BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

रविवार, जुलाई 26, 2015

नुकसान का जायजा शुरू, स्कूलों में लगेंगे बोरवेल

गांव पन्नीवाला मोरिकां-मांगेआना में जलभराव का मामला, कानूनगो व बीईओ ने किया दौरा
#dabwalinews.com

डबवाली। सौ एमएम बरसात से गांव पन्नीवाला मोरिकां तथा मांगेआना में पैदा हुए बाढ़ जैसे हालात ने प्रशासन को पसीना छुड़ा दिया है। बहत्तर घंटे बीतने के बावजूद प्रशासन पानी सूखने का इंतजार कर रहा है। पन्नीवाला मोरिकां में प्रशासन ने नुकसान का आंकलन शुरू कर दिया है। दूसरी ओर मांगेआना स्थित सरकारी स्कूलों में बोरवेल का कार्य शुरू हो गया है। शनिवार को शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने स्कूलों का निरीक्षण करके हालातों का जायजा लिया। राजकीय प्राथमिक पाठशाला मांगेआना में पानी भरा होने के कारण कक्षाएं गुरुद्वारा में लगाई जा रही हैं।
बुधवार को हुई बारिश की वजह से पंजाब सीमा पर बसे गांव पन्नीवाला मोरिकां में देसूजोधा तथा पंजाब के गांव चक रूलदू सिंहवाला को जाते मार्ग पर करीब पांच सौ एकड़ में खड़ी फसल बर्बाद हो गई है। नुकसान का आंकलन करने के लिए कानूनगो हरदयाल मौका पर पहुंचे। उन्होंने गांव में बने चारों जोहड़ों का निरीक्षण किया। ओवरफ्लो हो रहे जोड़ों की रिपोर्ट उच्च अधिकारियों को दी। उन्होंने पंजाब से हरियाणा में छोड़े जा रहे बरसाती पानी के बारे में भी अधिकारियों को बताया है। हरदयाल सिंह कानूनगो के अनुसार बरसात की वजह से गांव पन्नीवाला मोरिकां में काफी नुकसान हुआ है। पंजाब को जाते मार्ग पर ही करीब साढ़े तीन सौ से चार सौ एकड़ फसल में पानी भरा पड़ा है। देसूजोधा रोड़ पर प्रभावित रकबा इससे जुदा है। पानी सूखने के बाद नुकसान का सही आंकलन सामने आएगा। पता चलेगा कि कितनी फसल जल गई है। कानूनगो के अनुसार गांव काफी नीचा है। इर्द-गिर्द ऐसी कोई जमीन नहीं, यहां पानी निकाला जा सकें। पल-पल की रिपोर्ट अधिकारियों से सांझा की जा रही है। इधर गांव मांगेआना में हालत जस के तस हैं।
राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में तीन वर्ष पहले बने कमरे बारिश की वजह से गिरने की कगार पर पहुंच गए हैं। दूसरी ओर राजकीय प्राथमिक पाठशाला में डेढ़ फुट पानी खड़ा है। पानी निकालने के लिए जमीन न होने के कारण शिक्षा विभाग तथा प्रशासन यहां भी पानी सूखने की प्रतीक्षा कर रहा है। पाठशाला में पानी जमा होने के कारण 171 बच्चों के भविष्य को देखते हुए कक्षएं पाठशाला से सटे गुरुद्वारा में लगाई जा रही हैं। शनिवार को खंड शिक्षा अधिकारी संत कुमार ने गांव मांगेआना के दोनों सरकारी स्कूलों का निरीक्षण किया।
गुरुद्वारा में लग रही प्राथमिक पाठशाला

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

पेज