?? Dabwali ????? ?? ???? ????, ?? ?? ?? ??? ???? ??????? ???? ?? ??? ?? ??????? ?? ?????????? ?? ?? ??????, ?? ????? ?? ???? ???????? ???? ???? dblnews07@gmail.com ?? ???? ??????? ???? ?????? ????? ????? ?? ????? ?????????? ?? ???? ???? ??? ?? ???? ?????? ????? ???? ????? ??? ?? 9416682080 ?? ???-??, ????-?? ?? ?????? ?? ???? ??? 9354500786 ??

Trending

3/recent/ticker-posts

Labels

Categories

Tags

Most Popular

Secondary Menu
recent
Breaking news

Featured

Haryana

Dabwali

Dabwali

health

[health][bsummary]

sports

[sports][bigposts]

entertainment

[entertainment][twocolumns]

गांव डबवाली में लिखे देश विरोधी नारे, आतंकवादी गुरपतवंत सिंह पन्नू ने ली जिम्मेदारी

डबवाली न्यूज़ 

 बीआर अंबेडकर कॉलेज डबवाली (br ambedkar college dabwali) की दीवारों पर खालिस्तानी जिंदाबाद और ब्राह्मण हरियाणा छोड़ो (brahmins leave haryana slogans in sirsa) के नारे लिखे मिले. एक की कॉलेज की दीवारों पर 6 जगह इस तरह के नारे देखने को मिले हैं. डबवाली शहर थाना पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है

.बता दें कि सिरसा का डबवाली राजस्थान और पंजाब बॉर्डर पर स्थित है. ऐसे में डबवाली पुलिस राजस्थान और पंजाब में भी जांच का दायरा बढ़ा सकती है. बीआर अंबेडकर कॉलेज (br ambedkar college dabwali) की दीवारों पर 6 जगह ये नारे (anti caste slogans in sirsa) लिखे हुए हैं. डबवाली शहर थाना प्रभारी सत्यवान ने बताया कि फिलहाल मामले की जांच की जा रही है.सिरसा पुलिस के पास सूचना आई थी कि कॉलेज की दीवार पर 6 जगह खालिस्तान जिंदाबाद (khalistan zindabad slogans in sirsa) लिखा हुआ है. सूचना मिलते ही डबवाली पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच में जुट गई. जांच अधिकारी ने कहा कि हर एंगल से मामले की जांच की जा रही है. कॉलेज के बाहर सीसीटीवी नहीं है. जिसकी वजह से अभी तक आरोपी की पहचान नहीं हो पाई है.

बता दें कि इससे पहले जेएनयू स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज की दीवारों पर असामाजिक तत्वों ने ब्राह्मण समुदाय के खिलाफ अमर्यादित नारे लिखे. दीवारों पर लाल रंग से लिखा गया है कि 'ब्राह्मणों कैंपस छोड़ो', 'ब्राह्मणों-बनियों हम तुम्हारे लिए आ रहे हैं, तुम्हें बख्शा नहीं जाएगा' और 'शाखा लौट जाओ'. विश्वविद्यालय के कई छात्र संगठनों ने जेएनयू परिसर की दीवारों पर लिखे ब्राह्मण और बनिया विरोधी नारों पर अपनी नाराजगी व्यक्त की.


No comments: