?? Dabwali ????? ?? ???? ????, ?? ?? ?? ??? ???? ??????? ???? ?? ??? ?? ??????? ?? ?????????? ?? ?? ??????, ?? ????? ?? ???? ???????? ???? ???? dblnews07@gmail.com ?? ???? ??????? ???? ?????? ????? ????? ?? ????? ?????????? ?? ???? ???? ??? ?? ???? ?????? ????? ???? ????? ??? ?? 9416682080 ?? ???-??, ????-?? ?? ?????? ?? ???? ??? 9354500786 ??

Trending

3/recent/ticker-posts

Labels

Categories

Tags

Most Popular

Secondary Menu
recent
Breaking news

Featured

Haryana

Dabwali

Dabwali

health

[health][bsummary]

sports

[sports][bigposts]

entertainment

[entertainment][twocolumns]

गंगा गांव तीन सालों से महाग्राम की जगह महासंग्राम बन कर रह गया है:अमित सिहाग

महाग्राम योजना के तहत गांव गंगा में हो रहे विकास कार्यों के दौरान ग्रामीणों को आ रही मुश्किलों को अमित सिहाग ने विधानसभा में किया बयां
महाग्राम योजना के तहत किये जा रहे विकास कार्यों में हो रहे विलंब से ग्रामीणों को हो रही दिक्कतों के चलते गांव गंगा महाग्राम की जगह महासंग्राम बन गया है। यह बात आज हलका डबवाली के विधायक अमित सिहाग ने विधानसभा में कही।सिहाग ने कहा कि अगस्त 2019 में महाग्राम योजना के तहत गांव गंगा में विकास कार्य शुरू हुए थे और कहा गया था कि 18 महीनों में काम पूरा हो जाएगा, लेकिन उसके बाद विधानसभा की एस्टीमेट कमेटी में मुझे लिखित में आश्वासन दिया गया कि दिसंबर 2021 में काम पूरा कर दिया जाएगा और अब आज सरकार द्वारा आश्वासन दिया जा रहा है कि काम 31 दिसंबर 2023 तक काम पूरा होगा।उन्होंने कहा कि इस प्रकार बार बार आश्वासन देकर सरकार गुमराह करने का काम कर रही है।
सिहाग ने कहा कि अभी तक ना तो गांव में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) बना है, ना ही जलघर को पाइप लाइन के साथ नहर से जोड़ा गया है व न ही सीवरेज डालने के लिए उखाड़ी गई गलियों को दोबारा बनाया गया है। सिहाग ने तस्वीरों के जरिए गांव में उड़ रही धूल मिट्टी को विधानसभा में दिखाया और कहा कि इस धूल के चलते बहुत से ग्रामवासियों को सांस की बीमारी लग चुकी है। उन्होंने कहा कि गांव में डाले गए सीवरेज के ढक्कन ऊंचे होने के चलते जहां उनसे गाड़ियां टकरा कर खराब हो रही हैं,वहीं लोगों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है लेकिन सरकार केवल आश्वासन तक ही सीमित है।
अमित सिहाग ने हाल ही के मॉनसून सत्र में हुई बरसात के दौरान गंगा गांव की तस्वीरें दिखाते हुए बताया कि किस प्रकार से गांव में ट्रक व अन्य वाहन सड़कों के धंसने के कारण वहां पर फंसे हुए हैं। उन्होंने कहा कि इस योजना में बड़ी कमी यह रही कि टेंडर प्रक्रिया के दौरान गलियों को उखाड़ कर सीवरेज डालने का काम तो ठेकेदार को दिया गया, लेकिन उसके बाद गलियां बनाने के लिए इसमें कोई जिम्मेदारी तय नहीं की गई। जिसके चलते कोई भी विभाग या ठेकेदार गली बनाने को तैयार नहीं है।
सिहाग की बात पर संबंधित विभाग के मंत्री ने आगामी 31 अक्टूबर तक सभी गलियों को बनवाने का आश्वासन दिया। जिस पर सिहाग ने कहा कि अगर दी गयी तारीख तक फिर से काम पूरा नहीं होता और यह केवल आश्वासन साबित होता है तो मंत्री जी खुद वहां पर आकर बनती कार्रवाई करवाएं ताकि जनता का विश्वास सरकार पर बना रहे।
सिहाग ने सवाल किया कि इसके बाद गांव चौटाला का महाग्राम योजना के तहत विकास कार्य शुरू हो रहा है क्या उसमें सीवरेज डालने के बाद गलियां बनाने के लिए टेंडर में कोई प्रावधान होगा?ताकि आमजन को कोई असुविधा न हो। जिस पर विभागीय अधिकारी ने उन्हें विश्वास दिलाया कि चौटाला गांव में गंगा गांव में हुई गलती को दोहराया नहीं जाएगा और अलग से 7 करोड रुपए टेंडर प्रक्रिया में शामिल कर गलियां बनवाने का भी साथ में ही टेंडर कर दिया जाएगा। अधिकारी ने विधायक को विश्वास दिलाया कि गंगा गांव में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) की डीएनआईटी बनाकर एक माह के अंदर काम शुरू करवा दिया जाएगा।

No comments: