BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

गुरुवार, मार्च 07, 2019

कॉपर वायर उतारकर बेचने के मामले में दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण्, दो अधिकारियों समेत तीन जिम्मेवार ठहराए गए

डबवाली न्यूज़ 
कॉपर वायर उतारकर बेचने के मामले में दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम डबवाली के तत्कालीन एसडीओ मोहन लाल, वर्तमान जेई-1 तरसेम चंद तथा एएफएम राम सुमेर जिम्मेवार ठहराए गए हैं। इस संबंध में डीएचबीवीएन हिसार के कार्यकारी अभियंता (विजिलेंस) ने 10 जनवरी 2019 को रिपोर्ट पेश की थी। 5 मार्च को एसइ (एडमिन) हिसार ने सीई (कार्मिशयल) को आगामी एक्शन लेने के लिए रिपोर्ट प्रेषित की है। करीब चार साल बाद सामने आई रिपोर्ट पर आरटीआइ एक्टिविस्ट का कहना है कि मामले में कई वरिष्ठ अधिकारियों समेत 23 से ज्यादा कर्मचारी संलिप्त हैं। यूं उजागर हुआ था मामला
वर्ष 2014 में आरटीआइ एक्टिविस्ट युद्धवीर रंगीला तथा मुकेश शर्मा ने आरटीआइ के जरिए शहर में कॉपर वायर होने के संबंध में बिजली निगम से जवाब मांगा था। निगम ने झूठी रिपोर्ट पेश करते हुए कहा कि वर्ष 1966 में शहर में बिजली आई थी, लेकिन वर्तमान में कहीं भी कॉपर वायर नहीं है। जबकि बिजली निगम अधिकारी तथा कर्मचारी कॉपर वायर को उतारकर बेचते जा रहे थे। दोनों ने शहर में ऐसे इलाकों की पहचान की, यहां वर्तमान में कॉपर वायर लगी हुई हैं। इस संबंध में शिकायत दर्ज करवाई। वर्ष 2015 में विजिलेंस के तत्कालीन कार्यकारी अभियंता शमशेर सिंह डबवाली पहुंचे। दुर्गा मंदिर के नजदीक 110 फीट लंबी कॉपर वायर बरामद की। उसी वर्ष जांच अधिकारी ने रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी थी। शिकायतकर्ताओं के अनुसार जांच अधिकारी ने कॉपर वायर की कीमत कई करोड़ रुपये बताई थी। लेकिन उच्च अधिकारियों की संलिप्तता के कारण रिपोर्ट दबा ली गई। शिकायतकर्ताओं ने सीएम विडो का दरवाजा खटखटाया। अधिकारियों पर दबाव बना, जिसके बाद रिपोर्ट सामने आई है। बिजली निगम ने तीन बार आरटीआइ का गलत जवाब दिया। बताया कि शहर में कॉपर वायर नहीं है। कॉपर वायर उतारकर बेचने के मामले में कई बड़े अधिकारी शामिल हैं। कुछ रिटायर हो चुके हैं, तो शिकायत के बावजूद कईयों को पदोन्नति मिल गई है। जब तक उत्तरदायी अधिकारियों, कर्मचारियों पर कार्रवाई नहीं हो जाती, तब तक भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग जारी रहेगी।

-युद्धवीर रंगीला, आरटीआइ एक्टिविस्ट, डबवाली कॉपर वायर मामले की जांच अभी बंद नहीं हुई है। इसके लिए निगम के तीन लोगों को उत्तरदायी ठहराया गया है। उनके खिलाफ एक्शन लिया जा रहा है। उन्हें चार्जशीट करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

-एसई रणवीर सिंह, दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम, सिरसा




credit  jagran group 

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज