BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

बुधवार, मार्च 20, 2019

गोल्डन एरा मिलेनियम स्कूल में अंतरराष्ट्रीय उल्लास दिवस पर वर्कशॉप का हुआ आयोजन

डबवाली न्यूज़  
गोल्डन एरा मिलेनियम स्कूल डबवाली  में आज International Day of happiness (अंतरराष्ट्रीय उल्लास दिवस) पर वर्कशॉप का आयोजन किया गया स्कूल अध्यक्ष ने समूह अध्यापकों को इस दिवस के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय उल्लास दिवस का प्रस्ताव 2011 में Jayme Illien ने United Nations के समुख रखा था और 28 जून 2012 को यूनाइटेड नेशंस जनरल असेंबली ने घोषित कर दिया था कि 20 मार्च को प्रत्येक वर्ष यह दिवस मनाया जाएगा डॉक्टर दीप्ति शर्मा जी ने कहा कि जीवन में खुशियां हमेशा सकारात्मकता की भावना जागृत करती है उन्होंने कहा कि जब कोई किसी चीज के बारे में आनंद महसूस करता है तो उसे उस व्यक्ति की खुशी कहा जाता है उन्होंने बताया कि खुश रहने से लोग शांति महसूस करते हैं और मनुष्य को मुस्कुराने में मदद मिलती है उन्होंने आगे कहा कि खुशी वह है जिसे शब्दों में वर्णन करना मुश्किल है इसे केवल महसूस किया जा सकता है अच्छा जीवन जीने के लिए खुश होना बेहद जरूरी है लेकिन दुर्भाग्य से ज्यादातर लोगों के जीवन से खुशी गायब हो चुकी है अलग अलग लोगों के पास खुशी के विभिन्न विचार हैं कुछ लोग प्यार में खुशी महसूस करते हैं और कुछ को खुशी और संतुष्टि तब महसूस होती है जब एक पेशेवर जिंदगी में अच्छा काम करते हैं उन्होंने आगे कहा कि खुशी वह है जो केवल आप ही अपने लिए ला सकते हैं यदि आप खुश रहना पसंद करते हैं और अच्छे विचारों को अभ्यास में लाना चाहते हैं तो आपको खुशी प्राप्त होगी हालांकि यह इतना आसान नहीं है जितना लगता है आपको यह काम करने के लिए प्रयास करने की आवश्यकता है उन्होंने कहा कि खुशी आनंद की एक अवस्था है यदि आप इस स्थिति में रहने के लिए अपने मस्तिष्क को प्रशिक्षित करते हैं तो वह उसी तरह रहना सीख जाएगा ऐसा इसलिए है क्योंकि आपका मन जो कुछ भी कहता है आपको दिमाग वही मानता है अंत में डॉक्टर दीप्ति शर्मा जी ने कहा कि वही वास्तव में खुश और संतुष्ट होने की स्थिति है उन्होंने कहा कि सच्ची खुशी अपने भीतर होती है और यह दूसरों से नहीं आती है इसलिए खुद भी खुश रहें और दूसरों को भी खुशी प्रदान करें सभी ने मिलकर अंत में नारा लगाया
" मुस्कान थके हुए के लिए विश्राम है उदास के लिए दिन का प्रकाश और कष्ट के लिए प्रकृति का सर्वोत्तम उपहार है"

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज