चंडीगढ़, [अनुराग अग्रवाल]। हरियाणा में लोेकसभा चुनाव का माहौल गर्माने के साथ ही नेताओं की आपसी खींचतान और भिड़ंत तेज हो गई है। राजस्थान से सटी बांगर बेल्ट के प्रमुख संसदीय क्षेत्र हिसार में तीन प्रमुख नेता आमने-सामने हो गए हैं। यहां सांसद निधि के खर्च को लेकर बवाल मच गया है। ताऊ देवीलाल के पड़पोते एवं निवर्तमान सांसद दुष्यंत चौटाला ने अपने से पूर्व के तीन सांसदों को कठघरे में खड़ा किया है। इन सांसदों में पूर्व सीएम भजनलाल, उनके बेटे कुलदीप बिश्नोई और पूर्व केंद्रीय मंत्री जय प्रकाश जेपी हैं।
दुष्यंत चौटाला बोले मैंने खर्च की अपने से पहले के तीन सांसदों की बची हुई निधि
दुष्यंत चौटाला ने तीनों पूर्व सांसदों पर आरोप जड़े कि वे अपने कार्यकाल में मंजूर सांसद निधि का पूरा इस्तेमाल नहीं कर पाए। दुष्यंत चौटाला के आरोप पर पलटवार करते हुए कुलदीप बिश्नोई और जय प्रकाश जेपी ने उन पर ही सवालों की झड़ी लगा दी है। कुलदीप का कहना है कि खुद दुष्यंत अपने कार्यकाल में पौने चार करोड़ रुपये खर्च नहीं कर सके। दूसरी ओर, जेपी का कहना है कि जिस सांसद के कार्यकाल में राशि मंजूर होती है, वह उसी के खाते में दर्ज मानी जाती है।
कुलदीप बिश्नोई ने कहा, अपने कार्यकाल की पौने चार करोड़ की राशि खर्च करना भूले दुष्यंत 
हिसार संसदीय क्षेत्र में सांसद निधि के खर्च को लेकर मचे बवाल से सियासत गरमा गई है। फिलहाल दुष्यंत चौटाला, कुलदीप बिश्नोई के बेटे भव्य बिश्नोई और भाजपा के बृजेंद्र सिंह चुनावी मैदान में हैं। दुष्यंत चौटाला ने दावा किया है कि उन्होंने अपने कार्यकाल में अलाट हुई करीब 25 करोड़ रुपये की सांसद निधि के अलावा अपने से पूर्व के तीन सांसदों की सांसद निधि भी खर्च की है। दुष्यंत के अनुसार उनसे पहले कुलदीप बिश्नोई,  भजनलाल और जयप्रकाश जेपी हिसार संसदीय क्षेत्र के लिए अलाट सांसद निधि का काफी हिस्सा अपने कार्यकाल में खर्च नहीं कर पाए।
जयप्रकाश ने कहा- जिस एमपी के कार्यकाल में काम मंजूर होगा, उसी के खाते में जाएगा क्रेडिट 
दुष्यंत के मुताबिक, उनसे पहले सांसद रहे कुलदीप बिश्नोई दो करोड़ 70 लाख 95 हजार 230 रुपये 99 पैसे खर्च नहीं कर पाए थे। कुलदीप बिश्नोई से पहले उनके पिता भजनलाल सांसद थे, जिन्होंने सांसद निधि की 21 लाख 31 हजार 972 रुपये की राशि खर्च नहीं की। भजनलाल से पहले जयप्रकाश जेपी हिसार से सांसद रहे और उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान 23 लाख दो हजार 550 रुपये 17 पैसे खर्च नहीं किए।
दुष्यंत के अनुसार रिकार्ड के आधार पर उन्होंने लोकसभा सचिवालय से पुरानी धनराशि को फिर से री-स्टोर कराया और इसे अपने क्षेत्र के लिए ट्रांसफर कराया है। उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान अलाट हुई करीब 25 करोड़ रुपये की सांसद निधि के अलावा तीनों पूर्व सांसदों की बची हुई तीन करोड़ 14 लाख रुपये से अधिक की राशि को भी खर्च किया है। दुष्यंत चौटाला के इस आरोप के बाद कुलदीप बिश्नोई और जयप्रकाश जेपी ने कहा कि दुष्यंत अब सस्ती लोकप्रियता के चक्कर में पड़कर मर्यादा भूल गए हैं और झूठ की राजनीति पर उतर आए हैं। 
-------
'मेरे से पहले के तीन सांसदों ने की हिसार की उपेक्षा' 
'' मेरे से पहले हिसार लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व भजनलाल, कुलदीप बिश्नोई और जयप्रकाश जेपी ने किया। तीनों सांसद अपने कार्यकाल के दौरान सांसद निधि का पूरी तरह से इस्तेमाल नहीं कर सके और वह धनराशि उनके खातों में बची रह गई। मैं जब हिसार का सांसद बना तो विकास कार्यों के लिए राशि कम पड़ गई। जब मुझे पता चला कि मेरे से पूर्व के सांसदों ने अपने हिस्से की राशि खर्च नहीं की तो मैंने लोकसभा सचिवालय से पत्राचार कर पूर्व सांसदों का रिकार्ड निकलवाया और उनके हिस्से की राशि को री-स्टोर कराकर हिसार की जनता के विकास कार्यों पर खर्च की। मैंने अपने हिस्से के 25 करोड़ अलग से खर्च किए। 
                                                                                      - दुष्यंत चौटाला, निवर्तमान सांसद, हिसार। 

----------
'जिस एमपी के कार्यकाल में काम अलाट होगा, उसी को मिलेगा श्रेय' 
'' दुष्यंत चौटाला को ज्ञान नहीं है। मेरे कार्यकाल में एक रुपया भी लंबित नहीं था। पांच साल के बाद वैसे भी पैसा किसी सांसद के खाते में नहीं रहता। मेरे बाद दो एमपी आए। दरअसल, जिस एमपी के कार्यकाल में काम अलाट होता है, भले ही उसकी मंजूरी के बाद ग्रांट बाद में अगले एमपी के कार्यकाल में आए, लेकिन काम पुराने वाले एमपी के हिस्से में ही दर्ज होता है। दुष्यंत चौटाला सस्ती लोकप्रियता के चक्कर में पड़ गए हैं। मुझे अच्छी तरह से याद है कि मेरे कार्यकाल का कोई पैसा लंबित नहीं था। और तो और पैसा कम पड़ गया था। 
                                                                                               - जयप्रकाश जेपी, पूर्व सांसद, हिसार। 
-----------
'खुद तीन करोड़ 56 लाख क्यों नहीं खर्च कर पाए दुष्यंत' 

''शीशे के घर में रहने वालों को दूसरे के घर पर पत्थर नहीं फेंकने चाहिए। दुष्यंत मेरे बेटे भव्य की लोकप्रियता से घबरा गए हैं। दुष्यंत गलत बयानबाजी कर रहे हैं। उनके कार्यकाल की तीन करोड़ 56 लाख रुपये की राशि खर्च नहीं हुई, जो कि वापस चली गई है। उन्हें यह बात याद नहीं आ रही। रही हमारे कार्यकाल की बची हुई राशि के दुष्यंत चौटाला द्वारा खर्च करने की बात, इसमें कोई सच्चाई नहीं है। सांसद के नाते मैंने विकास कार्यों को मंजूरी दी। डीसी आफिस में ग्रांट आई। अधिकारियों ने एस्टीमेट बनाने में देरी की। तब कई राजनीतिक कारण रहे होंगे। पैसा डीसी आफिस में मौजूद था, मगर एस्टीमेंट तैयार करने में लापरवाही बरती गई। इस राशि को खत्म या गैर उपयोग हुआ नहीं माना जा सकता। बाद में इसी राशि से विकास कार्य हुए। जिस सांसद के कार्यकाल में यह विकास कार्य मंजूर हुए, उसी के खाते में उन्हें दर्ज माना जाएगा। 
                                                                                               - कुलदीप बिश्नोई, पूर्व सांसद, हिसार।

credit jagran network