्ते को 12 फुट व 3 क्रम के कच्चे रास्ते को 10 फुट चौड़ा कर खडंजे के साथ पक्का किया जाएगा।
यह जानकारी उपायुक्त प्रभजोत सिंह ने आज लघुसचिवालय स्थित बैठक कक्ष में मासिक प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए दी। इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त आम्रा तस्नीम, एसडीएम सिरसा राहुल हुड्डïा, एसडीएम डबवाली सुरेंद्र कुमार, एसडीएम कालांवाली बिजेंद्र सिंह व डीडीपीओ प्रीतपाल सिंह भी उपस्थित थे।
उपायुक्त ने प्रेसवार्ता में विभिन्न विभागों के माध्यम से जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री किसान खेत सड़क योजना मुख्यमंत्री घोषणा का भी एक हिस्सा है। इसलिए यह योजना जिला के किसानों के लिए महत्वपूर्ण योजना है। योजना के तहत जिला की सभी विधानसभा क्षेत्रों में 25-25 किलोमीटर के कच्चे रास्तों को पक्का किया जाएगा।  
प्रेसवार्ता में नशा पर रोक बारे की जा रही कार्यवाही बारे जानकारी देते हुए उप पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जिला में नशा पर पूर्ण प्रतिबंध के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा कड़े कदम उठाए जा रहे हैं। नशा स्पलायर की धरपकड़ के लिए दो स्पेशल स्टाफ की टीमें गठित की गई हैं। इसके अलावा स्वयं पुलिस अधीक्षक हर रोज तीन पंचायतों के साथ नशा मुक्ति बारे बैठकें कर रहे हैं। लोगों को नशे से बचने व इससे होने वाले नुकसान बारे जागरूक किया जा रहा है। जिला में नशा के कारोबार में लिप्त व्यक्तियों पर 405 मुकदमें दर्ज किए गए हैं, जबकि 574 की गिरफ्तारियां की जा चुकी हैं। 
कृषि विभाग के अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत कुल 289 गांवों का 312 करोड़ 77 लाख 37 हजार 693 रुपये की राशि कपास की फसल पर स्वीकृत हो चुकी है। इनमें से 218 गांवों के किसानों के बीमा क्लेम राशि उनके खातों में पहले ही डाली जा चुकी है, जबकि जो 71 गांव इससे वंचित रह गये थे, उनकी भी स्वीकृति हो चुकी है और जल्द ही राशि किसानों के खातों में डाल दी जाएगी।
पत्रकारों द्वारा मुख्य डाकघर के सामने अतिक्रमण व शहर में आवारा पशुओं की समस्या को लेकर पूछे सवाल के जवाब में उपायुक्त ने कहा कि प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने बारे की कार्यवाही में काफी हद तक कामयाबी मिली है, जिसके लिए संबंधित अधिकारी व कर्मचारी बधाई के पात्र हैं। यदि इस संबंध में यदि कोई समस्या उत्पन्न हो रही है, तो अधिकारी इसके लिए कर्मचारियों की ड्ïयूटी निर्धारित करें। आवारा पशुओं के बारे में उन्होंने कहा कि सिरसा जिला पंजाब व राजस्थान की सीमाओं से सटा होने के कारण आवारा पशुओं की समस्या ज्यादा उत्पन्न हो रही है। प्रशासन जिला को आवारा पशु मुक्त बनाने में काफी गंभीरता से कार्य रहा है और प्रदेश में सिरसा जिला में सर्वाधिक 138 गौशालाएं व 45 नंदीशालाएं हैं। हमारा लक्ष्य है कि 28 फरवरी तक जिला सभी आवारा पशुओं को गौशालाओं व नंदीशालाओं में रखा जाए। 
फर्जी फर्मों बारे पूछे सवाल के जवाब में उपायुक्त ने पुलिस अधिकारी को निर्देश दिए कि वे इसकी गहराई में जाकर जांच करें, ताकि इसकी मूल समस्या को हल किया जा सके। डीईटीसी ने जानकारी देते हुए बताया कि ऐसी 40 फर्जी फर्मों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जा चुकी है और उनकी रिटर्न वैरीफिकेशन की जांच की जा रही है। इसी प्रकार पत्रकारों द्वारा कोटन मिल्स कालांवाली मेें फर्जीवाड़ा होने के सवाल के जवाब में उपायुक्त ने संबंधित अधिकारी को निर्देश दिए कि वे जिला की सभी कोटन मिल का निरीक्षण कर जांच करें। बिजली विभागों को सभी मिलों के बिजली बिलों संबंधी पूर्ण जांच के आदेश दिए।
पत्रकारों द्वारा शहर में खड़े अवैध होर्डिंग्ज के संबंध में पूछे सवाल के जवाब में नगर परिषद के अधिकारी ने बताया कि शहर में लगे सभी अवैध होर्डिंग्ज हटा दिए गए हैं और स्ट्रैक्चर को हटाने के लिए टेंडर प्रक्रिया जारी है। इस पर उपायुक्त ने अधिकारी को आदेश दिए कि वे इस संबंध में पोलिसी बनाने बारे विभाग के साथ पत्राचार करें। शहर में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने बारे पूछे सवाल के जवाब में उपायुक्त ने कहा कि यह शहर की सुरक्षा से जुड़ा मामला है, इसलिए किसी भी बाहरी निजी कंपनी को इस कार्य के लिए अधिकृत किया जाना उचित नहीं होगा। सीसीटीवी कैमरों के लिए कमेटी का गठन किया जा चुका है तथा जल्द ही टैंडर प्रक्रिया शुरू की जाएगी। शहर में दिन के समय जल रही स्ट्रीट लाईटों पर उपायुक्त ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे लोगों को दिन में जल रही लाईटों बारे अवगत करवाएं कि ये सब टैस्टिंग प्रक्रिया के चलते होता है और यदि इस बारे कोई शिकायत प्राप्त होती है तो उसकी जांच अवश्य करें।
उपायुक्त ने पत्रकारों द्वारा सफाई के संबंध में पूछे सवाल के जवाब में कहा कि स्वच्छता एक ऐसी मुहिम है, जिसके साथ सभी को जुडऩा जरूरी है और सबके के लिए जरूरी भी है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने विभाग से संबंधित शौचालयों को साफ-सुथरा रखें तथा जिस भी विभाग के शौचालय खस्ता हालत में हैं, वे उन्हें 26 जनवरी तक दुरूस्त करवा लें। पत्रकारों द्वारा दिल्ली व राजस्थान से बिना परमिट की आने वाली बसों तथा सायं 5 बजे के बाद डबवाली-सिरसा रूट पर सर्विस ना होने पूछे सवाल पर अतिरिक्त उपायुक्त ने बताया कि सप्ताह में तीन बारे ऐसी बसों की चैकिंग की जाती है। यदि कोई बस बिना परमिट के पाई जाती है, तो उन्हें इम्पाउंड भी किया जाता है। शाम के समय के बाद डबवाली-सिरसा रूट पर बस न चलने के जवाब में जीएम रोडवेज ने बताया कि इस रूट पर आवश्यकता अनुसार बसें चल रही हैं। यदि फिर भी अतिरिक्त बसें चलाने की आवश्यकता पड़ती है, तो बसें चलाई जाएंगी।
प्रेसवार्ता में पत्रकारों द्वारा जिला के लिंगानुपात व स्वाईन फ्लू की जानकारी बारे पूछे सवाल के जवाब में महिला बाल विकास अधिकारी ने बताया कि दिसंबर माह की रिपोर्ट के अनुसार जिला का लिंगानुपात 935 है। विभागीय प्रक्रिया अनुसार हर तीन माह में कम अनुपात वाले गांव को चिन्हित किया जाता है। इन गांवों में कैंप लगाकर लोगों को लिंगानुपात में सुधार बारे जागरूक किया जाता है। जिला चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जिला में अब तक स्वाईन फ्लू के संबंध में 15 केस आए हैं, जिनमें से 4 में स्वाईन फ्लू होने की पुष्टिï हुई है। प्रेसवार्ता में पत्रकारों द्वारा पूछे गए अन्य सवालों के जवाब में संबंधित विभागों के अधिकारियों ने जानकारी दी।
प्रेसवार्ता में सीएमजीजीए पूर्वी चौधरी, सिविल सर्जन डा. गोबिंद गुप्ता, डीएफएससी अशोक बंसल, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी संत कुमार, अधीक्षण अभियंता सिंचाई विभाग राजेश बिश्रोई, अधीक्षण अभियंता बिजली निगम एमआर सचदेवा, अधीक्षण अभियंता जनस्वास्थ्य विभाग प्रदीप पूनिया, कार्यकारी अभियंता पीडब्ल्यूडी (बीएंडआर) अजीत सिंह, डीईटीसी (बिक्रीकर) सत्यबाला, डीईटीसी (आबकारी) जगमीत सिंह, पीओ आईसीडीएस डा. दर्शना सिंह सहित कृषि, खेल सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज