Dabwalinews.com Dabwalinews.com Author
Title: एसडीएम ने इओ को लगाई फटकार, पार्षद बोले 20 को करेंगे तालाबंदी
Author: Dabwalinews.com
Rating 5 of 5 Des:
डबवाली - नगर परिषद पर कांग्रेस समर्थित प्रत्याशियों का कब्जा है और प्रदेश व देश में भाजपा की सरकार है और शहर की छोटी सरकार को बने दो वर्...
डबवाली -
नगर परिषद पर कांग्रेस समर्थित प्रत्याशियों का कब्जा है और प्रदेश व देश में भाजपा की सरकार है और शहर की छोटी सरकार को बने दो वर्ष पूरे होने को हैं। इन दो वर्षों के अंतराल में अनेक बार आम बैठकें हुई लेकिन एक भी कार्य सिरे नहीं चढ़ पाया। अब शहर के सभी 21 वार्र्डाें के लोग पार्षदों से जवाब मांग रहे हैं। सडक़ें व सफाई व्यवस्था के साथ-साथ स्ट्रीट लाइट को लेकर जब भी सवाल किया जाता है तो पार्षद केवल मात्र आश्वासन ही दे पाते हैं। बार-बार आश्वासन दे-देकर अब सभी नगर पार्षद परेशान हो चुके हैं। आमजन के सवालों से बचने के लिए अब पार्षद आर-पार की लड़ाई लडऩे के मूड़ में आ गए हैं। जिसके तहत वीरवार को पार्षदों का एक प्रतिनिधि मंडल एसडीएम कार्यालय पहुंचा और अपना दुखड़ा सुनाया।

नगर परिषद के प्रमुख तकनीकी अधिकारियों से सहित अनेक पद खाली पड़े हो जाने के कारण डबवाली के सभी 21 वार्डों के पार्षद शहर में विकास कार्य न करवा पाने के कारण स्वयं हो असहाय सा महसूस कर रहे हैं और अपने-अपने वार्ड वासियों को झूठ आश्वासन देते देते तंंग आ चुके हैं। जिसके चलते नगर पार्षदों में भारी रोष पनपता जा रहा है। पार्षदों ने यह भी चेतावनी दी है कि यदि संबधित विभाग व सरकार आगामी 19 मार्च तक स्थाई रूप से तकनीकी अधिकारियों सहित अन्य रिक्त पदों को नहीं भरती है तो 20 मार्च को नगर परिषद के मुख्य द्वार पर ताला लगा देंगे। पार्षदों ने यह भी आरोप लगाया है सिरसा जिला के पंाचों विधानसभा की नगर परिषद और नगर पालिकाओं के माध्यम से काम हो रहो हैं लेकिन डबवाली शहर से सरकार द्वारा सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। इस विषय को लेकर वीरवार को अनेक पार्षद एसडीएम से मिले और उन्हें विकास कार्य करवाने में आ रही मुश्किलों के बारे में अवगत करवाया। इस अवसर पर नगर परिषद अध्यक्षा सुमन जोइया, उप प्रधान कृष्ण लाल बॉबी,पार्षद विनोद बांसल, रविन्द्र बिंदू, मधु बागड़ी, रेखा रानी, अंजु बाला, युद्धवीर रंगीला सहित पार्षद प्रतिनिधि भी मौजूद थे। पार्षद विनोद बांसल ने एसडीएम के समक्ष अपनी बात रखते हुए कहा कि वह लोग शहर के लोगों की अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतर रहे जिसका मुख्य कारण परिषद में तकनीकी अधिकारियों सहित अनेक पदों का खाली होना है। इस पर संज्ञान लेते हुए एसडीएम ेने कहा कि वह आज ही जिला उपायुक्त को यह अनुरोध पे्रषित कर देंगी कि डबवाली नगर परिषद को स्थाई रूप से एमई, जेई व अन्य अधिकारी व कर्मचारी नियुक्त करने का काम किया जाए ताकि परिषद के माध्यम से होने वाले विकास कार्य करवाने में किसी तरह की असुविधा का सामना पार्षदों को न करना पड़ा।

इसके उपरांत बीते वर्ष दिसम्बर माह में हुई नगर परिषद की आम बैठक में रखे मुद्दों के अनुमोदन को लेकर ईओ विजय पाल यादव से रिपार्ट तलब की। इओ यादव ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की लेकिन एसडीएम महोद उनक रिपोर्ट से संतुष्ट नहीं हुई और एक-एक मुद्दे को विस्तार से पढकर सुनाने के आदेश दिए। लगभग पौने घंटे की अवधि तक इओ ने एक-एक मुद्दे को एसडीएम के समक्ष रखा। बीच-बीच में अनेक बार इओ महोदय को एसडीएम के सवालों के जवाब देने पड़े और अनेक सवालों के स्टीक जवाब तक नहीं दे पाए। एक जेई के तीन माह की मैडीकल छुट्टी पर चले जाने पर भी एसडीएम रानी नागर ने सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि निजी चिकित्सक की मैडिकल रिपोर्ट पर इतनी लंबी छुटी पर जाने पर संदेह उत्पन्न होता है। उन्होंने कहा कि उक्त जेई की रिपोर्ट तैयार कर उन्हें दें ताकि उनके स्थान पर किसी अन्य जेई की नियुक्ति करवाई जा सके। दिसम्बर माह में हुई बैठक मेें लगभग तीन दर्जन से अधिक मुद्दों को शामिल किया गया था लेकिन अनेक खामियां होने के कारण यह आगे नहीं बढ़ पाई। एसडीएम रानी नागर ने दिसम्बर माह में हुई आम बैठक में रखे गए मुद्दो को एमई के मुख से सुनने के बाद पार्षदों की सहमति के लिए एक-एक पार्षद हस्ताक्षर अपने समक्ष करवाकर फाइल जिला उपायुक्त को भेजने की बात कही। अंत में पार्षदों ने एसडीएम नागर को अपनी मांगों से परिपूर्ण हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन सौंपा।
प्रतिक्रियाएँ:

About Author

Advertisement

एक टिप्पणी भेजें