BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

मंगलवार, जनवरी 14, 2020

वरच्युस क्लब ने 'सुंदर मुदरिए, ओ तेरा कौन विचारा, दुल्ला भट्टी वाला...Ó गाकर लोहड़ी के उत्सव का किया आगाज

डबवाली न्यूज़
नगर की प्रमुख सामाजिक संस्था वरच्युस क्लब ने वरच्युस भवन में लोहड़ी उत्सव धूमधाम से मनाया। इस पर इलाके कलाकारों, साहित्यकारों व वरच्युस क्लब सदस्यों ने लोहड़ी की अग्रि प्रज्जवलित करते हुए 'सुंदर मुदरिए, ओ तेरा कौन विचारा, दुल्ला भट्टी वाला...Ó गाकर कला कुंज की इस उत्सव का आगाज किया।

क्लब सचिव मनोज शर्मा ने सभी का स्वागत किया व नरेश शर्मा ने सूर्य ध्यान करवा कर सभी को आध्यात्मिकता से जोड़ा। क्लब प्रधान सोनू बजाज ने लोहड़ी पर्व के इतिहास व महत्व क बारे में बताते हुए कहा कि पारंपरिक तरीके से मनाए जाने वाले हमारे त्यौहार कला के माध्यम से आने वाली पीढ़ी तक पहुंचते हैं। फनकार व साहित्यकार इसमें अहम भूमिका निभाते हैं।
क्लब संस्थापक केशव शर्मा ने अपने उद्बोधन में कहा कि लोहड़ी जैसे उत्सव हमारे लोक उत्सव हैं, ये हमारी प्राचीन संस्कृति के परिचायक होने के साथ-साथ हमारे आपसी प्रेम व भाईचारे का संदेश भी जन जन तक फैलाते हैं। इनसे अनेक प्राचीन कथाएं जुड़ी हुई हैं जिनके सार्थक संदेश लंबा अर्सा बीतने के बाद आज के समय में भी प्रसांगिक हैं। कार्यक्रम में मारवल बदर्स गुरविंद्र व मनिंद्र ने ऐतिहासिक लोकतथ मिर्जा.., साहिल गगन सोनी ने नित खैर मंगा सोनेयां मैं तेरी.., राजेंद्र कौर ने आटे दी चिड़ी.., अमनदीप कौर ने बापू तेरे करके.., वंदना वाणी ने सोने दीआं डंडिया.., रसदीप सिंह ने इकतारा वजदा वे..., उपिंद्र सिंह ने दाना पानी.., लोक गायक सिंधबाद ने जैमल फता..,जसदीप ने बहारो फूल बरसाओ..,चर्चित लोक गायिका रजनी मोंगा ने रबा मैं प्यार कीत्ता..,पत्रकार फतेह सिंह आजाद ने तारेआ तों पुछ चन्न वे..,वेद भारती ने मोहम्मद रफी का गीत मैं ये सोचकर उसके दर से उठा था...और रोशन कुमार ने हम तुम से जुदा होके.. गाकर महफिल में समां बांध दिया। दिलबाग विर्क ने अपनी कविता पानी भरे खेतों में धान रोपते किसान.. व रिपुदमन शर्मा ने मां वे सुहागन तेरे शगन करे..सुनाकर अपनी कविताओं के माध्यम से कार्यक्रम को विरासती रंग दिया। कार्यक्रम का संचालन रंग कर्मी संजीव शाद ने अपने शेयरो-शायरी भरे अपने अनूठे अंदाज में किया। इस अवसर पर प्रवीण सिंगला, अमित मेहता, सुखविंद्र चंदी, प्रणव ग्रोवर, सुमित अनेजा, वेद कालड़ा, मास्टर के दिलावर, उपिंद्र सिंह के अलावा वरच्युस परिवार के अन्य सदस्य उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज